अलीगढ़ में छाया घना कोहरा, तापमान गिरा, शाम में बारिश की संभावना

उत्‍तर प्रदेश के जनपद अलीगढ़ में रोजाना मौसम बदल रहा है। अलीगढ़ में अधिकतम तापमान 20 डिग्री सेल्‍सियस तथा न्‍यूनतम तापमान सात डिग्री से नीचे पहुंच गया लेकिन नेताओं का पारा हाई है। सर्दी खूब अपने तेवर दिखा रही है। शाम को बारिश होने की संभावना है।

Sandeep Kumar SaxenaPublish: Fri, 21 Jan 2022 09:48 AM (IST)Updated: Fri, 21 Jan 2022 10:49 AM (IST)
अलीगढ़ में छाया घना कोहरा, तापमान गिरा, शाम में बारिश की संभावना

अलीगढ़, जागरण संवाददाता। जैसे-जैसे उत्‍तर प्रदेश के जनपद अलीगढ़ में विधानसभा चुनाव के मतदान की तारीख दस फरवरी नजदीक आ रही है, वैसे-वैसे निरंतर ठंड बढ़ रही है। खास बात यह है कि आमजन ठंड से सहमा हुआ। अलीगढ़ में न्‍यूनतम तापमान सात डिग्री से नीचे पहुंच गया, लेकिन नेताओं का पारा हाई है। सर्दी खूब अपने तेवर दिखा रही है।

ऐसा है अलीगढ़ में मौसम

गुरुवार रात से वातावरण में कोहरा छह गया। सुबह फिर कोहरे की चादर से लिपटी हुई नजर आयी। वाहन चालक ही नहीं, अन्य राहगीरों को भी दिक्कत हुई। दृश्यता बाधित होने के कारण मुख्य मार्गों पर वाहनों को रेंग-रेंगकर गंतव्य पर पहुंचना पड़ा। नौ बजे तक सूरज के दर्शन नहीं हुए हैं। अधिकतम तापमान 20 डिग्री व न्यूनतम सात डिग्री सेल्सियस पर पहुंच गया। शुक्रवार शाम को बारिश होने की संभावना है। तड़के से ही कोहरे ने वातावरण को अपने आगोश में लेना शुरू कर दिया। सुबह लोग सोकर उठे तो शहर कोहरे की चादर से ढका नजर आया। मार्निंग वाक पर जानेवाले कोेहरा व कड़ाके की ठंड के तेवर देख बाहर निकलने की हिम्मत नहीं जुटा पाए। बुजुर्ग व बीमार व्यक्तियों ने घर पर ही रहना ठीक समझा। वहीं, अन्य लोग गरम कपड़े पहनकर मार्निंग वाक पर निकले और जल्दी ही लौट आए। सुबह मुख्य मार्गों पर जगह-जगह लोग अलाव जलाकर ठंड से बचाव करते नजर आए।

रेंगकर चले वाहन

वाहन की हेडलाइट जलीं हुई थीं, फिर भी रेंग-रेंगकर आगे बढ़ रहे थे।सुबह 9 बजे कोहरा छंटना शुरू हुआ, लेकिन सूरज नहीं निकला। एक दिन पहले दोपहर बाद बादलों की ओट से सूरज ने झांका, लेकिन फिर सहमकर छुप गया। दिनभर गलन के चलते लोग ठिठुरते रहे। शाम को ठंड और बढ़ गई। कोहरे व सर्दी के सितम का यह चौथा दिन था। लोग ठंड से काफी त्रस्त नजर आए। शाम को जल्दी ही घरों में दुबक गए। देर रात से कोहरा छाना शुरू हो गया।

Edited By Sandeep Kumar Saxena

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept