एक मान्यता पर नहीं चल सकेंगे दो स्कूल

अमान्य संचालन पर बेसिक शिक्षा विभाग अब सख्त हो गया है। एक मान्यता पर दो स्कूलों को संचालित करना महंगा पड़ जाएगा। इसके अलावा मानकों को पूरा न करने पर भी कार्रवाई का शिकंजा कसा जाएगा।

JagranPublish: Fri, 21 Jan 2022 08:57 PM (IST)Updated: Fri, 21 Jan 2022 08:57 PM (IST)
एक मान्यता पर नहीं  चल सकेंगे दो स्कूल

बुलंदशहर, जेएनएन। अमान्य संचालन पर बेसिक शिक्षा विभाग अब सख्त हो गया है। एक मान्यता पर दो स्कूलों को संचालित करना महंगा पड़ जाएगा। इसके अलावा मानकों को पूरा न करने पर भी कार्रवाई का शिकंजा कसा जाएगा। अपर मुख्य सचिव के निर्देश पर बीएसए ने निजी स्कूल संचालकों को यह चेतावनी दी है।

दरअसल, जिलेभर में पहली से आठवीं कक्षा तक के सैकड़ों निजी स्कूल संचालित हैं। इनमें कुछ मान्यता की शर्तो पर खरा नहीं उतरते हैं। आधे-अधूरे मानकों के साथ चल रहे हैं। नियमानुसार इनमें शिक्षक एवं स्टाफ भी तैनात नहीं है। जबकि कुछ ऐसे हैं, जो एक ही मान्यता पर दो-दो संचालित हो रहे हैं। जबकि अफसर इस ओर देखना तक गंवारा नहीं समझते हैं। लापरवाही के चलते इनका अमान्य संचालन बदस्तूर जारी है। अब शासन की ओर से ऐसे विद्यालयों पर शिकंजा कसने के निर्देश मिले हैं। जिसके चलते बीएसए ने सभी खंड शिक्षाधिकारियों से ऐसे विद्यालयों की सूची मांगी है। ताकि चुनाव बाद नए सत्र में इनका संचालन रोका जा सके। इन्होंने कहा ..

अमान्य विद्यालयों के संचालन रोकने के लिए शासन की ओर निर्देश दिए गए हैं, जिस पर सभी खंड शिक्षाधिकारियों से ऐसे विद्यालयों की सूची मांगी है, ताकि आगामी सत्र में इनका संचालन रोका जा सके।

-अखंड प्रताप सिंह, बीएसए

....

राज्यों की संस्कृति से करा रहे परिचित

बुलंदशहर, जेएनएन। दीवान पब्लिक स्कूल में आनलाइन पैलेटफेस्ट कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। इसमें विद्यार्थियों को आसाम, गुजरात, दिल्ली, केरल, उप्र सहित अन्य राज्यों की संस्कृति से परिचित कराया जा रहा है।

प्रधानाचार्य सारिका क्रिस्टोफर ने बताया कि कार्यक्रम के पहले दिन देश की राजधानी में स्थित एतिहासिक इमारतों, पोशाक, गीत सहित प्रसिद्ध व्यंजनों की जानकारी दी गई। आगे भी उन्हें इसी तरह से अन्य राज्यों की संस्कृति से परिचित कराया जाएगा। स्कूल निदेशक डा. संजय दीवान, डा. गीतिका दीवान ने कार्यक्रम में प्रतिभाग करने वाले विद्यार्थियों का उत्साहवर्धन किया।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept