Google ने भारत में एक दर्जन से ज्यादा डोमेन और वेबसाइटों पर लगाया बैन, हैकिंग में हो रहे थे इस्तेमाल

गूगल ने भारत से एक दर्जन से अधिक डोमेन और वेबसाइटों को बैन कर दिया है। इनका उपयोग हैक-फार-हायर ग्रुप द्वारा दुनिया भर में यूजर्स को हैकिंग के जाल में फंसाने के लिए किया जा रहा था। आइये जानते है कौन सी हैं ये वेबसाइट्स….

Ankita PandeyPublish: Sat, 02 Jul 2022 07:07 PM (IST)Updated: Sat, 02 Jul 2022 07:07 PM (IST)
Google ने भारत में एक दर्जन से ज्यादा डोमेन और वेबसाइटों पर लगाया बैन, हैकिंग में हो रहे थे इस्तेमाल

 नई दिल्ली, टेक डेस्क। Google की थ्रेट एनालिसिस ग्रुप (TAG) ने एक दर्जन से अधिक दुर्भावनापूर्ण भारत-लिंक्ड डोमेन और वेबसाइट को प्रतिबंधित कर दिया गया है। इनका उपयोग हैक-फॉर-हायर समूहों द्वारा दुनिया भर में उपयोगकर्ताओं को टारगेट करके अटैक करने में किया जा रहा था। यूजर्स को खतरे के बारे में चेतावनी देने के लिए, कंपनी ने हाल ही में एक ब्लॉग पोस्ट पब्लिश किया है, जहां उन्होंने इन प्रतिबंधित डोमेन लिंक को लिस्ट किया है।ये वेबसाइटों या ऐप्स के लिए नकली लॉगिन पेज के रूप में प्रदर्शित होकर यूजर्स के पीसी/लैपटॉप में जासूसी टूल इंजेक्ट करते थे।

कंपनी ने ब्लॉक में बताया कि Google और हमारे यूजर्स पर आने वाले गंभीर खतरों से मुकाबला करने के लिए TAG के मिशन के तहत हमने खतरों की एक सीरीज पर विश्लेषण प्रकाशित किया है, जिसमें सरकार समर्थित हमलावरों, सर्विलांस वेंडर और गंभीर आपराधिक ऑपरेटरों भी शामिल किए गए है। हम हमलावरों के एक सेगमेंट पर खुफिया जानकारी साझा कर रहे हैं जिसे हम हैक-फॉर-हायर कहते हैं। यहां हम आपको उनकी एक लिस्ट दे रहे हैं।

  1. dtiwa.app[.]link
  2. share-team.app[.]link
  3. mipim.app[.]link
  4. processs.app[.]link
  5. aws-amazon.app[.]ink
  6. clik[.]sbs
  7. loading[.]sbs
  8. userprofile[.]live
  9. requestservice[.]live
  10. unt-log[.]com
  11. webtech-portal[.]com
  12. id-apl[.]info
  13. rnanage-icloud[.]com
  14. apl[.]onl
  15. go-gl[.]io

जब भी कोई यूजर्स इन डोमेन पर अपने लॉगिन क्रेडेंशियल टाइप करता है, तो उनकी डिटेल गुप्त रूप से हैकर को भेज दी जाती है, जो उनका उपयोग यूजर के सिस्टम में सेंध लगाने और उस पर पूर्ण नियंत्रण लेने के लिए कर सकते हैं। सरकारी संगठनों से लेकर AWS और जीमेल खातों सब इन फिशिंग संदेशों का निशाना रहे हैं।

Edited By Ankita Pandey

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept