एमडीएम में गड़बड़झाला, थाली में मनमर्जी का निवाला

बलरामपुर अधिकांश विद्यालयों में मेन्यू के अनुसार नहीं मिल रहा दूध व फल जांच को नहीं निकल रहे अफसर ।

JagranPublish: Mon, 20 Jun 2022 11:52 PM (IST)Updated: Mon, 20 Jun 2022 11:52 PM (IST)
एमडीएम में गड़बड़झाला, थाली में मनमर्जी का निवाला

जागरण टीम, बलरामपुर :

जिले के परिषदीय स्कूलों में संचालित मध्याह्न भोजन योजना गुरुजनों की मनमानी की भेंट चढ़ गई है। नौनिहालों को मेन्यू के अनुसार भोजन, फल व दूध नहीं मिल रहा है। स्कूलों में बिना भोजन बने आनलाइन फर्जी रिपोर्टिंग कर नौनिहालों के निवाले पर डाका डाला जा रहा है। नामांकन के सापेक्ष बच्चों की मनमानी उपस्थिति दिखाकर विभागीय अफसरों की साठगांठ से हर माह खाद्यान्न का गोलमाल कर लिया जाता है। अफसर जांच करने का दावा तो करते हैं, लेकिन धांधली पर नकेल नहीं कस पा रही है।

कुछ ऐसा रहा स्कूलों का नजारा :

-शिक्षा क्षेत्र श्रीदत्तगंज के प्राथमिक विद्यालय महुआढार में बच्चों की कुल नामांकन संख्या 133 है। सोमवार को 65 बच्चे उपस्थित मिले। अध्यापक के रूप में रामावती देवी ने बताया कि मध्याह्न भोजन में रोटी और आलू सोयाबीन की सब्जी का मेन्यू है। वही बनवाया जा रहा है। गैंसड़ी शिक्षा क्षेत्र के प्राथमिक विद्यालय मदरहवा में 112 नामांकित बच्चों के सापेक्ष 70 उपस्थित थे। प्रधानाध्यापक मोहम्मद सईद ने बताया कि खाना बनवाने की तैयारी की जा रही है। रसोइया भी तैयारी में जुटी थीं। खाने का मेन्यू पूछने पर रसोइया नहीं बता सकीं। कहा कि जो राशन उपलब्ध रहता है, वहीं भोजन में बना दिया जाता है। कंपोजिट विद्यालय चौहत्तर कला में 354 नामांकित बच्चों के सापेक्ष 45 उपस्थित थे। प्रधानाध्यापक अब्दुल करीम ने बताया कि भोजन बनवाने की तैयारी की जा रही है। क्या बनेगा, यह नहीं बताया। इसी तरह कंपोजिट विद्यालय नगई में 196 के सापेक्ष 40 बच्चे मौजूद थे। प्रधानाध्यापक सुरेंद्र नाथ योगी ने बताया कि मेन्यू के अनुसार बच्चों को भोजन दिया जाता है। अभी बना नहीं है, तैयारी की जा रही है। लापरवाही पर होगी सख्त कार्रवाई :

-बीएसए डा. रामचंद्र का कहना है कि सभी बीईओ को मध्याह्न भोजन की गुणवत्ता परखने के निर्देश दिए गए हैं। मिड डे मील के साथ लापरवाही पर संबंधित के विरुद्ध कठोर कार्रवाई की जाएगी।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept