This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

तुला वार्षिक राशिफल

01 Jan 2021-31 Dec 2021
  • तुला

    तुला

    Sep 23 - Oct 22

    पाल बालाजी ज्योतिष संस्थान जयपुर के निदेशक ज्योतिषाचार्य अनीष व्यास ने बताया कि जनवरी और फरवरी के महीने के दौरान आठवें घर में मंगल की स्थिति के चलते आपको अपने जीवन में गुप्त स्रोतों से धन कमाने के अवसर प्राप्त हो सकते हैं। इसके अलावा वृषभ राशि में नौवें भाव में राहु की स्थिति होने से आपको अचानक धन लाभ होगा जिससे कुल मिलाकर आपकी आर्थिक स्थिति मजबूत बनेगी। व्यवसाय विस्तार के लिए विदेश जाने के अवसर आपके लिए बेहतर परिणाम लेकर आएँगे। इस वर्ष सूर्य के चतुर्थ भाव में होने के चलते आप के ख़र्चों में वृद्धि होगी। नतीजा यह होगा कि इस वर्ष आप कोई नया वाहन, कोई घर या अपने सुख सुविधा की कोई भी चीज पर पैसा खर्च कर सकते हैं। यह वर्ष आपके लिये कार्यक्षेत्र में आर्थिक दृष्टि से सामान्य रहने वाला है। जहाँ साल की शुरुआत आपके लिए अच्छी रहेगी वहीं मध्य में आपको सावधान रहने की ज़रूरत होगी। इस वर्ष करियर में आपको अच्छी सफलताएं मिल सकती हैं। नई-नई योजनाएं आपके जहन में आ सकती हैं। यदि आप व्यापार करते हैं तो आपके लिए ये समय अच्छा रहने वाला है। लेकिन किसी सहयोगी के साथ व्यापार कर रहे जातकों को हानि होने की आशंका अधिक है।
    इस वर्ष करियर के लिहाज़ से कन्या राशि के जातकों को मिश्रित परिणाम हासिल होंगे। पंचम भाव में शनि और बृहस्पति की स्थिति आपके व्यापार और व्यवसाय में कुछ उथल पुथल या परेशानियां ला सकती है, लेकिन समय के साथ धीरे-धीरे चीजों में सुधार होगा और वापस सब कुछ पटरी पर आ जाएगा। भविष्यवक्ता और कुण्डली विश्ल़ेषक अनीष व्यास ने बताया कि यह वर्ष उन जातकों के लिए अनुकूल साबित होगा जो आयात-निर्यात के कारोबार से संबंध रखते हैं। इसके अलावा सूर्य और बुध की युति चतुर्थ भाव में होने से पेशे में उन्नति हासिल होगी। जो जातक विदेश जाना चाहते हैं उन्हें जनवरी से लेकर जुलाई तक के महीने में इस संदर्भ में शुभ परिणाम हासिल होने की प्रबल संभावना है। यह साल कन्या राशि के जातकों के लिए मिश्रित परिणाम लेकर आएगा। वित्त का स्वामी शुक्र केतु के साथ तीसरे घर में युति में है जो इस बात की तरफ इशारा करता है कि इस दौरान आर्थिक पक्ष के लिहाज से आप की स्थिति में सुधार होगा। भविष्यवक्ता और कुण्डली विश्ल़ेषक अनीष व्यास ने बताया कि शुक्र और केतु की मौजूदगी आपके जीवन में आय के कई नए स्रोत लेकर आएगी।

    पाल बालाजी ज्योतिष संस्थान जयपुर के निदेशक ज्योतिषाचार्य अनीष व्यास ने बताया कि यह वर्ष कन्या राशि के जातकों के लिए अनुकूल साबित होगा। आपके विवाहित जीवन के स्वामी बृहस्पति पांचवें घर में स्थित हैं इसलिए इस वर्ष आप अपने जीवन साथी के साथ खट्टे-मीठे पलों को जिएंगे और उन का आनंद उठाएंगे। यह वर्ष उन लोगों के लिए भी बेहद शुभ साबित होगा जो शादी करना चाहते हैं और अपने प्रेम जीवन को शादी के बंधन में तब्दील करने का विचार कर रहे हैं। साल के मध्य में भी आपके वैवाहिक जीवन के लिहाज से आपको अच्छे नतीजे प्राप्त होंगे। जहां तक बात आपके प्रेम जीवन की है तो इस दौरान आप कुछ असमंजस की स्थिति में रहने वाले हैं। इस वर्ष आपको अपने और अपने साथी के बीच मतभेद नजर आएँगे। भविष्यवक्ता और कुण्डली विश्ल़ेषक अनीष व्यास ने बताया कि अगर आप अपने झगड़ों गलतफहमियों और लड़ाइयों को संभालते नहीं है तो स्थिति बद से बदतर हो जाएगी। आपके रिश्ते में होने वाली किसी भी समस्या का मुख्य कारण आप दोनों के बीच में चल रही ग़लतफहमी और आप दोनों का गुस्सा है, इसीलिए आपको सलाह दी जाती है कि इस दौरान शांति से रहे और अपने रिश्ते को वापस सही करने के लिए अपने पार्टनर से अच्छे ढंग से बातचीत करें। यह वर्ष कन्या राशि के जातकों के लिए अनुकूल परिणाम लेकर आएगा। शिक्षा के स्वामी शनि बृहस्पति के साथ युति में अपनी ही राशि में मौजूद है। पाल बालाजी ज्योतिष संस्थान जयपुर के निदेशक ज्योतिषाचार्य अनीष व्यास ने बताया कि यह बात इस तरफ इशारा करती है कि यह वर्ष निश्चित रूप से उन छात्रों के लिए फ़ायदेमंद साबित होगा जो उच्च शिक्षा हासिल करने के बारे में विचार कर रहे हैं। यह वर्ष आपके लिए अच्छे स्वास्थ्य की सौगात लेकर आएगा। चौथे भाव में सूर्य की बुध के साथ युति होने से वर्ष की शुरुआत में आपको अपने स्वास्थ्य के संबंध में शुभ परिणाम हासिल होंगे। भविष्यवक्ता और कुण्डली विश्ल़ेषक अनीष व्यास ने बताया कि इसके अलावा तीसरे घर में केतु की मौजूदगी आपको उचित ऊर्जा प्रदान करेगी और साथ ही अपने स्वास्थ्य को उत्तम बनाए रखने के लिए आपको साहस भी देगी।

    ज्योतिष उपाय
    भविष्यवक्ता और कुण्डली विश्ल़ेषक अनीष व्यास ने बताया कि काली वस्तुओं का दान करें। अपने बड़े-बुजुर्गों, गुरुओं का आशीर्वाद लें। दुर्गा चालीसा का पाठ करें। माता के मंदिर में जाकर माता रानी को लाल फूल और लाल फल अर्पित करें।

राज्य चुनें Jagran Local News
  • उत्तर प्रदेश
  • पंजाब
  • दिल्ली
  • बिहार
  • उत्तराखंड
  • हरियाणा
  • मध्य प्रदेश
  • झारखण्ड
  • राजस्थान
  • जम्मू-कश्मीर
  • हिमाचल प्रदेश
  • छत्तीसगढ़
  • पश्चिम बंगाल
  • ओडिशा
  • महाराष्ट्र
  • गुजरात
आपका राज्य