This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

बरेली में डेंगू का जहां इलाज हो रहा वहीं पैदा भी हो रहे मच्छर, आइये जानते हैं कौन सी हैं ये जगह

Dengue in Bareilly वर्ष 2018 के बाद एक बार फिर बरेली जिले में डेंगू और मलेरिया का प्रकोप भयावह हो गया है। मरीजों की संख्या में रिकार्ड बढ़ोतरी हो रही है। जिला अस्पताल में डेंगू मरीजों को भर्ती करने के लिए बनाए गए वार्ड भी फुल हो गए हैं।

Samanvay PandeyWed, 17 Nov 2021 08:46 AM (IST)
बरेली में डेंगू का जहां इलाज हो रहा वहीं पैदा भी हो रहे मच्छर, आइये जानते हैं कौन सी हैं ये जगह

बरेली, जेएनएन। Dengue in Bareilly : वर्ष 2018 के बाद एक बार फिर बरेली जिले में डेंगू और मलेरिया का प्रकोप भयावह हो गया है। मरीजों की संख्या में रिकार्ड बढ़ोतरी हो रही है। जिला अस्पताल में डेंगू मरीजों को भर्ती करने के लिए बनाए गए वार्ड भी फुल हो गए हैं। कहने के लिए तो स्वास्थ्य महकमा जिले भर में लोगों को जलभराव न होने देने के लिए जागरूक करने का दावा कर रहा है, लेकिन हकीकत शायद इससे जुदा है। जिम्मेदारों के आंगन में ही ये जानलेवा मच्छर पनप रहे हैं। दैनिक जागरण की पड़ताल में जिला अस्पताल और जिला महिला अस्पताल में ही कई जगह मच्छर पनपते मिले।

पुलिस चौकी के सामने ही डेरा : जिला अस्पताल की पैथोलाजी के बगल में पुलिस चौकी बनी है। चौकी गेट के ठीक सामने सीवर का ढक्कन उठा है और इससे निकले दूषित पानी में मच्छरों के लार्वा पनप रहे हैं। ऐसे में सवाल उठना लाजमी है कि रोज सैकड़ों मरीज जांच कराने के लिए लैब आते हैं। संभव है कि स्वस्थ इंसान को भी यहां से डेंगू या मलेरिया हो जाए।

जिला महिला अस्पताल : जिला महिला अस्पताल प्रदेश में नेशनल क्वालिटी एश्योरेंस स्टैंडर्ड यानि एनक्यूएएस में सर्टिफाइड है। वहीं शासन की ओर से निरीक्षण के लिए आने वाली टीमों से भी प्रबंधन को खूब सराहना मिलती रही है, लेकिन यहां भी पोस्टपार्टम केयर आपरेशन थिएटर (पीपीसी ओटी) के ठीक सामने पानी में मच्छरों के लार्वा पनप रहे हैं। इससे सवाल कौंधता है कि क्या शासन की सख्ती के समय ही सफाई व्यवस्था मुकम्मल होती है।

बीएसएल-2 लैब के सामने : जिला अस्पताल की रोड पर कोरोना जांच के लिए बीएसएल लैब बनी हुई है। इसके ठीक सामने एक नाली भीषण गंदगी से बजबजा रही है। वहीं एक सीवर भी कई दिनों से खुला है। यहां भी गंदे पानी में मच्छरों के लार्वा पनप रहे हैं। इसके ठीक पीछे बने बर्न वार्ड में कोविड वैक्सीनेशन सेंटर है। यहां सुबह से शाम तक लोगों के वैक्सीन लगाई जा रही है। यहां आने वाले लोगों में मलेरिया और डेंगू फैलने का खतरा बना हुआ है।

195 जांच में नौ डेंगू से ग्रसित : जिले में मंगलवार को डेंगू के 195 एलाइजा टेस्ट किए गए। इनमें नौ मरीजों में डेंगू की पुष्टि हुई है। वहीं कुल 488 जांचों में पांच मरीज मलेरिया से ग्रसित पाए गए हैं। एडीएसआइसी डा. सुबोध शर्मा ने बताया कि हास्पिटल में साफ-सफाई समय पर कराई जा रही है। अगर कहीं मच्छर के लार्वा पनप रहे हैं तो फौरन एंटी लार्वा छिड़काव कराया जाएगा।

Edited By: Samanvay Pandey

बरेली में कोरोना वायरस से जुडी सभी खबरे

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!