इरनी के ग्राम प्रधान व एडीओ को कारण बताओ नोटिस

-प्रशासन सख्त -गोशाला में संरक्षित पशुओं की देखभाल में अहसयोग पर जवाब तलब -15 दिन के अंदर

JagranPublish: Thu, 27 Jan 2022 06:02 PM (IST)Updated: Thu, 27 Jan 2022 06:02 PM (IST)
इरनी के ग्राम प्रधान व एडीओ को कारण बताओ नोटिस

-प्रशासन सख्त :::

-गोशाला में संरक्षित पशुओं की देखभाल में अहसयोग पर जवाब तलब

-15 दिन के अंदर साक्ष्य सहित प्रस्तुत करना होगा स्पष्टीकरण

-डीएम ने आनलाइन बैठक में मिली जानकारी पर की कार्रवाई

जागरण संवाददाता, आजमगढ़: गो-आश्रय स्थलों में संरक्षित बेसहारा पशुओं की देखभाल को लेकर जिला प्रशासन गंभीर है। जिलाधिकारी अमृत त्रिपाठी ने विकास खंड ठेकमा की ग्राम पंचायत ईरनी स्थित गोशाला की व्यवस्था में असहयोग करने पर ग्राम प्रधान भगिया देवी और सहायक विकास अधिकारी पंचायत शिव शंकर को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है। ग्राम प्रधान को निर्देशित किया है कि वे अपना स्पष्टीकरण 15 दिन के अंदर डीएम कार्यालय में साक्ष्य सहित उपलब्ध कराएंगी। यदि निर्धारित अवधि में संतोषजनक जवाब प्रस्तुत नहीं किया गया तो पंचायत राज एक्ट की धारा95(एक) छह के तहत कार्रवाई की जाएगी। जबकि एडीओ पंचायत को डीपीआरओ कार्यालय में स्पष्टीकरण प्रस्तुत करना होगा।

जिलाधिकारी अमृत त्रिपाठी ने गूगलशीट के माध्यम से जनपद की समस्त गोशालाओं की व्यवस्था के संबंध में आनलाइन बैठक की। जिसमें विकास खंड ठेकमा की ग्राम पंचायत ईरनी स्थित गोशाला के संबंध में जानकारी दी गई। बताया गया कि रात में गोशाला में कोई चौकीदार नहीं रहता है। यह भी बताया गया कि गोशाला की व्यवस्था में प्रधान की तरफ से कोई सहयोग प्रदान नहीं किया जाता है। जबकि मुख्य सचिव का स्पष्ट आदेश है कि समस्त ग्रामीण व शहरी निकायों में अस्थाई गोवंश आश्रय स्थल की स्थापना एवं संचालन की जिम्मेदारी सौंपी गई है। शासन के निर्देश के बाद भी बेसहारा पशुओं की देखरेख में असहयोग किया गया।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept