कोरोना से जान गंवाने वाले 29 लोगों के आश्रितों को मिले 14.50 लाख

जागरण संवाददाता बलिया कोविड-19 महामारी में जान गंवाने वाले लोगों के परिवारों को शासन क

JagranPublish: Sun, 28 Nov 2021 06:20 PM (IST)Updated: Sun, 28 Nov 2021 06:20 PM (IST)
कोरोना से जान गंवाने वाले 29 लोगों के आश्रितों को मिले 14.50 लाख

जागरण संवाददाता, बलिया : कोविड-19 महामारी में जान गंवाने वाले लोगों के परिवारों को शासन की तरफ से आर्थिक सहायता मिलनी शुरू हो गई है। जिले में अभी तक 56 आश्रितों ने आवेदन आपदा प्रबंधन कार्यालय में दिए हैं। इनमें से 29 अश्रितों के आवेदनों की जांच कर 50-50 हजार रुपये की कुल 14.50 लाख आर्थिक सहायता राशि आनलाइन भेज दी गई है। इससे उन सभी को सहारा मिला। शेष बचे 27 आवेदनों की जांच की जा रही है। जिले में 234 लोगों की मौत कोरोना से हुई थी। इन सभी के परिवार लाभांवित होंगे। इस पर करीब 1.17 करोड़ रुपये का खर्च आएगा। इनमें कई आश्रित तो ऐसे हैं जो घर के मुखिया के निधन के बाद असहाय हो चुके हैं। ऐसे परिवार के लोगों के लिए यह मदद संजीवनी सिद्ध होगी। राज्य आपदा मोचक निधि से योजना का लाभ दिया जा रहा।

----

किसी की पत्नी तो किसी के पुत्र के खाते में पहुंची राशि

शासन से मिलने वाली सहायता राशि रसड़ा के कमतैला, त्रिकालपुर, भगवानपुर, शाहपुर, विसौली, रामापार, बाछापार, शिवपुर, पिपराकला, बसंतपुर उत्तरी, नरही, बिजलीपुर, रछौली, प्रानपुर, हेवंतपुर, जलालपुर, रामपुरदीघार, नगवा, पशुहारी, नगरा, हालपुर, रामपुर टिटिही, डिहवां, चाड़ी आदि गांवों के आश्रितों को मिली है। इसमें किसी की पत्नी तो किसी के पुत्र के खाते में धनराशि पहुंच गई है।

11 मई को मिला था पहला केस

जिले में कोविड का पहला केस 11 मई 2020 को मिला था। चांददियर का एक युवक अपने दस साथियों के साथ अहमदाबाद से बलिया आया था। उसके बाद से ही मामले बढ़ते गए। फिर दिसंबर 2020 तक जिले में कुल 91 लोगों की मौत हुई थी। दूसरी लहर में 143 लोगों की मौत हुई। वर्तमान समय में जिला कोरोना से मुक्त हो चुका है।

---

जिले में 234 मृतकों की सूची सीएमओ पोर्टल पर है। इनमें से आवेदन व खाता नंबर देने वालों का आनलाइन भुगतान किया जा रहा है। यह सहायता सूची में शामिल सभी को मिलेगी।

-राजेश कुमार सिंह, अपर जिलाधिकारी

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept