माघ मेला में संगम स्‍नान को आने वाले ध्‍यान दें, प्रमुख स्‍नान पर्वों पर प्रयागराज जंक्‍शन पर रहेंगी कुछ पाबंदियां

Prayagraj Magh Mela 2022 माघ मेला के प्रमुख स्नान पर्वों के एक दिन पहले से लेकर एक दिन बाद तक सिविल लाइंस साइड से जंक्शन पर प्रवेश प्रतिबंधित होगा। यानी तीन दिन प्रतिबंध रहेगा। यहां से केवल यात्री बाहर जा सकेंगे।

Brijesh SrivastavaPublish: Wed, 12 Jan 2022 10:09 AM (IST)Updated: Wed, 12 Jan 2022 10:09 AM (IST)
माघ मेला में संगम स्‍नान को आने वाले ध्‍यान दें, प्रमुख स्‍नान पर्वों पर प्रयागराज जंक्‍शन पर रहेंगी कुछ पाबंदियां

प्रयागराज, जागरण संवाददाता। प्रयागराज माघ मेला 2022 बस कुछ ही दिनों में शुरू हो जाएगा। माघ मेला में गंगा, यमुना के संगम में स्‍नान का पुण्‍य लाभ लेने देश-विदेश से लोग यहां आते हैं। इस बार भी संगम स्‍नान को भीड़ जुटेगी। अधिकांश लोग ट्रेनों के माध्‍यम से ही प्रयागराज आते हैं। ऐसे में माघ मेला के प्रमुख स्‍नान पर्वों पर रेलवे ने कुछ खास प्रबंध किए हैं। ऐसा इसलिए कि यात्रियों को परेशानी न हो।

प्रमुख स्‍नान पर्वों पर तीन दिन सिविल लाइंस साइड से जंक्‍शन पर प्रवेश नहीं हो सकेगा

माघ मेला के प्रमुख स्नान पर्वों के एक दिन पहले से लेकर एक दिन बाद तक सिविल लाइंस साइड से जंक्शन पर प्रवेश प्रतिबंधित होगा। यानी तीन दिन प्रतिबंध रहेगा। यहां से केवल यात्री बाहर जा सकेंगे। जंक्‍शन के बाहर से यात्री वाहनों के माध्यम से गंतव्‍य तक जा सकेंगे।

सिटी साइड से जंक्‍शन पर यात्री कर सकेंगे प्रवेश

यात्रियों को सिटी साइड (लीडर रोड) की ओर से प्रवेश मिलेगा। सामान्य दिनों में यात्री सिविल लाइंस साइड से भी प्रवेश कर सकेंगे। जंक्शन के प्रवेश द्वार पर सुविधाओं की जानकारी के लिए साईनेज लगाये गए हैं। पीआरओ डीआरएम अमित ङ्क्षसह ने बताया कि आश्रयों व प्लेटफार्मों पर रेलवे के अतिरिक्त अधिकारी एवं कर्मचारी तैनात रहेंगे जो श्रद्धालुओं को सहयोग व मार्गदर्शन देंगे।

प्रयागराज जंक्शन पर व्‍यवस्‍था

- 2500 यात्री एक आश्रय स्थल में रुक सकेंगे।

- 10000 यात्रियों के रुकने की व्यवस्था

- लाल, नीला, पीला एवं हरा रंग के आश्रयस्थल होंगे।

आश्रय स्थल पर सुविधाएं

आरक्षण काउंटर, पूछताछ काउंटर, ट्रेन टाइमिंग डिस्प्ले बोर्ड, अनाउंसमेंट प्रणाली, पीने का पानी, लाइट व शौचालय।

जंक्शन पर कहां से यात्री करेंगे प्रवेश 

सिटी साइड (लीडर रोड) के गेट संख्या 1, 2ए, 2बी, 3 तथा 4 से।

कहां रुकेंगे यात्री

गेट संख्या 2 ए (नीला रंग) - विंध्याचल, मीरजापुर, पंडित दीनदयाल उपाध्याय जंक्‍शन की ओर जाने वाले यात्री (नीला रंग का आश्रय स्थल में)।

गेट संख्या 2 बी (पीला रंग) - नैनी, मानिकपुर व सतना की ओर जाने वाले यात्री (पीला रंग का आश्रय स्थल में)।

गेट संख्या 3 (हरा रंग) - सुबेदारगज, भरवारी, सिराथू, खागा, फतेहपुर एवं कानपुर की ओर जाने वाले यात्री ( हरा रंग का आश्रय स्थल में)।

गेट संख्या 1 (लाल रंग) - प्रतापगढ़, सुल्तानपुर, वाराणसी एवं लखनऊ की ओर जाने वाले यात्री ( लाल रंग का आश्रय स्थल में)।

गेट संख्या 4 (सफ़ेद रंग) - सभी दिशाओं के आरक्षित टिकट धारक।

नैनी स्टेशन की व्यवस्था

- 3 आश्रय स्थल

गेट संख्या 1 (लाल एवं हरा रंग) - मानिकपुर एवं सतना की ओर जाने वाले यात्री ( लाल एवं हरा रंग का आश्रय स्थल में) ।

गेट संख्या 2 (सफेद रंग) - सभी दिशाओं के आरक्षित टिकट धारक ।

गेट संख्या 03 (बैगनी रंग) - विंध्याचल, मीरजापुर, पंडित दीन दयाल उपाध्याय जंक्‍शन की ओर जाने वाले यात्री।

छिवकी स्टेशन- यहां एक यात्री आश्रय स्थल बना है।

प्रयाग व फाफामऊ स्टेशन से ट्रेन - वाराणसी व लखनऊ की ओर जाने वाले यात्री को मिलेगी।

रामबाग एवं झूंसी स्टेशन से ट्रेन - गोरखपुर की तरफ वाया रामनाथपुर, माधोङ्क्षसह, ज्ञानपुर रोड, बनारस, मऊ, भटनी के यात्री को मिलेगी।

इन तिथियों पर सिविल लाइंस साइड से नो इंट्री

मकर संक्रांति (14 जनवरी) - 13 जनवरी दोपहर 12 बजे से 15 जनवरी रात 12 बजे तक ।

पौष पूर्णिमा (17 जनवरी) - 16 जनवरी दोपहर 12 बजे से 18 जनवरी रात 12 बजे तक ।

मौनी अमावस्या (एक फरवरी)- 30 जनवरी दोपहर शाम छह बजे से दो फरवरी रात 12 बजे तक ।

वसंत पंचमी (पांच फरवरी)- 4 फरवरी दोपहर 12 बजे से छह फरवरी रात 12 बजे तक ।

माघी पूर्णिमा (16 फरवरी) - 15 फरवरी दोपहर 12 बजे से 17 फरवरी रात 12 बजे तक ।

महाशिवरात्रि (एक मार्च) - 28 फरवरी दोपहर 12 बजे से दो मार्च रात 12 बजे तक ।

Edited By Brijesh Srivastava

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept