This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

अब प्ले स्कूल के रूप में भी संचालित होंगे आंगनबाड़ी केंद्र

कौडि़हार ब्लाक के प्राथमिक विद्यालय सरस्वतीपुर उर्फ कौडि़हार में आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं का चार दिवसीय प्रशिक्षण शुरू हुआ। खंड शिक्षाधिकारी कौडि़हार शिवकुमार यादव की मौजूदगी में पहले दिन मां सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया।

Rajneesh MishraThu, 04 Feb 2021 03:18 PM (IST)
अब प्ले स्कूल के रूप में भी संचालित होंगे आंगनबाड़ी केंद्र

प्रयागराज, जेएनएन। बुनियादी शिक्षा को बेहतर बनाने के लिए आंगनबाड़ी केंद्रों को प्ले स्कूल के रूप में ढालने की कवायद शुरू की गई है। इसके लिए आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को प्रशिक्षित करने के लिए चार दिवसीय प्रशिक्षण का आगाज किया गया। नौनिहालों को बचपन से ही पढऩे लिखने के कौशल को विकसित करने की तैयारियां शुरू हो गई हैं।

आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं का चार दिवसीय प्रशिक्षण शुरू

कौडि़हार ब्लाक के प्राथमिक विद्यालय सरस्वतीपुर उर्फ कौडि़हार में आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं का चार दिवसीय प्रशिक्षण शुरू हुआ। खंड शिक्षाधिकारी कौडि़हार शिवकुमार यादव की मौजूदगी में पहले दिन मां सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया। प्रशिक्षण में शामिल आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को बताया गया कि  बुनियादी शिक्षा को ध्यान में रखते हुए प्ले के तर्ज पर नौनिहालों को उत्कृष्ट शिक्षा प्रदान करने के लिए प्रशिक्षण की व्यवस्था की गई है। बचपन से ही नौनिहालों को पढऩे लिखने की रुचि पैदा की जा सके। इसी के साथ आंगनबाड़ी केंद्रों से नौनिहालों को बेहतर शिक्षा से जोड़ा जा सके। बीईओ शिव कुमार यादव ने कहा कि आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को चाहिए कि अपनी जिम्मेदारी का निर्वहन करते हुए शिक्षा गुणवत्ता को बेहतर बनाने में योगदान करें। मौके पर संदर्भदाता अवनीश ङ्क्षसह, शोभा कुमारी, मनोरमा शुक्ला, माया मिश्रा, शिक्षक नेता राधेकृष्ण, बालेंद्र पांडेय, विनीत ङ्क्षसह यादव, एआरपी अजमल अमीन, इमरान कलीम आदि रहे।

नौनिहालों के अक्षर ज्ञान की शुरुआत

दूसरी ओर करछना में द्वितीय चरण के आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के चार दिवसीय ईसीसीई प्रशिक्षण कार्यक्रम की शुरुआत बीआरसी करछना में की गई। इस चार दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम से नौनिहालों के अक्षर ज्ञान की शुरुआत की गई। प्रशिक्षण कार्यक्रम की शुरुआत खंड शिक्षा अधिकारी संतोष कुमार श्रीवास्तव द्वारा मां सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण और दीप प्रज्ज्वलन के साथ हुआ। कार्यक्रम का उद्देश्य बच्चों के जीवन के इस अवधि में गुणवत्तापूर्ण देखभाल एवं शाला शिक्षा की अति आवश्यकता होती है। तीन वर्ष से छह वर्ष की आयु तक के बच्चों के विकास के लिए इन कारकों के अतिरिक्त गुणवत्तापूर्ण शाला पूर्व शिक्षा भी अति आवश्यक है। सीडीपीओ करछना आनंद सिंह ने आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं से लगन के साथ प्रशिक्षण लेकर नौनिहालों के अक्षर ज्ञान के कार्यक्रम को सफल बनाने की बात कही। एबीएसए ने क्षेत्र की सभी आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं से प्रशिक्षण कार्यक्रम में प्राप्त शिक्षण सामग्री के प्रयोग का आह्वïान किया। इस अवसर पर पर अनुराग कटियार, उत्कर्ष मिश्र, मोहम्मद तारिक, अर्चना साहू, मीना शाक्य, त्रिवेणी शंकर व अन्य लोग मौजूद रहे।

प्रयागराज में कोरोना वायरस से जुडी सभी खबरे

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!