कोतवाली पहुंची प्रेमिका तो शादी के लिए माना प्रेमी

जासं औरैया एक-दूसरे के साथ जीने व मरने की कसमों-वादों के बीच प्रेमी की सरकारी नौकरी

JagranPublish: Fri, 26 Nov 2021 11:31 PM (IST)Updated: Fri, 26 Nov 2021 11:31 PM (IST)
कोतवाली पहुंची प्रेमिका तो शादी के लिए माना प्रेमी

जासं, औरैया : एक-दूसरे के साथ जीने व मरने की कसमों-वादों के बीच प्रेमी की सरकारी नौकरी लग गई तो उसने प्रेमिका से शादी करने से इन्कार कर दिया। प्रेमी से शादी करने की जिद पर अड़ी युवती ने पुलिस का सहारा लिया। शुक्रवार को सदर कोतवाली पहुंची। उसकी बात सुनकर पुलिस कर्मियों ने युवक को बुलाया। समझाने पर प्रेमी राजी हुआ तो कोतवाली में दोनों ने एक-दूसरे को वरमाला पहनाई।

कानपुर देहात के गांव सबलपुर निवासी प्रियंका के औरैया शहर निवासी वेदप्रकाश से वर्ष 2018 से प्रेम संबंध थे। समय के साथ रिश्ते गहरे होते चले। वर्ष 2019 में वेद प्रकाश ने सरकारी नौकरी लग जाने के बाद उसने शादी से इन्कार कर दिया, लेकिन प्रियंका उससे शादी की जिद पर अड़ गई। न्याय पाने के लिए वह सदर कोतवाली पहुंची। पुलिस ने मामले का संज्ञान लेते हुए वेद प्रकाश को बुलवाया। करीब दो घंटों तक समझाने की कवायद के बाद प्रेमी शादी के लिए राजी हो गया। कोतवाली प्रभारी निरीक्षक संतोष कुमार अवस्थी ने बताया कि दोनों के स्वजन की सहमति से यह प्रेम विवाह कराया गया।

--------------------

परिषदीय स्कूलों में दहेज प्रतिषेध दिवस पर ली शपथ

जासं, औरैया: शुक्रवार को परिषदीय स्कूलों में दहेज प्रतिषेध दिवस मनाया गया। इसके अलावा संविधान के प्रति नौनिहालों व उनके अभिभावकों को जागरूक करने का कार्य शिक्षकों ने किया। अलग-अलग ब्लाकों के स्कूल में आयोजित कार्यक्रम में नुक्कड़ नाटक भी हुए।

उच्च प्राथमिक विद्यालय भौतापुर में स्कूल प्रबंध समिति के सदस्य के अलावा ग्रामीण भी एकत्र हुए। उन्होंने एक मत होकर दहेज के खिलाफ आवाज उठाते हुए कहा कि यह प्रथा खत्म होनी चाहिए। सोच बदलने के लिए सभी को प्रेरित करने की जरूरत है। प्रधानाध्यापक राजकुमार ने साथी शिक्षकों व शिक्षणेत्तर कर्मचारियों को जागरूक किया। सहायक अध्यापक जितिन शर्मा, अम्बरीश पोरवाल, रामजीवन आदि उपस्थित रहे। इसी प्रकार सदर विकासखंड के अन्य विद्यालयों में कार्यक्रम हुए। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी चन्दना राम इकबाल यादव ने बताया कि शासन व प्रशासन के आदेश पर जागरूकता कार्यक्रम स्कूलों में आयोजित किए गए थे। कई स्कूलों में रंगोली व चित्रकला प्रतियोगिता भी हुई।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept