UP Election 2022: आगरा में 10 हजार मतदाताओं को मनाने का जतन, लापता बच्‍चे को खोजने की प्रत्‍याशियों को मिली चुनौती

इरादत नगर के 10 हजार से ज्यादा मतदाताओं काे मनाने के लिए प्रत्याशियों के सामने बालक को खोजने की चुनौती। गांव हज्जपूूुरा में वोट मांगने गए प्रत्याशियों के सामने रखी है ये शर्त। 23 जनवरी की दोपहर से गायब है किराना व्यापारी का नौ साल का पुत्र।

Prateek GuptaPublish: Thu, 27 Jan 2022 04:58 PM (IST)Updated: Thu, 27 Jan 2022 04:58 PM (IST)
UP Election 2022: आगरा में 10 हजार मतदाताओं को मनाने का जतन, लापता बच्‍चे को खोजने की प्रत्‍याशियों को मिली चुनौती

आगरा, जागरण संवाददाता। फतेहाबाद विधानसभा क्षेत्र के प्रत्याशियों के सामने 10 हजार से अधिक मतदाताओं काे मनाने के लिए अजब चुनौती सामने है। गणतंत्र दिवस पर कई पार्टियों के प्रत्याशी गांव हज्जपुरा में वोट मांगने गए थे। उनके सामने तब अजब स्थिति पैदा हो गई, जब पूरे गांव ने प्रत्याशियों के सामने तीन दिन से लापता नौ साल के बालक को खोजकर लाने की शर्त रख दी। बालक की बरामदगी को लेकर अब आसपास के गांव के लोग भी एकजुट हो गए हैं। इन गांवों के 10 हजार से ज्यादा मतदाता हैं। ग्रामीणों ने कह दिया है कि वह किस प्रत्याशी को मत देना है, इस बारे में अभी नहीं सोचा है। उनकी पहली प्राथमिकता बालक की बरामदगी है। वहीं, बालक की बरामदगी को लेकर धरना-प्रदर्शन इसलिए नहीं कर रहे हैं कि पुलिस के सामने कानून-व्यवस्था की समस्या पैदा हो जाएगी। पुलिस अधिकारियों ने ग्रामीणों से कहा है कि यदि वह धरना-प्रदर्शन करेंगे तो इससे बालक की तलाश में जुटी पुलिस प्रभावित होगी। उसे कानून-व्यवस्था को भी बरकरार रखना होगा।  

ये है मामला

मामला इरादत नगर के थाना क्षेत्र के गांव हज्जपुरा का है। गांव के किराना व्यापारी गब्बर सिंह का नौ साल का बेटा कुलदीप 23 जनवरी को घर के बाहर बच्चों के साथ खेल रहा था। वह पहली कक्षा में पढ़ता है। तीसरे पहर करीब तीन बजे स्वजन ने उसे ट्यूशन पढ़ने को भेजने के लिए कुलदीप को तलाशना शुरू किया। उसके साथ खेलने वाले बच्चों से जानकारी की। बच्चों ने स्वजन को बताया कि कुलदीप को उन्होंने गांव में दोपहर में एक तेरहवीं में देखा था।

कुलदीप के चाचा जितेंद्र ने बताया कि कई घंटे बाद भी जब उसका पता नहीं लगा तो थाने पहुंचकर पुलिस को इसकी जानकारी दी।  पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर कुलदीप की तलाश शुरू कर दी। उसके साथ खेलने वाले बच्चों व तेरहवीं में आए लोगों समेत अन्य से जानकारी की। मगर, कुलदीप का सुराग नहीं मिला। मंगलवार को एसपी ग्रामीण व सीओ समेत अन्य अधिकारी भी गांव पहुंचे। उन्होंने भी बालक के स्वजन को उसकी बरामदगी का आश्वसन दिया।किराना व्यापारी के बेटे के गायब होने से ग्रामीण भी परेशान है। गांव वाले भी अपने स्तर से उसकी तलाश में जुटे हैं।

गणतंत्र दिवस पर प्रत्याशियों के सामने रखी शर्त

बुधवार को डोर टू डोर प्रचार के तहत कई पार्टियों के प्रत्याशी गांव में आए थे। प्रत्याशियों पर पूरा गांव एकजुट हो गया। गांव वालों का प्रत्याशियों से कहना था कि वह वोट की बात बाद में करें। पहले उनके गांव से गायब हुए बच्चे को खोजने में मदद करें। क्योंकि वह किसी एक परिवार का बेटा नहीं बल्कि पूरे गांव का सदस्य है। ग्रामीणों ने प्रत्याशियों से कहा कि पहले बच्चे को ढूंढकर लाओ, इसके बाद गांव में आकर वोट की बात करना। गांव की एकजुटता को देख प्रत्याशियों ने भी बच्चे को खोजने का आश्वासन दिया।

 

Edited By Prateek Gupta

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept
ट्रेंडिंग न्यूज़

मौसम