यूपी चुनाव 2022: समाजवादी पार्टी ने पूजा पाल को चायल और मुज्तबा सिद्दिकी को फूलपुर से उतारा मैदान में

UP Election News सपा की नई सूची में प्रयागराज की फूलपुर सीट से मुज्तबा सिद्दिकी को प्रत्याशी बनाया गया है। इसी तरह पूजा पाल को कौशांबी की चायल सीट से उम्मीदवार घोषित किया गया है। प्रतापगढ़ की बाबागंज विधानसभा सीट से गिरिजेश को प्रत्याशी बनाया गया

Ankur TripathiPublish: Thu, 27 Jan 2022 04:05 PM (IST)Updated: Thu, 27 Jan 2022 04:05 PM (IST)
यूपी चुनाव 2022: समाजवादी पार्टी ने पूजा पाल को चायल और मुज्तबा सिद्दिकी को फूलपुर से उतारा मैदान में

प्रयागराज, जेएनएन। समाजवादी पार्टी ने गुरुवार दोपहर यूपी विधानसभा चुनाव के लिए जारी की गई एक और सूची में प्रयागराज मंडल के भी तीन उम्मीदवारों के नाम घोषित किए हैं। इनमें प्रयागराज की फूलपुर सीट से मुज्तबा सिद्दिकी को प्रत्याशी बनाया गया है। इसी तरह से पूजा पाल को कौशांबी की चायल सीट से उम्मीदवार घोषित किया गया है। प्रतापगढ़ की बाबागंज विधानसभा सीट से गिरिजेश को प्रत्याशी बनाया गया है।

जानिए पूजा पाल की राजनीतिक पारी 

समाजवादी पार्टी ने अबकी चुनाव के लिए पूजा पाल को चायल सीट से अपना प्रत्याशी घोषित किया है। अब तक पूजा पाल के लिए फूलपुर या प्रतापपुर की चर्चा चल रही थी लेकिन वहां बसपा छोड़कर आए मुज्तबा का टिकट पक्का होने के बाद पूजा को चायल से उतारा गया है जहां भाजपा के संजय गुप्ता अभी विधायक हैं। पूजा पाल का नाम उनके पति इलाहाबाद शहर पश्चिमी के बसपा विधायक राजू पाल की हत्या के बाद चर्चित हुआ था। धूमनगंज थाने के हिस्ट्रीशीटर रहे राजू पाल ने 2004 के चुनाव में शहर पश्चिमी सीट पर सपा उम्मीदवार अशरफ को हराकर सनसनी फैला दी थी। पांच बार यहां से विधायक रहे अतीक के भाई अशरफ की हार बड़ी थी और राजू की जीत भी। कुछ ही महीने बाद 25 जनवरी 2005 को राजू पाल के काफिले को सुलेम सराय में जीटी रोड पर रोककर गोलियों की बौछार की गई। राजू पाल समेत तीन लोग मारे गए। अतीक और अशरफ को अन्य शूटरों समेत हत्याकांड का आरोपित बनाया गया। पहले पुलिस, फिर सीबीसीआइडी और कुछ समय पहले सीबीआइ ने जांच कर चार्जशीट दाखिल की लेकिन इस मुकदमे में अब भी फैसला आना बाकी है। मौजूदा समय में अतीक अहमद अहमदाबाद जेल में तो अशरफ बरेली जेल में बंद है। शादी के नौ दिन बाद ही पति के कत्ल के बाद 2007 में हुए चुनाव में पूजा पाल ने बसपा के टिकट पर जीत हासिल की। वह दो बार इस सीट पर जीतीं मगर 2017 में हार गईं। फिर इन्होंने दल बदला और सपा में शामिल हो गईं। अब वह चायल सीट से लड़ने जा रही हैं। 

यह भी पढ़ें

समाजवादी पार्टी ने प्रयागराज में सात, प्रतापगढ़ में तीन, कौशांबी की एक सीट पर घोषित किए उम्मीदवार, जानिए नाम

कुछ ही समय पहले मुज्तबा ने बसपा से किया था किनारा

मुज्तबा सिद्दिकी 2017 के चुनाव में मोदी लहर के बावजूद बसपा के टिकट पर जीते थे। फिर उनकी बसपा से मोहभंग होने लगा और कयास लगाए जाने लगे कि वह सपा या भाजपा में शामिल होंगे। इधर कुछ माह से वह सपा नेताओं के संपर्क में थे। बसपा ने उन्हें निलंबित भी कर दिया था। आखिरकर पिछले दिनों उन्होंने हंडिया विधायक हाकिमचंद बिंद के साथ समाजवादी पार्टी की सदस्यता ग्रहण कर ली। हाकिमचंद को भी सपा ने हंडिया से टिकट दिया है। 

यह भी जरूर पढ़िए

UP Election 2022: टिकट नहीं मिलने पर फूट पड़ा गुस्सा, प्रयागराज में सपा कार्यालय जाकर जताया आक्रोश

सपा ने बाबागंज सीट से गिरजेश को प्रत्याशी किया घोषित

प्रतापगढ़ : समाजवादी पार्टी ने बाबागंज सुरक्षित सीट से गिरजेश को प्रत्याशी बनाया है। इस सीट पर वर्ष 1996 से राजा भैया के समर्थक जीतते आ रहे हैं। सपा ने पट्टी, रानीगंज, कुंडा के बाद अब बाबागंज सीट से प्रत्याशी चुनाव मैदान में उतारा है। अभी सदर, विश्वनाथगंज, रामपुर खास से प्रत्याशी घोषित नहीं हुए हैं।

Edited By Ankur Tripathi

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept