वंदे भारत एक्सप्रेस के कोच का गेट लाक होने से फंसा परिवार

संस दिबियापुर (औरैया) कानपुर सेंट्रल पर वंदे भारत एक्सप्रेस में शुक्रवार देर शाम भाजी

JagranPublish: Fri, 26 Nov 2021 11:24 PM (IST)Updated: Fri, 26 Nov 2021 11:24 PM (IST)
वंदे भारत एक्सप्रेस के कोच का गेट लाक होने से फंसा परिवार

संस, दिबियापुर (औरैया) : कानपुर सेंट्रल पर वंदे भारत एक्सप्रेस में शुक्रवार देर शाम भाजी को बिठाने गए स्वजन कोच का दरवाजा लाक होने से फंस गए। इस बीच ट्रेन दिल्ली के लिए रवाना हो गई। पाता स्टेशन पर काशन होने के कारण ट्रेन रुकने पर उन्हें उतारा गया।

कानपुर के चकेरी निवासी रविपाल, जसवीर व उनकी पत्‍‌नी मनप्रीत कौर पिंकी अपनी भाजी गौरी को छोड़ने शुक्रवार शाम कानपुर सेंट्रल स्टेशन पहुंचे। कोच में उसे बिठाने के बाद वह लोग बातचीत करने लगे, तभी गेट लाक होने पर सभी फंस गए। घबराए परिवारीजन ने कोच अटेंडेंट को घटना बताई, लेकिन उसने नीचे उतारने से इन्कार कर दिया। ट्रेन के गार्ड को जानकारी दी गई। इस बीच औरैया के पाता स्टेशन पर लगे काशन में ट्रेन रात करीब आठ बजे रुक गई। यह काशन ट्रैक मरम्मत के चल रहे कार्य की वजह से लगा था। ट्रेन रुकने पर कोच का लाक खुल गया। करीब दो मिनट तक ट्रेन रुकी रही। इसके बाद गंतव्य की ओर रवाना हो गई। कोच में फंसे लोगों को उतारा गया। इस बीच स्टेशन पर तैनात आरपीएफ के कास्टेबल ने पूरी बात फंफूद पोस्ट के उप निरीक्षक गुड्डू कुमार को बताई। उन्होंने बताया कि सभी को स्टेशन पर लाकर पूछताछ के बाद कागजी कार्रवाई कर घर भेज दिया गया। पूरे मामले की जाच की जा रही है।

-----------------------

धान लदी ट्राली पलटी, बाल-बाल बचा चालक

संसू, कंचौसी: जिले के ज्यादातर मुख्य व संपर्क मार्ग की हालत पतली है। जिस कारण दुर्घटनाएं बढ़ रही हैं। शुक्रवार की सुबह ककोर-दिबियापुर बाइपास से प्लास्टिक सिटी को जाने वाले रास्ते पर धान लदी एक ट्राली पलट गई। इसके ट्रैक्टर चला रहा युवक बाल-बाल बचा। घटना में कुछ बोरियां फट जाने से उसमें रखी धान फैल गई। जिसे जैसे-तैसे समेटा गया।

उप्र राज्य औद्योगिक विकास निगम (यूपीएसआइडीसी) की ओर से करीब दो वर्ष पूर्व करोड़ों की लागत से प्लास्टिक सिटी मार्ग का निर्माण कराया गया था। औरैया से ककोर जाने वाले मार्ग से सटे इस रास्ते की हालत एक साल में खराब हो गई है। जगह-जगह गड्ढे हैं। जिस कारण वाहन दुर्घटनाग्रस्त होते हैं। बढ़ते हादसे को देखते हुए प्रशासनिक अधिकारियों ने निगम को निर्देश दिए थे कि खस्ताहाल हो चुके मार्ग की सूरत बदली जाए। बावजूद समस्या जस के तस है। शुक्रवार की सुबह करीब पौने नौ बजे लखनपुर गांव के पास लहरापुर से औरैया मंडी जा रही धान भरी बोरियों से लदी ट्राली गड्ढे में पहिया पड़ने से पलट गई। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार ट्राली पर लदी धान के साथ तीन किसान भी बैठे थे। ट्राली पलटती देख चालक व बैठे किसानों ने किसी तरह से अपनी जान बचाई। बड़ा हादसा होते-होते टला।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept