पढ़ाई की गुणवत्‍ता सुधारने को अब शिक्षकों की भी लगेगी क्‍लास, जानिए क्‍या शिक्षा विभाग का पूरा प्‍लान

उद्देश्य है कि परिषदीय विद्यालयों के बच्चों को अंग्रेजी गणित विज्ञान हिंदी आदि सभी विषयों की बेहतर जानकारी आसानी के साथ दी जा सके। इसके अंतर्गत एआरपी को राज्य हिंदी संस्था के मास्टर ट्रेनरों द्वारा प्रशिक्षित किया जाएगा।

Vivek BajpaiPublish: Sat, 29 Jan 2022 03:57 PM (IST)Updated: Sat, 29 Jan 2022 03:57 PM (IST)
पढ़ाई की गुणवत्‍ता सुधारने को अब शिक्षकों की भी लगेगी क्‍लास, जानिए क्‍या शिक्षा विभाग का पूरा प्‍लान

बरेली, जेएनएन। छात्रों को सरल और रुचिकर तरीके से हर विषय के पाठयक्रमों को पढ़ाने या समझाने के लिए तरह-तरह के प्रयास किए जा रहे हैं। इसके पीछे उद्देश्य है कि परिषदीय विद्यालयों के बच्चों को अंग्रेजी, गणित, विज्ञान, हिंदी आदि सभी विषयों की बेहतर जानकारी आसानी के साथ दी जा सके। इसके अंतर्गत एआरपी को राज्य हिंदी संस्था के मास्टर ट्रेनरों द्वारा प्रशिक्षित किया जाएगा।

जिले में 2482 परिषदीय विद्यालय हैं, जहां 3,54,872 छात्र-छात्राएं पंजीकृत हैं। इसमें कई विद्यार्थी ग्रामीण परिवेश से होने की वजह से उन्हें हिंदी के साथ ही अन्य विषयों को समझने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। इसे देखते हुए विद्यालयों में छात्रों के लिए सभी विषयों की विशेष कक्षाओं का आयोजन कराया जाएगा। इसके की प्रथम चरण में शासन की योजन के अनुसार 16 विकास खंडों के सभी विषयों के एकेडमिक रिर्सोस पर्सन (एआरपी) को मास्टर प्रशिक्षकों द्वारा प्रशिक्षित किया जाएगा। दूसरे चरण में एआरपी की ओर से शिक्षकों को परिषदीय स्कूलों में बच्चों को सभी विषय बेहतर रूप से समझाने के लिए उन्हें चरणबद्ध तरीके से प्रशिक्षित किया जाएगा।

आनलाइन होगा तीन दिन दिवसीय प्रशिक्षण: निर्देशानुसार एआरपी को आनलाइन माध्यम से प्रशिक्षण दिया जाएगा। प्रशिक्षण एक से तीन फरवरी तक होगा। इसके अंतर्गत उन्हें भाषाई कौशल विकास, शुद्ध उच्चारण, लेखन में सावधानियां, गद्य, पद्य, और भाषिक ध्वनियों का विश्लेषण सिखाया जाएगा।

बच्‍चों को होगी आसानी: जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी विनय कुमार ने कहा कि शासन की इस पहल से निश्चित रूप से बच्चों में हिंदी भाषा और अन्य विषय को समझने में आसानी होगी। इसमें एआरपी को किस तरह रुचिपूर्ण तरीके से छात्रों को पढ़ाया जाए इसके लिए प्रशिक्षित किया जाएगा।

Edited By Vivek Bajpai

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept