This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

प्रशासन के रोक के बावजूद खेतों में जल रही पराली, अफसर बेखबर

शासन-प्रशासन ने खेतों में पराली न जलाने का सख्त निर्देश है। इसके बावजूद खेतों में पराली जलाई जा रही है। अक्सर रात के वक्त किसान पराली जला दे रहे हैं और अधिकारियों को इसकी भनक भी नहीं लग रही है।

JagranSun, 28 Nov 2021 09:59 PM (IST)
प्रशासन के रोक के बावजूद खेतों में जल रही पराली, अफसर बेखबर

देवरिया: शासन-प्रशासन ने खेतों में पराली न जलाने का सख्त निर्देश है। इसके बावजूद खेतों में पराली जलाई जा रही है। अक्सर रात के वक्त किसान पराली जला दे रहे हैं और अधिकारियों को इसकी भनक भी नहीं लग रही है।

लोग अभी भी पराली जलाने से बाज नहीं आ रहे हैं। रामपुर कारखाना थाना क्षेत्र के बैकुंठपुर ,भीमपुर, गौरा, रघवापुर, सिरसिया, हिरंदापुर आदि विभिन्न गांव में खुलेआम धान की पराली जलाई जा रही है। इस बार काफी बरसात होने से धान की फसल जमीन पर गिर गई। जिससे कटाई में काफी दिक्कत हुई है। कुछ किसानों ने कंपाइन से ही धान की फसल कटवा कर उसकी लड़ाई करा लिया, तो कुछ किसान हाथ से अपनी फसल की कटाई कर ली, लेकिन खेत में बच्चे डंठल को जलाने के लिए उनके पास और कोई विकल्प नहीं दिख रहा। खेत में पड़े शेष डंठल को जलाने के सहारे ही क्षेत्र को साफ-सुथरा बनाने में किसान जुटे रहे हैं। जबकि धान के बाद मड़ाई से जो जो पुआल निकल रहा है। उसे भी किसान खेतों में कहीं किनारे रखने के बजाय खुलेआम जला रहे हैं। जिससे सरकार की मंशा पर पानी फिर रहा है। यही हाल तरकुलवा थाना क्षेत्र में भी है। कोंहवालिया, कंचनपुर, तरकुलवा, दुबे टोला, हरपुर, नारायणपुर, सोनहुला, रामपुर, मुंडेरा आदि जगह पर किसान खुलेआम पराली जलाने का कार्य कर रहे हैं। निजी अस्पताल में इलाज के दौरान महिला की मौत, स्वजन ने किया हंगामा

भटनी के उपनगर के नकहनी चौराहे पर स्थित एक निजी अस्पताल में इलाज के दौरान महिला की मौत हो गई। चिकित्सक पर लापरवाही का आरोप लगा स्वजन ने जमकर हंगामा किया। मौके पर पहुंची पुलिस ने पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद आगे की कार्रवाई करने की बात कही। जिसके बाद हंगामा शांत हो सका। क्षेत्र के बेहराडाबर की रहने वाली शारदा पत्नी श्यामसुंदर के कमर, पैर व शरीर में दर्द की समस्या होने पर स्वजन ने निजी अस्पताल में भर्ती कराया। चिकित्सक ने इंजेक्शन दिया, जिसके बाद शारदा की हालत और गंभीर हो गई। इसके बाद चिकित्सक ने आक्सीजन दिया। इस दौरान ही शारदा ने दम तोड़ दिया। इसके बाद स्वजन हंगामा करने लगे और चिकित्सक पर लापरवाही का आरोप लगाने लगे। प्रभारी निरीक्षक गोपाल पांडेय ने कहा कि शव का पोस्टमार्टम कराया गया है। रिपोर्ट आने के बाद कार्रवाई की जाएगी।

Edited By Jagran

देवरिया में कोरोना वायरस से जुडी सभी खबरे

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!