गर्भवती महिलाएं समझ रहीं खुशहाल परिवार के तरीके और अपना रहीं परिवान नियोजन

खुशहाल परिवार दिवस पर परिवार नियोजन को अपनाने को एएनएम व आशाएं महिलाओं व पुरुषों को प्रोत्साहित कर रही। बताया कि खुशहाल परिवार दिवस पर एएनएम स्टाफ नर्स व आशा कार्यकर्ताओं ने लाभार्थियों को काउंसलिंग से लेकर ‘बास्केट आफ च्वाइस’ संसाधनों के बारे में जानकारी प्रदान की गई ।

Anil KushwahaPublish: Sat, 22 Jan 2022 04:03 PM (IST)Updated: Sat, 22 Jan 2022 04:08 PM (IST)
गर्भवती महिलाएं समझ रहीं खुशहाल परिवार के तरीके और अपना रहीं परिवान नियोजन

अलीगढ़, जागरण संवाददाता। छोटा परिवार-खुशियां अपार, जीवन में भरो रंग, परिवार नियोजन के संग, ऐसे तमाम श्लोगन सरकार की ओर से परिवार नियोजन कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए दिए जाते रहे हैं। परिवार नियोजन का उद्देश्य जनसंख्या स्थरीकरण व मातृृ-शिशु मृत्यु दर में कमी लाना भी है। यह बातें गर्भवती महिलाएं अब समझने लगी हैं। दरअसल, परिवार नियोजन कार्यक्रम के अंतर्गत हर माह खुशहाल परिवार दिवस का आयोजन किया जा रहा है। इसमें गर्भवतियों को परिवार नियोजन संबंधी सामग्री व अन्य जानकारी विस्तार से दी जाती है। नसबंदी की सुविधा भी मिल रही है।

कोविड प्रोटोकाल का रखा जा रहा ध्‍यान

डिप्टी सीएमओ डॉ. खान चंद ने बताया कि खुशहाल परिवार दिवस पर कोविड-19 प्रोटोकाल के पालन का ध्यान रखा जा रहा है। शुक्रवार को महिला अस्पताल समेत सभी सीएचसी, अर्बन व रूरल पीएचसी पर खुशहाल परिवार दिवस का आयोजन हुआ। यह एक अनूठी पहल है। आशा कार्यकर्ताओं की एक महत्वपूर्ण भूमिका रही है। परिवार नियोजन के साधनों को बांटकर खुशहाल परिवार दिवस को बड़े पैमाने पर मनाया गया। सभी आशा गृह भ्रमण के दौरान नव विवाहित व लक्षित समूह के उन दंपत्ति को चिह्नित किया है, जो परिवार नियोजन के किसी साधन को नहीं अपना रहे हैं। जिले में खुशहाल परिवार दिवस पर परिवार नियोजन को अपनाने के लिए एएनएम व आशाएं महिलाओं व पुरुषों को प्रोत्साहित कर रही हैं। उन्होंने बताया कि खुशहाल परिवार दिवस पर एएनएम, स्टाफ नर्स व आशा कार्यकर्ताओं ने लाभार्थियों को काउंसलिंग से लेकर ‘बास्केट आफ च्वाइस’ संसाधनों के बारे में जानकारी प्रदान की गई ।

प्री रजिस्‍ट्रेशन भी किया गया

फैमिली प्लानिंग लाजिस्टिक मैनेजर वैभव मिश्रा ने कहा कि खुशहाल परिवार दिवस में विभिन्न गर्भनिरोधक साधनों को अपनाने को लेकर भ्रांति भी दूर की जाती है। सेवाओं की उपलब्धता, स्वीकार्यता व प्रोत्साहन राशि की जानकारी देते हुए साधनों को अपनाने के लिए प्रेरित किया जाता है। मुफ्त सामग्री दी जाती है। इच्छुक दंपत्ति का प्री-रजिस्ट्रेशन भी किया गया। इस मौके पर जिला कार्यक्रम प्रबंधक व जिला सामुदायिक प्रक्रिया प्रबंधक भी मौजूद रहे।

Edited By Anil Kushwaha

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept