निदेशक ने नोटिस जारी कर तीन दिन में मांगा जवाब Prayagraj News

ग्रीवांस सेल ने मामले की जांच शुरू कर दी। इसी बीच सोमवार को इस मामले में संस्थान के निदेशक प्रोफेसर राजीव त्रिपाठी ने प्रोफेसर और शोध छात्रा को नोटिस जारी कर जवाब मांग लिया।

Brijesh SrivastavaPublish: Tue, 19 Nov 2019 04:49 PM (IST)Updated: Tue, 19 Nov 2019 04:49 PM (IST)
निदेशक ने नोटिस जारी कर तीन दिन में मांगा जवाब Prayagraj News

प्रयागराज,जेएनएन : मोतीलाल नेहरू राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान (एमएनएनआइटी) में प्रोफेसर पर पीछा करने और मोबाइल पर रात में फोन और मैसेज भेजने के मामले में संस्थान के निदेशक ने नोटिस जारी किया है। मामले में छात्रा और प्रोफेसर को तीन दिन के भीतर जवाब देने को कहा गया है। इसके बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।

ग्रीवांस सेल कर रही मामले की जांच

दरअसल, एमएनएनआइटी की एक शोध छात्रा ने छह नवंबर को सिक्योरिटी हेड से लिखित शिकायत की थी। छात्रा ने अपने शोध निर्देशक पर रात में फोन और मैसेज करने के अलावा पीछा करने का आरोप लगाया है। सिक्योरिटी इंचार्ज ने यह जानकारी निदेशक और रजिस्ट्रार को दी। इसके बाद ग्रीवांस सेल ने मामले की जांच शुरू कर दी। इसी बीच सोमवार को इस मामले में संस्थान के निदेशक प्रोफेसर राजीव त्रिपाठी ने प्रोफेसर और शोध छात्रा को नोटिस जारी कर जवाब मांग लिया। उन्होंने बताया कि नियम के मुताबिक स्पष्टीकरण देने के लिए सात दिन का वक्त दिया जाता है। हालांकि, इस प्रकरण में तीन दिन में नोटिस का जवाब देने को कहा गया है। निदेशक ने बताया कि शोध छात्रा ने अब तक कोई भी ऐसा साक्ष्य नहीं दिया है, जिससे आरोप साबित हो सके। उन्होंने बताया कि फिलहाल मामले की जांच कराई जा रही है। इसके बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।

पुलिस को जांच के मिले निर्देश

एमएनएनआइटी में शोध छात्रा द्वारा प्रोफेसर पर रात में मैसेज, कॉल, पीछा करने की शिकायत का मामला शासन तक पहुंच गया है। एक व्यक्ति ने इसकी शिकायत यूपी पुलिस के टिवटर हैंडल पर की जिसके बाद प्रयागराज पुलिस को मामले की जांच के निर्देश दिए गए हैं। हालांकि शिवकुटी थाना प्रभारी यतेंद्र भारद्वाज का कहना है कि अभी इस मामले की थाने में शिकायत नहीं मिली है मगर घटनाक्रम पर नजर रखी जा रही है।

Edited By Brijesh Srivastava

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept