पूर्व सांसद रिजवान के दामाद समेत दो पर लगा एनएसए

पूर्व नगर पंचायत फिरोज पप्पू की हत्या के आरोप में पांच माह से जेल में बंद रमीज व सह अभियुक्त शकील के विरुद्ध राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत कार्रवाई की गई है।

JagranPublish: Sun, 12 Jun 2022 10:28 PM (IST)Updated: Sun, 12 Jun 2022 10:28 PM (IST)
पूर्व सांसद रिजवान के दामाद समेत दो पर लगा एनएसए

संवादसूत्र, बलरामपुर :

पूर्व नगर पंचायत फिरोज पप्पू की हत्या के आरोप में पांच माह से जेल में बंद रमीज व सह अभियुक्त शकील के विरुद्ध राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत कार्रवाई की गई है। चार जनवरी को पूर्व चेयरमैन की हत्या के बाद पूर्व सांसद समेत छह लोगों की गिरफ्तारी हुई थी। इससे पूर्व रमीज की पत्नी जेबा रिजवान व ससुर पूर्व सपा सांसद रिजवान जहीर पर एनएसए लग चुका है।

पुलिस अधीक्षक राजेश कुमार सक्सेना ने बताया कि न्यायिक अभिरक्षा में निरुद्ध रमीज व शकील काफी दिनों से जेल से छूटने का प्रयास कर रहे थे। जेठवारा प्रतापगढ़ निवासी शकील ने अपने सह अभियुक्तों के साथ मिलकर चार जनवरी को पूर्व नगर पंचायत अध्यक्ष फिरोज पप्पू की गला रेतकर हत्या कर दी थी। रमीज अपनी पत्नी जेबा व ससुर पूर्व सांसद के साथ हत्या की साजिश रचने के आरोप में जेल में निरुद्ध हैं। इस घटना से कस्बा तुलसीपुर व आसपास के गांवों में लोक शांति व्यवस्था पूरी तरह छिन्न-भिन्न हो गई थी। जिला मजिस्ट्रेट के आदेश पर रमीज व शकील पर राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम 1980 की धारा-3 की उपधारा-2 के तहत कार्रवाई की गई है।

मकान की छत ढहने से मासूम की मौत, बड़ा भाई घायल

संवादसूत्र, गौरा चौराहा (बलरामपुर) : कोइलखार गांव के मजरे सहियापुर में रविवार सुबह पक्के मकान की छत ढहने से मलबे में दबकर सात वर्षीय सिद्धू की मौत हो गई। उसका बड़ा भाई नौ वर्षीय शरद घायल हो गया। पुलिस ने शव का पंचनामा कर परिजनों को सौंप दिया है। शरद की हालत खतरे से बाहर है।

सहियापुर गांव निवासी राधेश्याम यादव मुंबई में रहकर कमाई करता है। रविवार को उसके बेटे सिद्धू व शरद बरामदे में खाना खा रहे थे। खाना खाने के दौरान सिद्धू अचानक कमरे में चला गया। उसी बीच कमरे की छत भरभरा कर ढह गई। सिद्धू मलबे के नीचे दब गया। छत से गिरी ईटें शरद के सिर में लग गई। वह भी बेहोश हो गया। राधेश्याम की पत्नी सरिता के शोर मचाने पर पड़ोसी एकत्रित हुए। मलबा हटाने में लगभग 20 मिनट लग गए। तब तक सिद्धू की मौत हो चुकी थी। घायल शरद का इलाज एक प्राइवेट चिकित्सक से कराया गया। अब उसकी हालत खतरे से बाहर है। बच्चे की मां सरिता देवी ने शव का पोस्टमार्टम कराने से मना कर दिया। प्रभारी निरीक्षक प्रेम प्रकाश पांडेय, उपनिरीक्षक परमानंद चौहान व लेखपाल रघुनाथ तिवारी घटनास्थल पर पहुंचे। उपनिरीक्षक ने पोस्टमार्टम के लिए कहा तो सरिता ने हाथ जोड़कर रोते हुए मना कर दिया। कहा कि आगे बच्चे की दुर्दशा नहीं कराना चाहती है। सरिता का करुण क्रंदन देख प्रभारी निरीक्षक का दिल पसीज गया। उन्होंने पंचनामा तैयार करवाकर शव परिवारजन को सौंप दिया।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept