बुखार-खांसी होने पर अवश्य कराएं जांच

कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ रहे है। वर्तमान में एक हजार से अधिक कोरोना संक्रमित है लेकिन कोरोना की तीसरी लहर में पहली दो लहरों जैसी गंभीर स्थिति नहीं देखी गई। कई लोगों में खास लक्षण दिखाई नहीं दे रहे फिर भी वह जांच में पाजिटिव पाए जा रहे हैं।

JagranPublish: Wed, 19 Jan 2022 10:57 PM (IST)Updated: Wed, 19 Jan 2022 10:57 PM (IST)
बुखार-खांसी होने पर अवश्य कराएं जांच

बिजनौर, जागरण टीम। कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ रहे है। वर्तमान में एक हजार से अधिक कोरोना संक्रमित है, लेकिन कोरोना की तीसरी लहर में पहली दो लहरों जैसी गंभीर स्थिति नहीं देखी गई। कई लोगों में खास लक्षण दिखाई नहीं दे रहे फिर भी वह जांच में पाजिटिव पाए जा रहे हैं। बुखार, खांसी, बदन दर्द और भ्रम की स्थिति हो तो कोरोना प्रोटोकाल का पालन करने के साथ ही तुरंत चिकित्सक से संपर्क करना चाहिए।

कोरोना की तीसरी लहर चल रही है। संक्रमण लोगों को बीमार कर रहा है। फिर भी इस बार किसी संक्रमित की गंभीर स्थिति नहीं देखी जा रही है। वर्तमान में जिले में एक हजार से अधिक सक्रिय रोगी हैं, लेकिन एक भी रोगी अस्पताल में भर्ती नहीं है। सभी घर पर ही आइसोलेट हैं, जिन्हें स्वास्थ्य विभाग घर पर ही दवा उपलब्ध भी करा रहा है। तीसरी लहर में व्यक्ति के पाजिटिव आने की स्थिति में सैंपल लिए जाने के सातवें दिन उसे स्वस्थ्य माना जा रहा है। स्वस्थ्य होने के बाद उसे पुन: जांच कराने की आवश्यकता नहीं है। फिर भी रोगी को अगले सात दिन तक मास्क लगाने की अनिवार्यता है। जिला अस्पताल में कार्यरत वरिष्ठ फिजिशियन डा. राधेश्याम वर्मा बताते हैं कि कई दिनों तक 101 डिग्री से अधिक बुखार होने, सांस फूलन, पल्स आक्सीमीटर पर आक्सीजन का स्तर 94 फीसदी से कम आने अथवा चिकित्सक से संपर्क करना चाहिए। इसके अलावा अलग-अलग आयु में कोरोना के लक्षण अलग हो सकते हैं। छोटे बच्चों में कोविड के लक्षण

बुखार, खांसी, लगातार जुकाम होना, दूध लेना बंद करना, दस्त लगना, पसली चलना, निढाल पड़ना प्रमुख है। किशोरों में कोरोना के लक्षण

बुखार, खांसी, जुकाम, थकावट, सिरदर्द, बदन दर्द, स्वाद या गंध की चेतना का चला जाना, बुखार के साथ दस्त, बुखार के साथ त्वचा पर चकते पड़ते हैं। कोविड से बचाव एवं सावधानी

मास्क का सही तरीके से इस्तेमाल करें। नाक व मुंह को मास्क से ढंककर रखें। शारीरिक दूरी का पालन करें। अनावश्यक रूप से घर से बाहर न निकलें। लक्षण दिखाई देने से खुद को परिवार से अलग रखें एवं जांच अवश्य कराएं। बार-बार हाथों को साबुन अथवा सैनिटाइजर से साफ करे। चिकित्सक की सलाह पर दवा लें।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept