मृतक के नाम बिजली बिल बकाए का दर्ज करा दिया मुकदमा

कंचन सिंह अमेठी बिजली विभाग अब मृतक से बकाया बिल की वसूल करने पर अमादा है। वसूली के लिए ि

JagranPublish: Sun, 05 Sep 2021 11:00 PM (IST)Updated: Sun, 05 Sep 2021 11:00 PM (IST)
मृतक के नाम बिजली बिल बकाए का दर्ज करा दिया मुकदमा

कंचन सिंह, अमेठी: बिजली विभाग अब मृतक से बकाया बिल की वसूल करने पर अमादा है। वसूली के लिए विभागीय अधिकारियों ने मृतक जगदेव के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है, जबकि उनकी मौत दस साल पहले हो चुकी है।

जी हां, यह सच है। मामला मुशीगंज के मटियार बघौरा का है। एक ओर महकमा जिदा बकाएदारों से बिजली का भुगतान वसूल नहीं कर पा रहा है, वहीं परलोक सिधार गए व्यक्ति से बिल के भुगतान के लिए मुकदमे की कार्रवाई कर रहा है। रिपोर्ट बिजली थाना गौरीगंज में 28 अगस्त को दर्ज कराया गया है। जिस जगदेव पर विभाग ने कार्रवाई की है उसके परिवार का अब कोई अस्तित्व ही गांव में नहीं है। कच्चा मकान गिर चुका है। आल- औलाद भी नहीं है। एक बार बिजली विभाग ने बकाया न जमा करने पर उसके बिजली कनेक्शन का विच्छेदन भी कर दिया था। ग्राम प्रधान ललिता देवी द्वारा जारी मृतक प्रमाण पत्र में उसे दस सितंबर 2010 को मृतक दिखाया है। दस वर्ष से अधिक का समय बीत जाने के बाद भी कोई बिजली कर्मी मीटर रीडिग भी लेने इस दौरान शायद गांव नहीं गया। नहीं तो जगदेश के मौत की जानकारी विभाग को होती। अवर अभियंता प्रशांत तिवारी विभाग के संविदा कर्मचारी अनिल तिवारी, पुलिस बल के साथ बिजली बकाएदारों के खिलाफ जांच अभियान चलाया। इस दौरान उन्हें जगदेव के गिरे घर में कनेक्शन चालू मिला। उन्होंने संबंधित मृतक के खिलाफ अगस्त के अंतिम दिनों में एंटी पावर थेफ्ट विद्युत चोरी थाना में मुकदमा लिखा दिया। जिसमें रमेश कुमार दीक्षित उपनिरीक्षक, अवर अभियंता रामरतन प्रजापति, सिपाही दया शंकर महषि व संजय सिंह को जांच अभियान के दौरान तहरीर में साथ रहना दिखाया है। विभाग की इस कार्रवाई से अफसरों के कार्यशैली की कलई जरूर खुल गई है। मामले की जांच सब इंस्पेक्टर मोहम्मद अहमद अंसारी को दी गई है। इस संबंध में अवर अभियंता प्रशांत तिवारी से दूरभाष पर बात करने का प्रयास किया तो मोबाइल बंद रहा। वहीं जांच अधिकारी को दो बार फोन करन के बाद भी नहीं उठ सका।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept