बागी बिगाड़ेंगे खेल, भाजपा-सपा दोनों में बगावत

जेएनएन बदायूं विधानसभा चुनाव में हर सीट पर दावेदारों की संख्या चार से 16 तक रही है जबकि टिकट एक को ही मिला है। टिकट न मिलने से दावेदार बगावती तेवर दिखाने लगे हैं। सत्तारूढ़ दल भाजपा से लेकर सपा और बसपा में भी इस तरह के मामले सामने आ रहे हैं। इसी डर से सपा ने दो सीटों पर अभी तक टिकट ही घोषित नहीं किया है। माना जा रहा है कि कुछ सीटों पर बागी खेल बिगाड़ सकते हैं।

JagranPublish: Sun, 23 Jan 2022 11:25 PM (IST)Updated: Sun, 23 Jan 2022 11:25 PM (IST)
बागी बिगाड़ेंगे खेल, भाजपा-सपा दोनों में बगावत

जेएनएन, बदायूं : विधानसभा चुनाव में हर सीट पर दावेदारों की संख्या चार से 16 तक रही है, जबकि टिकट एक को ही मिला है। टिकट न मिलने से दावेदार बगावती तेवर दिखाने लगे हैं। सत्तारूढ़ दल भाजपा से लेकर सपा और बसपा में भी इस तरह के मामले सामने आ रहे हैं। इसी डर से सपा ने दो सीटों पर अभी तक टिकट ही घोषित नहीं किया है। माना जा रहा है कि कुछ सीटों पर बागी खेल बिगाड़ सकते हैं।

भाजपा ने जिले के सभी छह सीटों पर अपने उम्मीदवार घोषित कर दिए हैं। वैश्य, ठाकुर, ब्राह्मण, एससी और पिछड़ा वर्ग के नेताओं को चुनाव मैदान में उतारा है। मौर्य-शाक्य वोटरों में मजबूत पैठ बनाने के लिए दो शाक्य उम्मीदवारों को टिकट दिया है। टिकट वितरण के बाद भाजपा में अब तक बगावत के जो मामले में सामने आए हैं उनमें सदर सीट से पूर्व विधायक रामसेवक पटेल का पर्चा खरीदना प्रमुख है। हालांकि पार्टी की जिम्मेदारों का कहना है कि उनके किसी समर्थक ने अति उत्साह में आकर पर्चा खरीद लिया है। बिल्सी में भाजपा से टिकट की दावेदारी कर रहे कुंवर अंकित चौहान ने पार्टी छोड़ दी है। सपा ने महान दल से गठबंधन किया है, बिल्सी की सीट महान दल के खाते में गई है। पांच सीटों में से अभी तक सिर्फ बिसौली, सहसवान और शेखूपुर में टिकट फाइनल किया है। हालांकि आधिकारिक घोषणा अभी तक नहीं की गई है। सदर सीट पर टिकट की दावेदारी कर रहे पूर्व विधायक मुस्लिम खां को लगने लगा था कि टिकट नहीं मिल पाएगा तो बगावत कर वे बसपा में शामिल हो गए हैं। बसपा ने भी उन्हें शेखूपुर विधानसभा सीट से प्रत्याशी घोषित कर दिया है। राजनीतिक जानकारों का कहना है कि बगावत के डर से ही सपा ने अभी तक बदायूं और दातागंज सीट पर अपना प्रत्याशी घोषित नहीं किया है।

बसपा से पूर्व दर्जा राज्यमंत्री राममूर्ति लाल एडवोकेट और पूर्व जोन कोआर्डिनेटर श्याम दिवाकर भाजपा में शामिल हो चुके हैं। असंतुष्ट नेताओं के पाला बदलने का क्रम जारी है। वहीं राजनीतिक दलों के पदाधिकारी और प्रत्याशी डैमेज कंट्रोल करने की कोशिश में लगे हैं। बिल्सी में अंकित चौहान ने थामा कांग्रेस का दामन

संस, बिल्सी : बिल्सी विधानसभा क्षेत्र से भाजपा से टिकट की दावेदारी कर रहे कुंवर अंकित चौहान ने टिकट न मिलने पर बगावत कर कांग्रेस का दामन थाम लिया है। बिल्सी से अभी तक कांग्रेस ने टिकट की घोषणा नहीं की है। उनका कहना है कि भाजपा में क्षत्रिय समाज और युवा वर्ग की अनदेखी की गई है। उन्होंने कांग्रेस राष्ट्रीय सचिव धीरज गुर्जर की उपस्थिति में राष्ट्रीय सचिव व जनपद बदायूं प्रभारी तौकीर आलम के समक्ष कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण की।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept