दिव्यांग बच्चों की खेलकूद प्रतियोगिता में सिर्फ तीन फीसदी उपस्थिति

- संवाद सहयोगी कायमगंज गांव रायपुर कालेज में हुई बेसिक स्कूलों के दिव्यांग बच्चों की ब्ल

JagranPublish: Mon, 29 Nov 2021 10:38 PM (IST)Updated: Mon, 29 Nov 2021 10:38 PM (IST)
दिव्यांग बच्चों की खेलकूद प्रतियोगिता में सिर्फ तीन फीसदी उपस्थिति

-

संवाद सहयोगी, कायमगंज : गांव रायपुर कालेज में हुई बेसिक स्कूलों के दिव्यांग बच्चों की ब्लाक स्तरीय खेलकूद प्रतियोगिता में सूचना के अभाव में सिर्फ तीन प्रतिशत उपस्थिति रही। जिससे सभी प्रतियोगिताएं नहीं हो सकीं। उन्हीं बच्चों के बीच कुछ प्रतियोगिताओं की औपचारिकता कर ली गई। कायमगंज विकास खंड में संचालित बेसिक शिक्षा विभाग के स्कूलों में कुल 344 बच्चे दिव्यांग श्रेणी के हैं। इन दिव्यांग बच्चों के उत्साहवर्धन के लिए गांव रायपुर के कालेज में खेलकूद प्रतियोगिता आयोजित की गई, लेकिन सभी बच्चों को सूचना न पहुंचने से उपस्थिति नगण्य रही। जिससे दस बजे शुरू होने वाली प्रतियोगिता 12 बजे के बाद शुरू की गई। उस समय तक सिर्फ सात बच्चे ही मौजूद थे। उन बच्चों को निबंध प्रतियोगिता के लिए बैठाकर कापियां दी गई। खंड शिक्षा अधिकारी राजीव श्रीवास्तव ने कम उपस्थिति पर संबंधित अध्यापकों से नाराजगी जताई, तो अध्यापक तलाश कर तीन बच्चों को और ले आए। दोपहर 1:30 बजे तक निबंध के अतिरिक्त अन्य कोई प्रतियोगिता शुरू न हो सकी। जबकि आयोजन में 50 मीटर दौड़, 100 मीटर दौड़, रस्साकसी, कुर्सी दौड़, छूकर पहचानों, चित्रकला व निबंध प्रतियोगिताएं होनी थीं। शाम को संकुल शिक्षक जयगोपाल की ओर से भेजी गई सूचना के मुताबिक बाद में चार बच्चे और आ गए थे। जिससे दौड़, कुर्सी दौड़ व निबंध प्रतियोगिताएं कराई गई। जिसमें मोहित, सुमित, अनामिका व चंदन प्रथम, चरन सिंह, शिवकरन, दुर्गा, मोहित आदि द्वितीय स्थान पर रहे। खंड शिक्षा अधिकारी राजीव श्रीवास्तव ने विजेताओं को पुरस्कृत किया। एआरपी ओमदत्त शर्मा, राजकुमार, अवधेश शाक्य, महेंद्र सिंह पाल आदि मौजूद रहे।

प्रतियोगिता के दिन ही दी गई जानकारी

पौत्र मोहित कक्षा चार का छात्र है और वह आंख से दिव्यांग है। वह उसे लेकर आए हैं। सोमवार को होने वाली प्रतियोगिता के लिए सोमवार को ही सुबह आठ बजे उन्हें बताया गया कि बच्चे के साथ स्कूल आना है।

रामस्वरूप, गांव धर्मपुर पुत्री अल्फीजा कक्षा चार की छात्रा है। वह मानसिक तौर पर दिव्यांग है। उसी को लेकर आए हैं। खेलकूद होने के समय ही दोपहर 12 बजे उन्हें जानकारी दी गई, तो वह सब काम छोड़कर अपनी पुत्री को लेकर यहां आ गए हैं।

असलम, गांव लखनपुर पुत्र सनोज कक्षा तीन में पढ़ता है और मुंह व गले की दिव्यांगता के कारण बोल नहीं पाता है, उसे लेकर आए हैं। सोमवार को सुबह ही हमें बताया गया कि बच्चे की खेलकूद की प्रतियोगिता है। पहले सूचना मिल जाती तो तैयारी व उसे लाने में सहूलियत रहती।

ओमवीर, गांव धर्मपुर

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept