आगरा में रात में मुस्‍तैद है पुलिस, यात्रियों को सुरक्षित रखने को भी उठाया ये कदम

दैनिक जागरण की टीम 13 में 11 चेकिंग प्वाइंट पर मुस्तैद मिली पुलिस। आइएसबीटी पुलिस बूथ और भावना एस्टेट चाैकी पर पसरा मिला सन्नाटा। पश्चिमपुरी पर तैनात पिकेट लेती है रात में चलने वाले ऑटो चालक का आइडी। सवारी छोड़कर आने के बाद किया जाता है वापस।

Prateek GuptaPublish: Sat, 23 Oct 2021 10:53 AM (IST)Updated: Sat, 23 Oct 2021 10:53 AM (IST)
आगरा में रात में मुस्‍तैद है पुलिस, यात्रियों को सुरक्षित रखने को भी उठाया ये कदम

आगरा, जागरण संवाददाता। अंधेरी रातों में सुनसान सड़कों पर निकलने वाले शहरी कितने सुरक्षित हैं, इस दौरान पुलिस उनकी सुरक्षा के लिए कितनी मुस्तैद रहती है। दैनिक जागरण की टीम पुलिस सतर्कता को चेक करने के लिए रात 12:30 से 2:8 बजे तक शहर में घूमी। टीम ने 13 चेकिंग प्वाइंट को चेक किया। जिसमें 11 स्थानों पर पुलिस मुस्तैद मिली। जबकि आइएसबीटी पुलिस बूथ और सिकंदरा की भावना एस्टेट पुलिस चौकी पर सन्नाटा पसरा मिला। इसी दौरान पश्चिमपुरी में कारगिल शहीद पेट्रोल पंप चेकिंग प्वाइंट पर तैनात पुलिसकर्मियों द्वारा आटो में जाने वाली सवारियों की सुरक्षा को लेकर किए जाने वाले प्रयोग से भी टीम रूबरू हुई। जिससे सवारियों के साथ लूटपाट की आशंका खत्म करने के साथ ही उन्हें घर तक सुरक्षित पहुंचना सुनिश्चित करने में मदद मिली है।

सिकंदरा में कारगिल शहीद पेट्रोल पंप के सामने पश्चिमपुरी मोड़ पर बने चेकिंग प्वाइंट रात 12:49 बजे जागरण की टीम पहुंची। यहां बूथ पर तैनात दो पुलिसकर्मी सवारियों को ले जाने वाले सभी आटो चेकिंग के लिए रोकते दिखे। यह देखकर टीम को उत्सुकता बढ़ी, कारण जानने के आटो तक पहुंची। पुलिसकर्मियों ने सवारी से पूछा कि उसे कहां जाना है, उसे अपना मोबाइल नंबर दिया। इसके बाद आटो का नंबर नोट किया। चालक से उसकी आइडी लेकर अपने पास रख ली। चालक से कहा कि वह सवारी को छोड़कर आते समय अपनी आइडी उनसे ले जाए।

टीम पुलिसकर्मियों की कार्रवाई की गहराई में गई। उनसे जानकारी करने पर पता चला कि रात 11 बजे के बाद चेकिंग प्वाइंट से होकर कालोनियों में आटो से जाने वाली सवारियों की सुरक्षा को सुनिश्चित करने के लिए यह सब किया जाता है। इससे आटो में सवारियों के साथ अनहोनी की घटना ना के बराबर रहती है। चालक सवारी को उसके गंतव्य पर छोड़कर अपनी आइडी ले जाता है। सिकंदरा इलाके में यह व्यवस्था रात 11 बजे से सुबह पांच बजे तक रहती है। दाे महीने से जारी इस प्रयोग से आटो में सवारियों के साथ लूटपाट की घटनाओं पर लगाम कसी है।

इन जगहों पर मुस्तैद मिली पुलिस

रात 12:30 बजे: सिकंदरा तिराहे पर पुलिसकर्मी आटो चालकों की चेकिंग कर रही थी।

रात 12:49 बजे: कारगिल शहीद पेट्रोल पंप पश्चिमपुरी तिराहे पर पुलिस मुस्तैद मिली।

रात 1:15 बजे: बोदला चौकी पर वाहन चालकों की चेकिंग करती दिखी।

रात 1:32 बजे: शाहगंज के साकेत कालोनी चौराहे बूथ पर पुलिस दोपहिया वाहन चालकों को चेक कर रही थी। इस दौरान एक एक्टिवा सवार खुद पुलिस के पास पहुंचा, बोला उसकी पहले तलाशी ले लो, बेटे को डेंगू है, उसे जल्दी अस्पताल पहुंचना है। पुलिस ने तत्काल चेकिंग कर उसे वहां से रवाना किया।

रात 1:25 बजे: जयपुर हाउस पुलिस बूथ पर पुलिसकर्मी मौजूद थे। सन्नाटे में डूबे जयपुर हाउस के बाजार में गश्त के बाद 112 की गाडी भी वहां आकर खड़ी हो गई।

रात 1:35 बजे: पुलिस हिरासत में मृत अरुण की बस्ती में जाने वाली गली के बाहर पुलिसकर्मी तैनात थे। वहीं कुछ पुलिसकर्मी ने बस्ती के बीच मैदान में अलाव जला रखा था। यह अलाव उन्होंने मच्छरों से बचने के लिए जलाया था।

रात 1:42 बजे: सेंट जोंस चौराहे पर सन्नाटा पसरा मिला, यहां बने बूथ में दिन में ट्रैफिक पुलिस रहती है, जिसे रात में बंद कर दिया जाता है।

रात 1:58 बजे: हरीपर्वत चौराहे पर सन्नाटा पसरा हुआ था। थाने के गेट के अंदर पुलिसकर्मी मौजूद था।

रात 2:15 बजे: संजय प्लेस पुलिस चौकी पर सिपाही तैनात था।

रात 2:22 बजे: सूरसदन तिराहे पर सन्नाटा पसरा मिला, एमजी रोड पर स्थित शोरूमों के चौकीदार जरूर घूमते मिले।

रात 2:30 बजे: भगवान टाकीज चौराहे पर दुकानों के सामने मजदूर काम कर रहे थे। पुल के नीचे बने बूथ पर पुलिसकर्मी बैठे हुए मोबाइल देखकर समय काट रहे थे।

रात 2:40 बजे: आइएसबीटी पुलिस बूथ पर सन्नाटा पसरा मिला। पुलिसकर्मी बूथ में नहीं थे।

रात 2:58 बजे: सिकंदरा की भावना एस्टेट पुलिस चौकी पर भी सन्नाटा पसरा हुआ था।

जिले मे चेकिंग प्वाइंट

जिले में यूपी 112 के 123 प्वाइंट हैं। यहां पर यूपी 112 की गाड़ी तैनात रहती हैं। इसके अलावा 150 ऐसे प्वाइंट हैं, जहां पर संबंधित थानों की पुलिस तैनात रहती है।

इस साल के अपराध का ग्राफ

जनपद में इस साल जनवरी से 15 अक्टूबर के दौरान हत्या की 52, लूट की 129 एवं वाहन चोरी की 867 घटनाएं हुई हैं। नवंबर में पारा गिरने के साथ ही अपराध का आंकड़ा बढ़ने लगता है।

Edited By Prateek Gupta

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept