बरेली में पुलिस सुधार रही पति-पत्नी के रिश्ते, सुलझा रही छोटी-छोटी बातें

छोटी-छोटी बातों को पत्नी में अनबन होने पर परिवार न टूटे। आए दिन के क्लेश के चलते बच्चों पर इसका बुरा प्रभाव न पड़े। इस सोच को ध्यान में रखते हुए खाकी टूट रहे रिश्तों को जोड़ने का काम कर रही है।

Ravi MishraPublish: Fri, 14 Jan 2022 10:55 AM (IST)Updated: Fri, 14 Jan 2022 10:55 AM (IST)
बरेली में पुलिस सुधार रही पति-पत्नी के रिश्ते, सुलझा रही छोटी-छोटी बातें

बरेली, जेएनएन। Bareilly Husband Wife Relationship : छोटी-छोटी बातों को पत्नी में अनबन होने पर परिवार न टूटे। आए दिन के क्लेश के चलते बच्चों पर इसका बुरा प्रभाव न पड़े। इस सोच को ध्यान में रखते हुए खाकी टूट रहे रिश्तों को जोड़ने का काम कर रही है। वर्ष 2021 में एक जनवरी से 31 दिसंबर तक पति-पत्नी के बीच की लड़ाई-झगड़े इस कदर बड़ गए कि महिला थाने में ऐसे 477 मामले पहुंचे। इनमें से 453 मामलों का काउंसलिंग के जरिए निस्तारण खाकी ने किया।

इन मामलाें में 350 से अधिक ऐसे परिवारों की काउंसलिंग की गई जहां काफी समय से पति-पत्नी एक दूसरे से अलग थे। 24 मामलों में मुकदमा हुआ, जिस वजह से वे केस न्यायालय मीडिएशन में चल रहे हैं। वहीं करीब 25 केस में प्रार्थना पत्र पर बात नहीं बनी तो दंपती थाने तक पहुंचे, जिसमें मामला दर्ज किया।

केस एक

वैष्णों पुरम निवासी संजू देवी और करतार सिंह दो साल पहले रिश्ते में बंधे। कुछ समय बाद ही छोटी सी गलतफहमी के चलते दोनों में विवाद रहने लगा। बात बड़ी तो मामला महिला थाने तक पहुंचा। सात बार दोनों की काउंसलिंग कराई गई। आठवीं बार में सुलह हो गई। वर्तमान में दोनों खुशहाली से अपना जीवन व्यतीत कर रहे हैं।

केस दो

कनक की शादी संजयनगर निवासी विवेक कश्यप के साथ हुई। फोन चलाने को लेकर पति बहस होने लगी। वहीं ससुरालों वालों ने भी इस पर आपत्ति जताई। यह ही नहीं ज्यादा बात बढ़ने पर पत्नी को मायके भेज दिया। मायके वालों ने महिला थाना में ससुराल पक्ष की शिकायत दर्ज कराई तो दोनों को समझाकर उनके बीच एक सप्ताह के भीतर ही समझौता कराया।

केस तीन

संजयनगर निवासी मणिकांत की शादी अनुराधा के साथ हुई। छोटी-छोटी बातों पर दोनों के बीच लड़ाई-झगड़ा होने लगा। लेकिन, जब हर रोज घर में क्लेश रहने लगा तो मायके वालों ने पुलिस का सहारा लिया। तीन दिन पति-पत्नी की काउंसलिंग कराकर चौथे ही दोनों के बीच सुलह कराई।

थाने में आने वाले हर एक प्रार्थना पत्र की जांच की जाती है। दोनों पक्षों को बुलाकर उनकी काउंसलिंग कराकर यही प्रयास रहता है कि परिवार न उजड़े। छवि सिंह, इंस्पेक्टर, महिला थाना

Edited By Ravi Mishra

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept