हाथरस में सुबह छाया कोहरा, दोपहर में निकली गुनगुनी धूप

बारिश के बाद अब कोहरा सितम ढा रहा है। शुक्रवार को चारों ओर घना कोहरा छाया हुआ। चलते हाईवे पर वाहन हेडलाइट जलाकर धीमी गति से चल रहे थे। बहुत से चालकों ने कोहरे से बचने के लिए अपने वाहनों को ढावा व होटलों के सहारे खड़ा कर रखा था।

Sandeep Kumar SaxenaPublish: Fri, 14 Jan 2022 02:59 PM (IST)Updated: Fri, 14 Jan 2022 02:59 PM (IST)
हाथरस में सुबह छाया कोहरा, दोपहर में निकली गुनगुनी धूप

हाथरस, जागरण संवाददाता। बारिश के बाद अब कोहरा सितम ढा रहा है। शुक्रवार को चारों ओर घना कोहरा छाया हुआ। चलते हाईवे पर वाहन हेडलाइट जलाकर धीमी गति से चल रहे थे। बहुत से चालकों ने कोहरे से बचने के लिए अपने वाहनों को ढावा व होटलों के सहारे खड़ा कर रखा था। कोहरे के साथ गलन से कंपकपी छूट रही थी। इससे बचने के लिए लोग अलाव का सहारा लेते हुए दिखे।

आज ऐसा था मौसम 

सर्दी का सितम शुरू हो गया है। बारिश के बाद अब कोहरा ने दिक्कतें खड़ी कर रखी हैं। हालांकि कोहरा बारिश के बाद ही शुरू हो गया था। शुक्रवार को तो कोहरे के चलते दिन भी देरी से निकलता हुआ दिखा। चारों ओर घने कोहरे की चादर ने शहर को आगोश में ले रखा था। घरों के दरबाजे व खिड़कियां खुलते ही उसमें कोहरा समाने लगता। कोहरे के चलते हाईवे पर वाहन हेडलाइट जलाकर रेंगते हुए चल रहे थे। दृश्यता कम होने से नजदीक का भी कुछ नहीं दिख रहा था। दुर्घटनाओं से बचने के लिए बहुत से चालकों ने अपने वाहनों को ढावा व पेट्रोलपंपों के आसपास सड़क किनारे खड़ा कर रखा था। सुबह के समय अधिकतम तापमान 17 व न्यूनतम तापमान सात डिग्री सेल्सियस रहा।

सर्दी से बचने को अलाव बने सहारा

मौसम में अचानक बहुत बदलाव हो गया है। सुबह के समय कोहरा के चलते दिक्कतें और बढ़ गईं। गलन ने तो आम जनजीवन अस्त-व्यस्त कर रखा था। गर्म कपड़ों में भी गलन से राहत नहीं मिल रही थी। कोहरा के चलते फुहारे पड़ रही थीं। तापमान गिरने से सर्दी और बढ़ गई। सर्दी से बचने के लिए लोगों ने घरों में रूम हीटर जला रखे थे। घरों के बाहर अलाव के सहारे लोग दिख रहे थे।

बाजार में देरी से खुलीं दुकानें

सर्दियों में बाजार भी सुस्त रहता है। कोहरा व गलनभरी सर्दी के चलते शहर लेकर देहात के बाजारों में दुकानें देरी से खुलीं। सामान्य दिनों में दुकानें सुबह आठ बजे से खुलना शुरू हो जाती थीं। शुक्रवार को यह दुकानें 11 बजे के बाद ही खुलना शुरू हुईं। दुकानदारों ने अपने प्रतिष्ठानों के आगे अलाव जला रखे थे। ग्राहकों के कम दिखने से बाजार में रौनक गायब थी।

Edited By Sandeep Kumar Saxena

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept