This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

वृषभ वार्षिक राशिफल

01 Jan 2021-31 Dec 2021
  • वृषभ

    वृषभ

    Apr 20 - May 20

    पाल बालाजी ज्योतिष संस्थान जयपुर के निदेशक ज्योतिषाचार्य अनीष व्यास ने बताया कि नया वर्ष आपके लिये काफी अच्छा रहने वाला है। यह साल आपके लिये नई सफलताएँ और उपलब्धियों वाला रहेगा। 2021 में वैवाहिक जीवन और व्यापार में सफलता मिलने के भी योग आपके लिये बना रहा है। इस वर्ष आपको अपने मार्ग में आने वाले विभिन्न विकल्पों का चुनाव करना होगा और सही वक्त पर सही अपॉर्च्युनिटी हासिल करनी होगी तभी आप एक अच्छे वर्ष का आनंद ले पाएंगे। शनिदेव पूरा वर्ष भाग्य स्थान में ही विराजमान रहेंगे, जो कि आपके भाग्य की वृद्धि करने का कार्य करेंगें। वृषभ राशि के जातक प्यार के मामले में बहुत रोमांटिक होते हैं और किसी को प्रेम करते हैं तो दिल की गहराई से करते हैं।
    पाल बालाजी ज्योतिष संस्थान जयपुर के निदेशक ज्योतिषाचार्य अनीष व्यास ने बताया कि वृषभ राशि के जातकों का पारिवारिक जीवन अधिक अनुकूल नहीं रहने की संभावना है। क्योंकि आपको अपने पारिवारिक जीवन में शुरुआत में तनाव महसूस होगा। जिससे आपके पारिवारिक सुख में भी कमी आएगी। आपको इस दौरान जरूरत पड़ने पर, पारिवारिक सहयोग नहीं प्राप्त होगा। इससे आपका मन उदास रह सकता है। इस समय आपको थोड़ा सचेत रहने की आवश्यकता रहेगी। प्रेम जीवन में इस वर्ष मिले-जुले परिणाम देखने को मिलेंगे। इस वर्ष आपको अपने रिलेशनशिप को लेकर तनाव रह सकता है और आप दबाव भी महसूस कर सकते हैं। भविष्यवक्ता और कुण्डली विश्ल़ेषक अनीष व्यास ने बताया कि हालांकि समय के साथ-साथ आपकी लव लाइफ में उतार-चढ़ाव भी देखने को मिलेंगे। संभव है कि आपका साथी आपको आपकी ज़रूरत के अनुसार समय न दे पाए, हालांकि इसके बावजूद भी आप दोनों अपने हर विवाद और आपस की नाराज़गी को समय-समय पर सुलझाने के लिए प्रयास करते दिखाई देंगे। वृषभ राशि के छात्रों के लिए ये साल थोड़ा परेशानी भरा रह सकता है क्योंकि आपके लिए साल की शुरुआत थोड़ी कमजोर रहेगी। अनेक चुनौतियों का सामना भी करना होगा और इन चुनौतियों से लड़कर ही उन्हें सफलता प्राप्त होगी। इस वर्ष आपका स्वास्थ्य उतार-चढ़ाव से भरा रहेगा। आपको अपने स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान देना होगा, काम और आराम के बीच में संतुलन स्थापित करें। भविष्यवक्ता और कुण्डली विश्ल़ेषक अनीष व्यास ने बताया कि इस साल की शुरुआत आपके स्वास्थ्य के लिए बहुत शुभ नहीं है। मार्च से जुलाई तक का समय स्वास्थ्य के लिहाज से सही नहीं है| इस दौरान आपको घुटनों में दर्द, जोड़ों में दर्द, गठिया, अपच जैसी समस्याएं परेशान कर सकती हैं| इस समय आपको अपने किसी पुराने रोग से मुक्ति मिलेगी जिससे आपकी सेहत में सुधार साफ़ देखने को मिलेगा। वर्ष के मध्य से आप अच्छे स्वास्थ्य का आनंद लेंगे। आपको अक्सर घबराहट की शिकायत रह सकती है इसलिए समय-समय पर चिकित्सीय परामर्श अवश्य लेते रहें ताकि अपने अच्छे स्वास्थ्य का आनंद ले पाएँ। इस साल आपको कठिन परिश्रम करने की आवश्यकता है। तभी सफलता हाथ लगेगी। इस वर्ष आपके कर्म भाव का स्वामी शनि इस पूरे साल आपकी राशि के नवम भाव में विराजमान रहेंगे, जिससे आपका भाग्य उदय होगा और करियर के क्षेत्र में आपको भरपूर सफलता मिलेगी। भविष्यवक्ता और कुण्डली विश्ल़ेषक अनीष व्यास ने बताया कि शनि देव की यह स्थिति आपका मनचाहा ट्रांसफर दिलाने में मदद करेगी।लेकिन प्रत्येक कार्य विलम्ब से होगा। इस पुरे वर्ष राहु का वृषभ राशि में होना आपकी प्रतिभा को बढ़ाएगा। आपके लिये अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन करने के अवसर भी यह समय लेकर आ सकता है। यह साल आपके लिए कुछ चुनौतीपूर्ण रहने की संभावना है। वर्ष की शुरुआत से ही धन लाभ के साथ खर्चे भी अधिक होंगे, इसलिए धन का निवेश बहुत ही सोच-समझकर करें। भविष्यवक्ता और कुण्डली विश्ल़ेषक अनीष व्यास ने बताया कि इस वर्ष यदि आपको आवश्यकता होगी तो अपने ससुराल पक्ष से भी आर्थिक सहायता प्राप्त हो सकती है। लेकिन उन से सहायता तभी ले जब आपको अति आवश्यक महसूस हो। इस समय धन प्राप्ति के नये स्त्रोत भी आप तलाश सकते हैं।

    ज्योतिष उपाय
    भविष्यवक्ता और कुण्डली विश्ल़ेषक अनीष व्यास ने बताया कि 9 वर्ष से छोटी कन्याओं को भोजन कराए और उनके चरण छूकर प्रतिदिन उनका आशीर्वाद लें। शुक्रवार के दिन सफेद मिठाई का दान करें। शनिवार के दिन चीटियों को आटा डालें और गौ-माता की सेवा करें।

राज्य चुनें Jagran Local News
  • उत्तर प्रदेश
  • पंजाब
  • दिल्ली
  • बिहार
  • उत्तराखंड
  • हरियाणा
  • मध्य प्रदेश
  • झारखण्ड
  • राजस्थान
  • जम्मू-कश्मीर
  • हिमाचल प्रदेश
  • छत्तीसगढ़
  • पश्चिम बंगाल
  • ओडिशा
  • महाराष्ट्र
  • गुजरात
आपका राज्य