लाइन सामग्री न मिलने से फसलें सूखीं, फूट-फूटकर रोया किसान

जागरण संवाददाता फर्रुखाबाद बिजली विभाग के स्टोर में लाइन सामग्री देने के नाम पर पहले से ही

JagranPublish: Mon, 29 Nov 2021 04:54 PM (IST)Updated: Mon, 29 Nov 2021 04:54 PM (IST)
लाइन सामग्री न मिलने से फसलें सूखीं, फूट-फूटकर रोया किसान

जागरण संवाददाता, फर्रुखाबाद : बिजली विभाग के स्टोर में लाइन सामग्री देने के नाम पर पहले से ही अवैध वसूली के आरोप लगते रहे हैं। ताजा मामला कायमगंज खंड कार्यालय क्षेत्र के गांव गनेशपुर का सामने आया है। तीन वर्ष पूर्व नलकूप का बिजली कनेक्शन स्वीकृत होने के बावजूद किसान को लाइन बनाने के लिए सामग्री नहीं दी गई। फसल सूखने पर पीड़ित किसान सोमवार को अधीक्षण अभियंता कार्यालय पहुंचा। उनके न मिलने पर किसान फूट-फूटकर रोने लगा और अधिशासी अभियंता नगरीय से मिलकर सामान दिलाने की गुहार लगाई।

कायमगंज क्षेत्र के गांव गनेशपुर निवासी अभिलाख सिंह ने वर्ष 2019 में नलकूप के बिजली कनेक्शन के लिए आवेदन किया था। विभाग की ओर से कुछ दिन बाद ही कनेक्शन स्वीकृत कर दिया गया। लाइन बनाने को सामग्री दिलाने के लिए पत्रावली स्टोर को भेज दी गई। स्टोर में तैनात कर्मचारियों ने उनसे 20 हजार रुपये सुविधा शुल्क मांगा। रुपये न देने पर उन्हें सामान नहीं दिया गया। स्टोर के कर्मचारियों ने उन्हें बताया कि उनके कनेक्शन पर अभी तक ऊपर से सामग्री नहीं आयी है। 25 अक्टूबर 2021 को मीटर विभाग की ओर से एक ठेकेदार के कर्मचारी ने नलकूप संचालित दिखाकर मीटर उन्हें सौंप दिया और सीलिग प्रमाणपत्र भी दे दिया गया। इस पर अभिलाख सिंह खंड कार्यालय पहुंचे तो पता चला कि उनके पर स्टोर से कई माह पूर्व लाइन सामग्री जारी की जा चुकी है। कागजों में कनेक्शन दिखाकर 90 हजार रुपये का बिल भी बना दिया गया। अभिलाख सिंह ने अधिशासी अभियंता राजेंद्र बहादुर के सामने फूट-फूटकर रोते हुए कहा कि उनकी फसल सूखकर बरबाद हो गई है। एक सप्ताह के अंदर सामान न मिला तो कार्यालय परिसर में आत्मदाह कर लेंगे। एमडी, मुख्य अभियंता व अधीक्षण अभियंता को भेजी गई शिकायत में आरोप लगाया गया कि जब वह सामग्री जारी होने के दस्तावेज लेकर स्टोर पहुंचे तो कर्मचारियों ने उनके साथ गालीगलौज कर अभद्रता की।

मुख्य अभियंता राकेश वर्मा ने बताया कि मामले की जांच को कमेटी गठित कर दी गई है। रिपोर्ट मिलने पर कार्रवाई की जाएगी।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept