प्रदेश के 14 रेल रूट पर बढ़ेगी ट्रेनों की रफ्तार, नौ जोड़ी ट्रेनों को अयोध्या पहुंचने में कम लगेगा वक्त

वर्ष 2024 तक भारतीय रेल के सभी ब्राड गेज मार्गों का विद्युतीकरण किए जाने का लक्ष्य है। इसके तहत यूपी में 1345 किलोमीटर रेलरूट का इसी वित्तीय वर्ष में विद्युतीकरण किया जाना है। खासकर चिलबिला-सुल्तानपुर-फैजाबाद रूट इलेक्ट्रिक होने से प्रयागराज के लोगों को भी इसका लाभ मिलेगा।

Ankur TripathiPublish: Wed, 28 Jul 2021 06:30 AM (IST)Updated: Wed, 28 Jul 2021 06:30 AM (IST)
प्रदेश के 14 रेल रूट पर बढ़ेगी ट्रेनों की रफ्तार, नौ जोड़ी ट्रेनों को अयोध्या पहुंचने में कम लगेगा वक्त

प्रयागराज, अतुल यादव। प्रदेश में 14 रेलखंडों पर बिजलीकरण का काम इसी वित्तीय वर्ष में पूरा कर लिया जाएगा। इसके लिए केंद्रीय रेल विद्युतीकरण संगठन (कोर) की ओर से काम किया जा रहा है। इनमें कुछ रेलखंड ऐसे भी हैं, जिसका एक से दो माह में मुख्य संरक्षा आयुक्त (सीआरएस) की ओर से निरीक्षण किया जा सकता है। इसके बाद इलेक्ट्रिक ट्रेनों का संचालन भी शुरू हो जाएगा।

वर्ष 2024 तक सभी ब्राड गेज मार्गों का विद्युतीकरण का लक्ष्य

दरअसल, वर्ष 2024 तक भारतीय रेल के सभी ब्राड गेज मार्गों का विद्युतीकरण किए जाने का लक्ष्य है। इसके तहत यूपी में 1345 किलोमीटर रेलरूट का इसी वित्तीय वर्ष में विद्युतीकरण किया जाना है। खासकर चिलबिला-सुल्तानपुर-फैजाबाद रूट इलेक्ट्रिक होने से प्रयागराज के लोगों को भी इसका लाभ मिलेगा। 04233 प्रयागराज संगम-फैजाबाद सरयू स्पेशल, 04231 प्रयागराज संगम-बस्ती मनवर संगम एक्सप्रेस, 01067 एलटीटी-फैजाबाद साकेत एक्सप्रेस समेत करीब आठ जोड़ी ट्रेनों की गति बढ़ जाएगी। इससे यात्रियों का समय बचने के साथ काफी सहूलियत मिलेगी। हालांकि अभी कोरोना संक्रमण की वजह से कुछ गाडिय़ों का संचालन नहीं हो रहा है। लेकिन, हालात सामान्य होने पर निश्चित रूप से यात्रियों को इसका लाभ मिलेगा।

इन रेलखंडों पर इसी वित्तीय वर्ष में शुरू हो जाएंगी इलेक्ट्रिक इंजन वाली ट्रेनें

- चिलबिला-सुल्तानपुर-फैजाबाद : 58 किलोमीटर

- अकबरपुर-फैजाबाद-बाराबंकी : 161 किलोमीटर

- चंदौसी-हरदुआगंज : 83 किलोमीटर

- बरहान-एटा: 59 किलोमीटर

- उड़ी-फूप : 12 किलोमीटर

- गोंडा-बहराइच : 60 किलोमीटर

- गोरखपुर-आनंद नगर-गोंडा और आनंद नगर-नौतनवा : 221 किलोमीटर

- कासगंज-बरेली-भोजीपुरा-डालीगंज : 133 किलोमीटर

- मुरादाबाद-अलीगंज, रामपुर-किच्छा और भोजपुरा-किच्छा, नोली-टापरी: 130 किलोमीटर

- फेफना-इंदारा, मऊ-शाहगंज: 100 किलोमीटर

- राजा का साहसपुर-संभल हातिम सराय: 23 किलोमीटर

- शाहजहांपुर- पीलीभीत, पीलीभीत-टनकपुर: 83 किलोमीटर

- शिकोहाबाद-फर्रूखाबाद : 158 किलोमीटर

देशभर के 111 रेलखंडों पर 18743 किलोमीटर का होना है विद्युतीकरण

वर्तमान में कुल 64689 किलोमीटर रेलरूट (ब्राड गेज) पर ट्रेनों का संचालन किया जा रहा है। मिशन रफ्तार के तहत अब तक 45946 किलोमीटर रेलमार्ग पर विद्युतीकरण का काम पूरा हो चुका है। पूरे देश में अब कुल 111 रेलखंडों पर 18743 किलोमीटर मार्गों का विद्युतीकरण किया जाना है। इनमें 10700 किलोमीटर मार्ग पर कोर की ओर से विद्युतीकरण का काम किया जा रहा है। जबकि क्षेत्रीय रेलवे, रेल विकास निगम लिमिटेड (आरवीएनएल), रेल इंडिया टेक्निकल एंड इकानोमिकल सर्विसेज (राइट्स) व पावर ग्रिड कार्पोरेशन आफ इंडिया लिमिटेड (पीजीसीआइएल) द्वारा 8043 किलोमीटर मार्ग पर काम प्रगति पर है।

पिछले वित्त वर्ष में पहली बार रिकार्ड इलेक्ट्रिफिकेशन हुआ था, जिसमे सर्वाधिक योगदान कोर का था। कोरोना जनित समस्याओं के बावजूद हम इस वर्ष भी पिछले साल से ज्यादा विद्युतीकरण करेंगे।

- यशपाल सिंह, महाप्रबंधक, केंद्रीय रेल विद्युतीकरण संगठन

100 रेलकर्मियों का टीकाकरण

प्रयागराज मंडल ने कोविड महामारी से प्रभावी तरीके से लडऩे की रूपरेखा बनाई है। इसके तहत शत प्रतिशत रेलकर्मियों का टीकाकरण कराने का लक्ष्य रखा गया है। प्रयागराज मंडल के स्वास्थ्य विभाग की ओर से प्रदेश की स्वास्थ्य टीम के साथ समन्वय स्थापित कर मंडल में वैक्सीनेशन अभियान चलाया जा रहा है। एनसीआर की चिकित्सा निदेशक डॉ. रूपा कपिल व मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ. सुमंत बहल के निर्देशन में स्वास्थ केंद्र मीरजापुर व चुनार में 100 रेलकर्मियों का टीकाकरण किया गया।

Edited By Ankur Tripathi

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept