डीएम ने किया धान क्रय केंद्रों का निरीक्षण

जिलाधिकारी आशुतोष निरंजन ने सोमवार को धान क्रय केंद्रों का औचक निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान गड़बड़ी मिलने पर उन्होंने केंद्र प्रभारियों को चेतावनी दी।

JagranPublish: Mon, 06 Dec 2021 10:01 PM (IST)Updated: Mon, 06 Dec 2021 10:01 PM (IST)
डीएम ने किया धान क्रय केंद्रों का निरीक्षण

देवरिया: जिलाधिकारी आशुतोष निरंजन ने सोमवार को धान क्रय केंद्रों का औचक निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान गड़बड़ी मिलने पर उन्होंने केंद्र प्रभारियों को चेतावनी दी। उन्होंने कहा कि क्रय केंद्र पर आने वाले हर छोटे किसानों का धान अवश्य खरीदें। इसमें किसी प्रकार की लापरवाही नहीं होनी चाहिए। अगर लापरवाही हुई तो सख्त कार्रवाई की जाएगी।

रुच्चापार क्रय केंद्र पर पाया गया कि नाम दर्ज करने के लिए कोई रजिस्टर ही नहीं बनाया गया है। जिस पर जिलाधिकारी ने नाराजगी जाहिर की और नाम दर्ज करने के लिए रजिस्टर तैयार करने का निर्देश दिया। बैतालपुर धान क्रय केंद्र में न तो केंद्र पर नमी मापक यंतत्र मिला और न ही रजिस्टर। जिस पर नाराजगी जताते हुए जिलाधिकारी ने जल्द से जल्द रजिस्टर बनाने के साथ ही नमी वाले धान को दर्ज करने का निर्देश दिया। जिलाधिकारी ने कहा कि नियमित रुप से केंद्रों को खोला जाए एवं सुचारू रुप से धान की खरीदारी किसानों से की जाए। क्रय केंद्रों के निरीक्षण का यह सिलसिला आगे भी जारी रहेगा। जिस केंद्र पर धान की खरीद में लापरवाही व अनियमितता पाई जाएगी, उस केंद्र प्रभारी के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। इस दौरान अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व नागेंद्र सिंह व अन्य अधिकारी मौजूद रहे।

रैकिग खराब हुई तो जिम्मेदारों पर होगी कार्रवाई

विकास भवन के गांधी सभागार में सोमवार की शाम जिलाधिकारी आशुतोष निरंजन ने विकास एवं निर्माण कार्यों की मासिक समीक्षा की। उन्होंने कहा कि जिन विभागों के परियोजनाओं में ए श्रेणी से निम्न स्तर की उपलब्धि है, वह विशेष रूप से प्रयास कर अपने रैकिंग में सुधार लाएं। किसी भी दशा में उनकी वजह से जनपद की रैकिग खराब नहीं होनी चाहिए। लापरवाही बरतने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि सिचाई, जल संसाधन विभाग, स्वास्थ्य विभाग अपने कार्यों में सुधार लाएं। आयुष्मान कार्ड बनाए जाने तेजी लाई जाए। उन्होंने कहा कि सभी घटक एक साथ कार्य शुरू करें, तभी उपेक्षित प्रगति आएगी। उन्होंने डीएसटीओ को निर्देश देते हुए कहा कि ऐसे कम प्रगति वाले बिदुओं में से संबंधित अधिकारी को श्रेणी में सुधार के लिए प्रगति फीसद निर्धारित किए जाएं, ताकि उसकी वह पूर्ति करते हुए सुधार लाएं। विशुनपुरा, बहोर धनौती व धमऊर में निर्माणाधीन पीएचसी कार्य को दिसंबर में हर हाल में पूर्ण किया जाए। इस दौरान मुख्य विकास अधिकारी रवींद्र कुमार, सीएमओ डा.आलोक पांडेय, डीएसटीओ मनोज कुमार श्रीवास्तव, मृत्युंजय चतुर्वेदी, बीएसए संतोष कुमार राय, अनुराग यादव,राकेश श्रीवास्तव आदि मौजूद रहे।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept