This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

न्याय के लिए थाने का चक्कर काट रहा पीड़ित

ङ्कद्बष्ह्लद्बद्व ष्द्बह्मष्द्यद्बठ्ठद्द ह्लद्धद्ग श्चश्रद्यद्बष्द्ग ह्यह्लड्डह्लद्बश्रठ्ठ द्घश्रह्म द्भह्वह्यह्लद्बष्द्गङ्कद्बष्ह्लद्बद्व ष्द्बह्मष्द्यद्बठ्ठद्द ह्लद्धद्ग श्चश्रद्यद्बष्द्ग ह्यह्लड्डह्लद्बश्रठ्ठ द्घश्रह्म द्भह्वह्यह्लद्बष्द्गङ्कद्बष्ह्लद्बद्व ष्द्बह्मष्द्यद्बठ्ठद्द ह्लद्धद्ग श्चश्रद्यद्बष्द्ग ह्यह्लड्डह्लद्बश्रठ्ठ द्घश्रह्म द्भह्वह्यह्लद्बष्द्गङ्कद्बष्ह्लद्बद्व ष्द्बह्मष्द्यद्बठ्ठद्द ह्लद्धद्ग श्चश्रद्यद्बष्द्ग ह्यह्लड्डह्लद्बश्रठ्ठ द्घश्रह्म द्भह्वह्यह्लद्बष्द्गङ्कद्बष्ह्लद्बद्व ष्द्बह्मष्द्यद्बठ्ठद्द ह्लद्धद्ग श्चश्रद्यद्बष्द्ग ह्यह्लड्डह्लद्बश्रठ्ठ द्घश्रह्म द्भह्वह्यह्लद्बष्द्गङ्कद्बष्ह्लद्बद्व ष्द्बह्मष्द्यद्बठ्ठद्द ह्लद्धद्ग श्चश्रद्यद्बष्द्ग ह्यह्लड्डह्लद्बश्रठ्ठ द्घश्रह्म द्भह्वह्यह्लद्बष्द्गङ्कद्बष्ह्लद्बद्व ष्द्बह्मष्द्यद्बठ्ठद्द ह्लद्धद्ग श्चश्रद्यद्बष्द्ग ह्यह्लड्डह्लद्बश्रठ्ठ द्घश्रह्म द्भह्वह्यह्लद्बष्द्गङ्कद्बष्ह्लद्बद्व ष्द्बह्मष्द्यद्बठ्ठद्द ह्लद्धद्ग श्चश्रद्यद्बष्द्ग ह्यह्लड्डह्लद्बश्रठ्ठ द्घश्रह्म द्भह्वह्यह्लद्बष्द्गङ्कद्बष्ह्लद्बद्व ष्द्बह्मष्द्यद्बठ्ठद्द ह्लद्धद्ग श्चश्रद्यद्बष्द्ग ह्यह्लड्डह्लद्बश्रठ्ठ द्घश्रह्म द्भह्वह्यह्लद्बष्द्गङ्कद्बष्ह्लद्बद्व ष्द्बह्मष्द्यद्बठ्ठद्द ह्लद्धद्ग श्चश्रद्यद्बष्द्ग ह्यह्लड्डह्लद्बश्रठ्ठ द्घश्रह्म द्भह्वह्यह्लद्बष्द्गङ्कद्बष्ह्लद्बद्व ष्द्बह्मष्द्यद्बठ्ठद्द ह्लद्धद्ग श्चश्रद्यद्बष्द्ग ह्यह्लड्डह्लद्बश्रठ्ठ द्घश्रह्म द्भह्वह्यह्लद्बष्द्गङ्कद्बष्ह्लद्बद्व ष्द्बह्मष्द्यद्बठ्ठद्द ह्लद्धद्ग श्चश्रद्यद्बष्द्ग ह्यह्लड्डह्लद्बश्रठ्ठ द्घश्रह्म द्भह्वह्यह्लद्बष्द्गङ्कद्बष्ह्लद्बद्व ष्द्बह्मष्द्यद्बठ्ठद्द ह्लद्धद्ग श्चश्रद्यद्बष्द्ग ह्यह्लड्डह्लद्बश्रठ्ठ द्घश्रह्म द्भह्वह्यह्लद्बष्द्गङ्कद्बष्ह्लद्बद्व ष्द्बह्मष्द्यद्बठ्ठद्द ह्लद्धद्ग श्चश्रद्यद्बष्द्ग ह्यह्लड्डह्लद्बश्रठ्ठ द्घश्रह्म द्भह्वह्यह्लद्बष्द्गङ्कद्बष्ह्लद्बद्व ष्द्बह्मष्द्यद्बठ्ठद्द ह्लद्धद्ग श्चश्रद्यद्बष्द्ग ह्यह्लड्डह्लद्बश्रठ्ठ द्घश्रह्म द्भह्वह्यह्लद्बष्द्गङ्कद्बष्ह्लद्बद्व ष्द्बह्मष्द्यद्बठ्ठद्द ह्लद्धद्ग श्चश्रद्यद्बष्द्ग ह्यह्लड्डह्लद्बश्रठ्ठ द्घश्रह्म द्भह्वह्यह्लद्बष्द्गङ्कद्बष्ह्लद्बद्व ष्द्बह्मष्द्यद्बठ्ठद्द ह्लद्धद्ग श्चश्रद्यद्बष्द्ग ह्यह्लड्डह्लद्बश्रठ्ठ द्घश्रह्म द्भह्वह्यह्लद्बष्द्गङ्कद्बष्ह्लद्बद्व ष्द्बह्मष्द्यद्बठ्ठद्द ह्लद्धद्ग श्चश्रद्यद्बष्द्ग ह्यह्लड्डह्लद्बश्रठ्ठ द्घश्रह्म द्भह्वह्यह्लद्बष्द्गङ्कद्बष्ह्लद्बद्व ष्द्बह्मष्द्यद्बठ्ठद्द ह्लद्धद्ग श्चश्रद्यद्बष्द्ग ह्यह्लड्डह्लद्बश्रठ्ठ द्घश्रह्म द्भह्वह्यह्लद्बष्द्गङ्कद्बष्ह्लद्बद्व ष्द्बह्मष्द्यद्बठ्ठद्द ह्लद्धद्ग श्चश्रद्यद्बष्द्ग ह्यह्लड्डह्लद्बश्रठ्ठ द्घश्रह्म द्भह्वह्यह्लद्बष्द्गङ्कद्बष्ह्लद्बद्व ष्द्बह्मष्द्यद्बठ्ठद्द ह्लद्धद्ग श्चश्रद्यद्बष्द्ग ह्यह्लड्डह्लद्बश्रठ्ठ द्घश्रह्म द्भह्वह्यह्लद्बष्द्ग

JagranThu, 12 Dec 2019 04:40 PM (IST)
न्याय के लिए थाने का चक्कर काट रहा पीड़ित

जासं, बलिया: चिकित्सक के लापरवाही से पत्नी के पेट में बच्चे की मौत के मामले में कार्रवाई की मांग को लेकर पीड़ित राम लखन कुमार गोंड निवासी आरीपुर सरया थाना भीमपुरा लगातार नगरा थाने का चक्कर काट रहा है। लापरवाही बरतने वाले चिकित्सक पर कार्रवाई की मांग के संदर्भ में उसने थाना से लेकर जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक तक गुहार लगाई है। उसने आरोप लगाया है कि पत्नी की तबीयत खराब होने पर नगरा घोसी मार्ग पर एक चिकित्सक के यहां ले गए। वहां पर उसने सूई लगाकर दांत उखाड़ दिया। इसके बाद उसकी तबीयत खराब हो गई। इसे तत्काल मऊ फातिमा में ले गए। वहां पर मृत बच्चा पैदा हुआ। इसकी सूचना के बाद भी पुलिस कार्रवाई नहीं कर रही है। वहीं चिकित्सक पक्ष के लोग लगातार धमकी दे रहे है। इस संदर्भ में पीड़ित ने जिलाधिकारी के पत्रक सौंप कर कार्रवाई की मांग की है।

Edited By Jagran

बलिया में कोरोना वायरस से जुडी सभी खबरे

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!