Bharat Bandh in Agra: नये कृषि विधेयकों के विरोध में आज ताजनगरी में बुलंद होगी आवाज

Bharat Bandh in Agra सपा बसपा प्रसपा की टोलियां निकलेंगी बाजार बंद कराने। कृषि क्षेत्र के तीन नये विधेयकों के विरोध में पिछले कई दिनों से दिल्ली में किसान आंदोलन कर रहे हैं। मंगलवार को भारत बंद का एलान है।

Tanu GuptaPublish: Tue, 08 Dec 2020 09:24 AM (IST)Updated: Tue, 08 Dec 2020 09:24 AM (IST)
Bharat Bandh in Agra: नये कृषि विधेयकों के विरोध में आज ताजनगरी में बुलंद होगी आवाज

आगरा, जागरण संवाददाता। नये कृषि विधेयकों के विरोध में 8 दिसंबर को ताजनगरी में भी आवाज बुलंद होगी। किसान आंदोलन के समर्थन में भारत बंद का समर्थन करते हुए समाजवादी पार्टी, बहुजन समाजपार्टी, प्रगतिशील समाजवादी पार्टी की टोलियां बाजार बंद कराने निकलेंगी। आम आदमी पार्टी भी नये विधेयकों के विरोध में है।

कृषि क्षेत्र के तीन नये विधेयकों के विरोध में पिछले कई दिनों से दिल्ली में किसान आंदोलन कर रहे हैं। मंगलवार को भारत बंद का एलान है। कई राजनीतिक पार्टियों ने इसका समर्थन कर रही हैं। इसको लेकर ताजनगरी में पुलिस-प्रशासन भी सुबह से ही अलर्ट है। सपा महानगर अध्यक्ष चौधरी वाजिद निसार का कहना है कि सरकार अपनी जिद पर अड़ी है। किसानों की समस्या को नजरअंदाज कर रही है। कृषि प्रधान देश में अन्नदाता की ही नहीं सुनी जा रही। भाजपा सरकार चंद घरानों को लाभ पहुंचाने में जुटी है। ऐसे में सपा किसानों के साथ खड़ी है। उनकी हर लड़ाई में सपाई उनके साथ है। उन्होंने कहा कि भारत बंद को सफल बनाने के लिए उनकी टीमें विभिन्न बाजारों में निकलेंगी। वह व्यापारियों से अपने-अपने प्रतिष्ठान बंद कराने के लिए आग्रह करेंगी। साथ ही साइकिल यात्रा के जरिये लोगों को नये कृषि विधेयकों के विरोध में जागरूक किया जाएगा। उन्हें बताया जाएगा कि इन नये विधेयकों से हमारे अन्नदाताओं को क्या-क्या नुकसान हैं। ये आंदोलन जारी रहेगा। किसानों का पूरा साथ दिया जाएगा। 

पुलिस रख रही नेताओं पर निगरानी

किसान आंदोलन के भारत बंद के एलान को देखते हुए पुलिस अतिरिक्त सतर्कता बरत रही है। आगरा के तमाम विपक्षी दल के नेताओं पर नजर रखी जा रही है। ड्रोन से शहर की सुरक्षा व्यवस्था पर निगरानी रखी जा रही है। 

Edited By Tanu Gupta

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept