पंडित बिरजू महाराज के जाने से अनाथ हो गया कथक, इंग्‍लैंड में बसीं शिष्‍या ने साझा कीं उनकी यादें

पं. बिरजू महाराज की शिष्य हैं आगरा की नृत्‍यांगना एवं कथक गुरु काजल शर्मा। बोलीं कल रात को भी महाराज सपने में आए। वह रियाज कर रहे थे और उन्होंने मेरे सर पर हाथ रखकर आशीर्वाद दिया और एक परछाईं की तरह गायब हो गए।

Prateek GuptaPublish: Tue, 18 Jan 2022 09:35 AM (IST)Updated: Tue, 18 Jan 2022 09:35 AM (IST)
पंडित बिरजू महाराज के जाने से अनाथ हो गया कथक, इंग्‍लैंड में बसीं शिष्‍या ने साझा कीं उनकी यादें

आगरा, जागरण संवाददाता। पं. बिरजू महाराज की शिष्य कथक गुरु और नृत्यांगना काजल शर्मा ने उनके निधन पर श्रद्धांजलि व्यक्त की है। उन्होंने कथक के अनाथ होने की बात कही है। आगरा की मूल निवासी काजल वर्तमान में इंग्लैंड में रहती हैं।

काजल शर्मा ने कहा कि पं. बिरजू महाराज से उनका रिश्ता एक गुरु-शिष्य के साथ-साथ भगवान-भक्त, पिता-पुत्री और पिछले कुछ वर्षों से एक मित्र का रहा। वह एक आदर्श गुरु, महान कलाकार और अद्भुत व्यक्तित्व के इंसान थे। यह मेरा परम सौभाग्य रहा कि उनसे 53 वर्ष पूर्व संपर्क हुआ। मेरे कथक जीवन में समय-समय पर उन्होंने मेरा मार्गदर्शन किया। पिछले 20-22 वर्षों में इंग्लैंड में जब भी मैं सोच-विचार में पड़ती थी, तो मेरे सपने में आकर वह उसे सुलझा देते थे। कई रचनाओं के दौरान मुझे ऐसा अद्भुत अनुभव रहा। कल रात को भी महाराज सपने में आए। वह रियाज कर रहे थे और उन्होंने मेरे सर पर हाथ रखकर आशीर्वाद दिया और एक परछाईं की तरह गायब हो गए। वह हमेशा कहते थे कि काजल तेरे साथ मेरा रिश्ते पिछले जन्म का है। पिछली बार जब उनसे मेरी मुलाकात लंदन में हुई तो उन्होंने कहा कि मैं तेरी मिसाल हर वर्कशाप में देकर कहता हूं कि काजल जैसी मेहनत करो और कुछ बनो। उनके दु:खद निधन से कथक अनाथ हो गया है। 

Edited By Prateek Gupta

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept