बुंदेलखंड पृथक राज्य व किसान समस्याओं के निस्तारण की उठी मांग

जागरण संवाददाता बांदा बुंदेलखंड आजाद सेना और असगंठित मजदूर मोर्चा ने बुधवार को अशोकलाट

JagranPublish: Wed, 29 Dec 2021 06:25 PM (IST)Updated: Wed, 29 Dec 2021 06:25 PM (IST)
बुंदेलखंड पृथक राज्य व किसान 
समस्याओं के निस्तारण की उठी मांग

जागरण संवाददाता, बांदा : बुंदेलखंड आजाद सेना और असगंठित मजदूर मोर्चा ने बुधवार को अशोकलाट में धरना दिया। विरोध प्रदर्शन करते हुए कलेक्ट्रेट पहुंचे और मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन डीएम को सौंपा। कहा कि दलहन,तिलहन, अनाज, फल, सब्जियों सहित दूध का भी सरकार समर्थन मूल्य घोषित करे। साथ ही पदाधिकारियों ने पृथक बुंदेलखंड राज्य का भी मुद्दा उठाया।

धरने को संबोधित करते हुए भट्ठा परसौल के किसान नेता चौधरी मनवीर सिंह तेवतिया कहा कि सरकार मजदूरों और किसानों के साथ सौतेला व्यवहार कर रही है। कहा कि केंद्र सरकार किसानों व मजदूरों की चल-अचल संपत्ति का मूल्यांकन बाजार भाव से करके उसकी कुल कीमत का 60 फीसद ऋण लिमिट बनाकर बैंकों से दिलाया जाए। बुंदेलखंड की जीवन दायिनी केन नदी को बचाने के लिए केन-बेतवा लिक परियोजना को रद्द किया जाए। बुंदेलखंड के मजदूरों का पलायन पूरी तरह रोका जाए। इसके लिए पत्थर की खदानों के साथ प्राकृतिक संसाधनों के आयोग के लिए पट्टों का आवंटन कराएं। किसानों ने मुख्यमंत्री से ग्राम पंचायत कमासिन को नगर पंचायत घोषित करने व तहसील बनाने की भी मांग उठाई। महामंत्री दल सिगार ने कहा कि भूमि हीन किसान मजदूरों को पांच एकड़ भूमि का आवंटन खेती करने के साथ आवास बनाने का भी अधिकार दिया जाए। अधूरे कठार पंप कैनाल और प्रस्तावित लखनपुर पंप कैनाक को अविलंब चालू कराया जाए। साथ ही किसानों ने बुंदेलखंड राज्य का भी मुद्दा उठाया। इस मौके पर बुंदेलखंड आजाद सेना के प्रमोद आजाद, ज्ञानेश्वर प्रसाद, पुष्पेंद्र भाष्कर, विट्ठल राव आर्य, रमेशचंद्र करील, वर्षा भारतीय, रमेशचंद्र, हेमराज कबीर, अनुज यादव, शिवकुमार आदि मौजूद रहे।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept