Benefits of Cherry: छोटी सी चैरी के 6 बड़े फायदे, सेहत के साथ बढ़ा देते हैं स्वाद, पढ़ें क्या हैं आगरा में भाव

Benefits of Cherry छोटी सी चैरी में छुपे हैं सेहत के बड़े गुण। सिकंदरा मंडी में रोज होती है 800 से एक हजार पैकेट आवक। चैरी को सीधे जूस केक शेक और सब्जियों में भी प्रयोग कर खा सकते हैं।

Tanu GuptaPublish: Fri, 24 Jun 2022 04:24 PM (IST)Updated: Fri, 24 Jun 2022 04:24 PM (IST)
Benefits of Cherry: छोटी सी चैरी के 6 बड़े फायदे, सेहत के साथ बढ़ा देते हैं स्वाद, पढ़ें क्या हैं आगरा में भाव

आगरा, आगरा, जागरण संवाददाता। खट्टे, मीठे स्वाद से भरपूर चैरी का नाम आते ही मुंह में पानी आ जाता है। गुणों से भरपूर चैरी के कई तरह के प्रयोग होते हैं। चैरी को सीधे, जूस, केक, शेक और सब्जियों में भी प्रयोग कर खा सकते हैं। इन दिनों सिकंदरा मंडी में चैरी की भरमार है, जो कुछ दिनों की बची है। इसके बाद शीतगृह में रखी हुई चैरी और चैरी पेस्ट प्रयोग होगा।

सिकंदरा फल एवं सब्जी मंडी में चैरी की आवक हिमाचल से हो रही है। प्रतिदिन 800 से एक हजार पैकेट (प्रति 500 ग्राम) आते हैं। छोटा बीज और रसीला पल्प इसे स्वादिष्ट बनाता है। ये दिखने में आकर्षक होती है, लेकिन बहुत जल्द ही खराब हो जाती है। मंडी व्यापारी सुरेंद्र बताते हैं कि 24 घंटे से ज्यादा रखने पर पैकेट में खराब होने लगती है। इसे ठंडे स्थान पर स्टोर किया जाता है, तब लंबे समय चल सकती है। चैरी की आवक मई और जून में ही होती है। फिलहाल थोक बाजार में 230 रुपये प्रति पैकेट 500 ग्राम का मिल रहा है। थोक बाजार में मनमाने रेट निर्धारित हैं। विशेषज्ञ इसमें पाए जाने वाले तत्व और विशेषताओं के बारे में बताते हैं।

स्वस्थ्य रहने में करती सहयोग

1- चैरी में पाए जाने वाले एंटीऑक्सीडेंट तत्व कैंसर से लडऩे में मदद करते हैं।

2- चैरी में मौजूद एंथोसियानिन गठिया से पीडि़त लोगों को दर्द से राहत देता है।

3- चैरी फाइबर का अच्छा स्त्रोत है। फाइबर से बेहतर पाचन होता है और कब्ज दूर होती है।

4- चैरी में मौजूद एंथोसियानिन याददाश्त बढ़ाने में मदद करता है।

5- चैरी में विटामिन ए प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। नियमित खाने से आंखों को फायदा पहुंचता है।

6- आयरन, मैगनीज, जिंक, पोटेशियम तत्व चैरी में पाए जाते हैं। इसके साथ ही इसमें बीटा कैरोटीन भी होता है, जो दिल की बीमारी को दूर करने में मदद करता है।

हिमाचल की चैरी की आवक होती है। ये सहालग में प्रयोग होती है और जूस, शेक कारोबारी भी लेकर जाते हैं। चैरी बहुत कम समय के लिए आती है।

- गजेंद्र सिसौदिया, थोक विक्रेता 

Edited By Tanu Gupta

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept