आगरा में परिसीमन बदला तो बदल गए कई दिग्गजों के मैदान, साथ ही बदले जातिगत समीकरण भी

अब तक कई बार बदल चुका है आगरा में विधानसभा सीटों का परिसीमन। आजादी के बाद पहली बार 1952 में विस चुनाव हुआ। तब जिले में आठ विधानसभा सीटें थीं। फिरोजाबाद विस सीट तब फतेहाबाद का हिस्सा हुआ करती थी। अगले ही चुनाव में एक सीट कम हो गई।

Prateek GuptaPublish: Sat, 29 Jan 2022 12:08 PM (IST)Updated: Sat, 29 Jan 2022 12:08 PM (IST)
आगरा में परिसीमन बदला तो बदल गए कई दिग्गजों के मैदान, साथ ही बदले जातिगत समीकरण भी

आगरा, जागरण संवाददाता। विधानसभा सीटों का अब तक कई बार परिसीमन हो चुका है। ऐसे में दिग्गजों को अपना चुनावी मैदान भी बदलना पड़ा है। आखिरी बार 2012 में विधानसभा क्षेत्रों का परिसीमन हुआ था। इसमें आगरा ग्रामीण (एससी), आगरा दक्षिण और आगरा उत्तर सीट अस्तित्व में आई।

परिसीमन बदलने से कई सीटों पर जातिगत समीकरण भी बदले। इससे उनकी जीत के समीकरण में बदल गए। ऐसे में दिग्गजों को मैदान बदलना पड़ा। 2022 के चुनाव के लिए चुनावी मैदान तैयार है। कई दिग्गज अपनी किस्मत आजमाने मैदान में उतरे हुए हैं। आजादी के बाद पहली बार 1952 में विस चुनाव हुआ। तब जिले में आठ विधानसभा सीटें थीं। फिरोजाबाद विस सीट तब फतेहाबाद का हिस्सा हुआ करती थी। अगले ही चुनाव में एक सीट कम हो गई। वर्तमान में नौ विधानसभा क्षेत्र हैं। इसमें से आगरा छावनी और आगरा ग्रामीण आरक्षित हैं।

ये प्रमुख परिसीमन

1952 परिसीमन

किरावली, खेरागढ़, आगरा सिटी उत्तर, आगरा सिटी पश्चिम, आगरा, एत्मादपुर-आगरा पूर्वी, फतेहाबाद-फिरोजाबाद व बाह।

1957 परिसीमन

फतेहपुर सीकरी, खेरागढ़, आगरा सिटी प्रथम, आगरा सिटी द्वितीय (एससी), एत्मादपुर (एससी), फतेहाबाद और बाह।

1962 परिसीमन

एत्मादपुर दक्षिण, एत्मादपुर उत्तर (एससी), बाह, फतेहाबाद, खेरागढ़, आगरा प्रथम, आगरा सिटी द्वितीय, आगरा ग्रामीण (एससी), फतेहपुर सीकरी।

1967 परिसीमन

बाह (एससी), फतेहाबाद, टूंडला, दयालबाग (एससी), आगरा छावनी, आगरा पूर्वी, आगरा पश्चिम, खेरागढ़ और फतेहपुर सीकरी।

1974-2007 परिसीमन

बाह, फतेहाबाद, एत्मादपुर (एससी), दयालबाग, आगरा छावनी, आगरा पूर्वी, आगरा पश्चिमी (एससी), खेरागढ़ और फतेहपुर सीकरी।

2012 परिसीमन

एत्मादपुर, आगरा छावनी (एससी), आगरा दक्षिण, आगरा उत्तर, आगरा ग्रामीण (एससी), फतेहपुर सीकरी, खेरागढ़, फतेहाबाद और बाह।

इन्होंने हाल ही में बदले चुनावी मैदान

- 2007 में दयालबाग सीट से विधायक चुने गए डा. धर्मपाल सिंह 2012 के परिसीमन के बाद एत्मादपुर सीट से चुनाव लड़े और विधायक बने। 2012 में दयालबाग सीट खत्म हो गई और आगरा ग्रामीण अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित हो गई। इसके चलते डा. धर्मपाल सिंह को मैदान छोड़ना पड़ा।

- 2007 में आगरा पश्चिम आरक्षित सीट से विधायक चुने गए गुटियारी लाल दुबेश 2012 के परिसीमन के बाद आगरा छावनी से चुनाव लड़े और विधायक बने। 2012 में आगरा पश्चिम सीट खत्म हो गई। इस परिसीमन में छावनी सीट आरक्षित हो गई। ऐसे में गुटियारी लाल दुबेश को मैदान बदलना पड़ा।

- 2007 में छावनी से विधायक चुने गए जुल्फिकार अहमद भुट्टो 2012 के परिसीमन के बाद आगरा दक्षिण से चुनाव लड़े। मगर, वह चुनाव हार गए। इस परिसीमन में छावनी सीट आरक्षित होने के बाद उन्हें सामान्य सीट आगरा दक्षिण पर जाना पड़ा। 

Edited By Prateek Gupta

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept