World liver day : लिवर मजबूत तो शरीर में तेजी से बनेंगी एंटीबाडी Aligarh news

कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए टीकाकरण पर जोर दिया जा रहा है। शोध में सामने आया है कि टीका लगने के बाद शरीर में एंटीबाडी तैयारी होती है जो संक्रमण को रोकने में अहम भूमिका रखती है।

Anil KushwahaPublish: Mon, 19 Apr 2021 11:01 AM (IST)Updated: Mon, 19 Apr 2021 11:45 AM (IST)
World liver day :  लिवर मजबूत तो शरीर में तेजी से बनेंगी एंटीबाडी  Aligarh news

विनेाद भारती, अलीगढ़। कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए टीकाकरण पर जोर दिया जा रहा है। शोध में सामने आया है कि टीका लगने के बाद शरीर में एंटीबाडी तैयारी होती है, जो संक्रमण को रोकने में अहम भूमिका रखती है। विशेषज्ञों का कहना है कि रोग प्रतिरोधक क्षमता के साथ यदि आपका लिवर भी मजबूत है तो एंडीबाडी तेजी से बनती है। इसलिए कोरोना काल में लिवर का ख्याल रखना बहुत जरूरी है। 

लिवर की बीमारी और मरीज 

किशनपुर तिराहा, रामघाट रोड स्थित पेट व लिवर रोग विशेषज्ञ डा. अभिनव वर्मा ने बताया कि लिवर हमारे शरीर का सबसे अहम अंग है। यह पाचन में अहम भूमिका निभाता है। शरीर से विशैले पदार्थों को बाहर निकालना, खून को फिल्टर करना तथा हार्मोन को बनाने के साथ-साथ एनर्जी बढ़ाने का काम भी करता है। बदलती जीवन, खानपान, शराब का सेवन, मोटापा, क्लोरीन युक्त पानी का सेवन समेत तमाम कारणों से लोगों का लिवर कम उम्र में ही खराब होने लगा है। तमाम लोग गैस, कब्ज, फैटी लिवर, अपच, दर्द, अपच समेत पेट की तमाम बीमारियों का इलाज कराने विशेषज्ञों के पास पहुंच रहे हैं। भारत में ही हर साल दो लाख लोगों की मृत्यु लिवर की खराबी से होती हैं। इनमें से 30 हजार मरीज ऐसे होते हैं, जिनकी जान लिवर प्रत्योरापण से बचाई जा सकती है, मगर दानदाता नहीं मिलते। ऐसे में लिवर को स्वस्थ रखना बहुत जरूरी है। 

टीकाकरण के अच्छे परिणाम 

डा. अनुभव के अनुसार लिवर खराबी के चार प्रमुख कारण हैं। अत्याधिक शराब का सेवन, हेपेटाइटिस का संक्रमण, अधिक वजन होने पर चर्बी का लिवर में जमा होना तथा अत्याधिक दवा का सेवन। नई व आधुनिक दवा आ जाने से अब लिवर का उचित इलाज संभव है और संक्रमण को पूरी तरह ठीक किया जा सकता है। यदि आपका लिवर मजबूत है तो कोविड-19 का प्रतिरोधी टीका लगने के बाद शरीर में एंटीबाडी तेजी से बनेंगी। इसलिए कोरोना काल में लिवर को मजबूत रखना बहुत जरूरी है। 

बीमारी के लक्षण 

लिवर में किसी भी प्रकार की समस्या होने पर शरीर में सूजन, त्वचा का हमेशा लाल रहना और खुजली होना। पेशाब का रंग गहरा और आंखे पीली हो जाना, मल में खून आना, भूख न लगना, उबकाई या उल्टी आते रहना, आसानी से थकान और कभी-कभी बालों से जुड़ी समस्या भी होती है। 

ऐसे करें बचाव 

- शराब का सेवन न करें।

- योग-व्यायाम करके वजन को नियंत्रित रखें। 

- किसी भी प्रकार का संक्रमण होने पर डाक्टर से संपर्क करें।

- जंक-फूट का सेवन कम करें। 

-चिकनाई व मसालेदार भोजन कम खाएं। 

आज मुफ्त जांच 

डा. अभिनव ने बताया कि वर्ल्ड लिवर डे के उपलक्ष्य में 19 अप्रैल को प्रथम 50 मरीजों की बाबा मार्केट स्थित क्लीनिक हेपेटाइटिस बी व सी की प्राथमिक जांच मुफ्त की जाएगी।

Edited By Anil Kushwaha

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept