महान नायक के रूप में नेताजी को विभिन्न वर्गों ने किया नमन

श्रद्धापूर्वक मनाई गई 125वीं जयंती

JagranPublish: Sun, 23 Jan 2022 11:39 PM (IST)Updated: Sun, 23 Jan 2022 11:39 PM (IST)
महान नायक के रूप में नेताजी को विभिन्न वर्गों ने किया नमन

अयोध्या : नेताजी सुभाषचंद्र बोस की 125वीं जयंती श्रद्धापूर्वक मनाई गई। लोगों ने जगह-जगह अपने महान राष्ट्र नायक को याद किया। नगर निगम कार्यालय परिसर में स्थित नेताजी की प्रतिमा पर माल्यार्पण करने के बाद सांसद लल्लू सिंह ने कहा, देश के नौनिहालों को नेताजी की जीवन गाथा से परिचित कराया जाना चाहिए। कार्यक्रम की अध्यक्षता सुभाषचंद्र बोस राष्ट्रीय विचार केंद्र के अध्यक्ष शक्ति सिंह ने की। उन्होंने कहा, नेता जी के मूल्यों और संस्कारों को ग्रहण कर देश को चरम पर पहुंचाया जा सकता है।

इस मौके पर विधायक वेदप्रकाश गुप्त भी मौजूद रहे। उन्होंने कहा, देश के लिए नेताजी का योगदान अमूल्य है। यहां नेताजी को नमन करने वालों में नाका हनुमानगढ़ी के महंत रामदास, जिला सहकारी बैंक के सभापति धर्मेंद्र प्रताप सिंह टिल्लू, पूर्व पालिकाध्यक्ष विजय गुप्त, शहीद शोध संस्थान के निदेशक सूर्यकांत पांडेय, सपा नेता मनोज जायसवाल, डा.शैलेंद्र विक्रम सिंह, भाजपा नेता बब्लू खान, छावनी परिषद के उपाध्यक्ष रूपेश ओझा,व्यापारी नेता सुशील जायसवाल, चंद्रप्रकाश गुप्त, कांग्रेस नेता उग्रसेन मिश्र, विचार केंद्र के प्रवक्ता केशव बिगुलर, वासुदेव मौर्य, गोकरन दिवेदी, अमल गुप्त, देवेंद्र मिश्र दीपू, पप्पू दलाल, सुनील श्रीवास्तव, वैश्य विनोद जायसवाल, अशोक बेदी,रीना द्विवेदी, लता कश्यप, भारती सिंह, ज्ञान केसरवानी, नीरज श्रीवास्तव, राजेश सिंह, सुप्रीत कपूर, जिला पंचायत के पूर्व सदस्य गिरीश पांडेय डिप्पुल, सुनील शास्त्री, पार्षद अनिल सिंह एवं बुद्धिपाल प्रजापति, मुरारी सिंह यादव आदि रहे। नाका स्थित मरी माता मंदिर के सामने पुजारी चंचलदास के संयोजन में भी नेताजी को नमन किया गया। जनवादी नौजवान सभा के जिलाध्यक्ष धीरज द्विवेदी के देवकाली के बछड़ा स्थित आवास पर नेताजी को नमन किया गया। नमन करने वालों में प्रदेश महासचिव सत्यभान सिंह जनवादी, मंडल प्रभारी विनोद सिंह, अजयकुमार शुक्ल, रीना शुक्ला, आनंद सिंह, सीमा तिवारी, प्रीति, अनुष्का, राजेश्वर द्विवेदी, आकांक्षा, अभिजीत शामिल रहे।

--------------

बाबा की समाधि पर अर्पित हुई श्रद्धांजलि

- गुप्तारघाट स्थित गुमनामी बाबा की समाधि पर भी श्रद्धांजलि दी गई। श्रद्धांजलि देने वालों में हिदू महासभा के राष्ट्रीय प्रवक्ता अधिवक्ता मनीष पांडेय, वरिष्ठ उपाध्यक्ष महंत रामलोचनशरण शास्त्री, जिला उपाध्यक्ष प्रवीण सनाढ्य, कुलदीप श्रीवास्तव, अरविद शास्त्री, चंद्रहास दीक्षित, रविकांत, अनुपम, आलोक त्रिपाठी, अमन, नीरज आदि रहे।

-----------------------

चित्र नहीं चरित्र की प्रतिष्ठा करें : गनी

मुस्लिम लीग के प्रांतीय अध्यक्ष डा. नजमुल हसन गनी ने कहा, नेताजी को चित्र की पूजा तक ही सीमित नहीं रखना है, उनका चरित्र भी प्रतिष्ठित करना होगा। उन्होंने याद दिलाया कि नेताजी के निजी अंगरक्षकों से लेकर संपूर्ण आाजाद हिद फौज में बड़ी संख्या में मुस्लिम थे। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से नेताजी की तरह मुस्लिमों को समुचित अवसर देने, उन पर भरोसा करने और उनके प्रति आत्मीयता बरतने की नीति अपनाने की अपेक्षा जताई।

-------------------

गांधी को महात्मा नाम नेताजी ने ही दिया

- कांग्रेस कार्यालय कमला नेहरू भवन पर गोष्ठी आयोजित की गई। गोष्ठी की अध्यक्षता अयोध्या विधानसभा प्रभारी अनूप नाग ने की। उन्होंने बताया, नेताजी आजादी के पहले कांग्रेस के दो बार राष्ट्रीय अध्यक्ष रहे और उन्होंने देश की आजादी के लिए आजाद हिद फौज की स्थापना की तथा उन्होंने अपनी फौज की दो ब्रिगेड का नाम महात्मा गांधी और जवाहरलाल नेहरू के नाम पर रखा। संचालन महानगर अध्यक्ष वेद सिंह कमल ने किया। कहा, गांधीजी को महात्मा की उपाधि नेताजी ने ही दी थी। गोष्ठी में एआइसीसी सदस्य उग्रसेन मिश्र, शरद शुक्ल, रामनरेश मौर्य, जिला प्रवक्ता डीएन वर्मा, प्रेमकुमार पांडेय, जमील अहमद, प्रेमचंद्र मौर्य, सुरेश मांझी, भूपेंद्र, अमरजीत मौर्य, युवा नेता राकेश तिवारी आदि ने भी नेताजी को नमन किया।

----------------------

साकेत महाविद्यालय में संवाद एवं गायन प्रतियोगिता

- साकेत महाविद्यालय में पराक्रम दिवस के रूप में नेताजी की जयंती मनाई गई। इस अवसर पर आजादी के 75 वर्षों में भारत का अपेक्षित विकास विषयक वाद विवाद प्रतियोगिता एवं काव्य पाठ किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि जिला समाज कल्याण अधिकारी अमित कुमार सिंह रहे। अध्यक्षता प्राचार्य डा. अभय कुमार सिंह ने की। प्रतियोगिता में 15 प्रतिभागी रहे। वाद विवाद प्रतियोगिता में अमन कुमार शर्मा एवं दिशा अग्रवाल ने अपना-अपना पक्ष प्रस्तुत करते हुए प्रथम स्थान प्राप्त किया। वीर रस एवं देश भक्ति गीत प्रतियोगिता में नुसरत जहां प्रथम तथा निमिषा राय दूसरे स्थान पर रहीं। कार्यक्रम का संचालन एवं संयोजन डा. अशोक कुमार मिश्रा ने किया। सह संयोजन डा. मनीष सिंह का रहा।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept