Railway News: सूबेदारगंज स्टेशन का नाम प्रयागराज कैंट करने का भेजा सांसद केशरी देवी ने प्रस्ताव

सूबेदारगंज रेलवे स्टेशन का नाम प्रयागराज कैंट करने का प्रस्ताव फूलपुर की सांसद केशरी देवी पटेल ने रेल मंत्रालय को भेजा है। रेलवे सलाहकार समित की बैठक में मुद्दा उठ चुका है। सांसद ने बताया कि पूर्व रेल मंत्री पीयूष गोयल से इस संबंध में विमर्श हो चुका था।

Ankur TripathiPublish: Mon, 25 Oct 2021 02:33 PM (IST)Updated: Mon, 25 Oct 2021 02:33 PM (IST)
Railway News: सूबेदारगंज स्टेशन का नाम प्रयागराज कैंट करने का भेजा सांसद केशरी देवी ने प्रस्ताव

प्रयागराज, जागरण संवाददाता। सूबेदारगंज रेलवे स्टेशन का नाम प्रयागराज कैंट करने का प्रस्ताव फूलपुर की सांसद केशरी देवी पटेल ने रेल मंत्रालय को भेजा है। रेलवे सलाहकार समित की बैठक में भी यह मुद्दा उठ चुका है। सांसद ने बताया कि पूर्व रेल मंत्री पीयूष गोयल से भी इस संबंध में विमर्श हो चुका था। उन्हाेंने सहमति भी जताई थी। अब वर्तमान रेल मंत्री अश्विनी वैष्ण्व के समक्ष भी यह विषय सदन में रखा जाएगा। हालांकि पत्र के जरिए उनसे इस संबंध में मांग की जा चुकी है। जल्द ही रेलवे बोर्ड की बैठक होने वाली है, उसमें भी इस संबंध में प्रस्ताव स्वीकृत कराया जाएगा। उल्लेखनीय है कि सूबेदारगंज स्टेशन पर अब गाड़ियों का ठहराव भी होने लगा है।

सफाई के लिए मंगाई जाएंगी और स्प्रिंकलर गाड़ियां

प्रयागराज: 15 वें वित्त की बैठक में प्रदूषण नियंत्रण, सड़कों, वर्कशाप, पार्किंग निर्माण आदि से संबंधित खाका तैयार किया जाएगा। नगर निगम सीमा का विस्तारीकरण होने के कारण एक और वर्कशाप की जरूरत महसूस की गई है। यह वर्कशाप और पार्किंग नैनी क्षेत्र में बनेगी। नए यमुना ब्रिज के समीप वर्कशाप के बनने से निगम की गाड़ियों का खर्च कम हो जाएगा। 15 वें वित्त से निगम को दो मदों में करीब 144 करोड़ रुपये मिले हैं। इसमें से 62 करोड़ रुपये ठोस अपशिष्ट प्रबंधन (सालिडवेस्ट मैनेजमेंट) और इतनी ही धनराशि प्रदूषण नियंत्रण के लिए खर्च किया जाना है। करीब एक-डेढ़ महीने पहले हुई बैठक में ठोस अपशिष्ट प्रबंधन मद के लिए बजट का निर्धारण कर दिया गया था। महापौर की अध्यक्षता में आज होने वाली बैठक में प्रदूषण नियंत्रण मद के लिए बजट का निर्धारण किया जाएगा। इसमें नैनी में नए यमुना ब्रिज के समीप वर्कशाप और वहीं पार्किंग निर्माण के लिए भी बजट तय किया जाएगा। सड़कों के निर्माण के लिए भी बजट निर्धारित होगा, क्योंकि खस्ताहाल और बदहाल सड़कों की वजह से उड़ती धूल से भी प्रदूषण फैलता है। सड़कों पर पानी के छिड़काव के लिए और स्प्रिंकलर गाड़ियां भी मंगाई जाएंगी। फिलहाल, निगम के पास लीडर रोड पर वर्कशाप है, जहां से गाड़ियां कूड़ा उठाने के लिए निकलती हैं। कूड़ा बसवार स्थित कूड़ा निस्तारण प्लांट ले जाया जाता है, इससे डीजल की खपत अधिक हो रही है। नैनी में वर्कशाप बन जाने से उधर और आसपास के क्षेत्रों का कूड़ा वहीं से गाड़ियों से बसवार भेज दिया जाएगा। कोट--नैनी में वर्कशाप बनने से डीजल की बहुत बचत होगी। पार्किंग में निगम और आम नागरिकों की गाड़ियां खड़ी होंगी। बैठक में सड़कों के निर्माण और मशीनें खरीदने के लिए भी बजट का प्रविधान किया जाएगा। अभिलाषा गुप्ता, महापौर।

Edited By Ankur Tripathi

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept