53 ग्राम पंचायतों में 15.90 लाख डंप, नहीं खरीदे उपकरण

गांवों में स्वच्छता और कीटनाशक दवाओं के।

JagranPublish: Wed, 22 Jun 2022 04:15 PM (IST)Updated: Wed, 22 Jun 2022 04:15 PM (IST)
53 ग्राम पंचायतों में 15.90 लाख डंप,  नहीं खरीदे उपकरण

53 ग्राम पंचायतों में 15.90 लाख डंप, नहीं खरीदे उपकरण

जागरण संवाददाता, ज्ञानपुर (भदोही) : गांवों में स्वच्छता और कीटनाशक दवाओं के छिड़काव के लिए गठित ग्रामीण स्वास्थ्य समिति कागजों में सिमटकर रह गई है। बीते साल 53 ग्राम पंचायतों में बने हेल्थ एवं वेलनेस सेंटर में स्वास्थ्य विभाग की ओर से भेजे गए 15.90 लाख रुपये अभी तक खर्च नहीं हो सके हैं। आलम यह कि मच्छर रोधी दवा का छिड़काव व फागिंग न कराने से गांवों में संक्रामक बीमारी का खतरा बढ़ गया है। मुख्य विकास अधिकारी भानु प्रताप सिंह ने प्रधानों को पत्र भेजकर तत्काल दवा का छिड़काव और स्वास्थ्य उपकरण खरीदने का निर्देश दिया है।

स्वास्थ्य विभाग की ओर से 53 ग्राम पंचायतों में हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर बने हैं। इनमें प्रत्येक वर्ष 30 हजार रुपये स्वच्छता व दवा वितरण, छिड़काव को भेजा जाता है। ग्राम प्रधान और एएनएम इस बजट को संयुक्त रूप से खर्च करते हैं। गांव में कीटनाशक दवा जैसे ब्लीचिंग पाउडर, एल्फास आदि का छिड़काव, क्लोरिन की गोली, फागिंग आदि पर यह धनराशि खर्च की जाती है। जिन ग्राम पंचायतों में ग्राम स्वास्थ्य समिति गठित है वहां दस हजार रुपये सालाना जाता है। वहां के प्रधान और एएनएम ने धन आहरित कर दवा का छिड़काव करा दिया है लेकिन वेलनेस सेंटर वाले गावों में अभी तक यह धनराशि खर्च नहीं की गई है। सीडीओ ने बताया कि ग्राम स्वास्थ्य स्वच्छता एवं पोषण दिवस को मजबूत बनाने के लिए इस धनराशि से वजन मापने की मशीन, ब्लड प्रेशर, यूरिन, हीमोग्लोबिन आदि की जांच करने की मशीन के अलावा दवा का छिड़काव आदि की व्यवस्था की जाती है। प्रधानों का आह्वान किया बारिश के पहले दवा का छिड़काव व जरूरी उपकरण खरीद लिए जाएं।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept