Rajasthan: बीएसएफ ने तैयार किया एंटी ड्रोन सिस्टम, जवानों को किया प्रशिक्षित

बीएसएफ की बवलियान चौकी पर शुरू होगा बॉर्डर ट्यूरिज्म पुलिस ने पाकिस्तान से सटे जैसलमेर बाड़मेर श्रीगंगानगर बीकानेर और जोधपुर जिलों में सुरक्षा बढ़ाई है। सीमावर्ती इलाकों के पुलिस थाना अधिकारियों को बीएसएफ के साथ तालमेर रखकर काम करने के लिए कहा गया है।

Priti JhaPublish: Tue, 25 Jan 2022 04:04 PM (IST)Updated: Tue, 25 Jan 2022 04:04 PM (IST)
Rajasthan: बीएसएफ ने तैयार किया एंटी ड्रोन सिस्टम, जवानों को किया प्रशिक्षित

जागरण संवाददाता, जयपुर। गणतंत्र दिवस समारोह के एक दिन पहले पाकिस्तान से सटी राजस्थान सीमा पर सुरक्षा बढ़ा दी गई है। सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के जवान तेज सर्दी के बीच पाकिस्तान की तरफ से घुसपैठ की संभावना को देखते हुए चौकस हैं। इस बीच बीएसएफ के डीआईजी पंकज कुमार सिंह ने कहा कि पाकिस्तान सीमा पर ड्रोन एक नई चुनौती बना है। लेकिन बहुत कम समय में हमनें एंटी ड्रोन सिस्टम विकसित कर लिया है।

मंगलवार को जोधपुर स्थित बीएसएफ मुख्यालय में पत्रकारों से बात करते हुए उन्होंने कहा कि सीमा की सुरक्षा में जो पहले अलग तरह की चुनौतियां थी,वह ड्रोन पर शिफ्ट हो गई है। जवानों को एंटी ड्रोन सिस्टम के लिए काम करने को लेकर प्रशिक्षित किया गया है। ड्रोन की चुनौती को गंभीरता से लिया जा रहा है। सिंह ने कहा कि पुलिस और वायुसेना के साथ भी समन्वय कायम किया गया है। उन्होंने कहा कि बीएसएफ की जोधपुर फ्रंटियर के तत्वाधान में जैसलमेर के पास बवलियान चौकी पर अगले कुछ दिनों में अटारी बॉर्डर जैसा नजारा देखने को मिलेगा ।

बीएसएफ और राज्य सरकार के बीच समन्वय स्थापित कर बॉर्डर टयूरिज्म विकसित किया जा रहा है। इसके तहत बवलियान चौकी पर दो हजार लोगों के बैठने की क्षमता का स्टेडियम तैयार किया गया है। शुरूआती दिनों में सप्ताह के अंतिम दिनों में यहां बीटिंग रिस्ट्रिट का आयोजन होगा । यहां से पाकिस्तान की सीमा चौकी करीब दो किलोमीटर दूरी पर है। उन्होंने बताया कि बवालियान के बाद खाजूवाला और सांचू चौकी पर भी बॉर्डर ट्यूरिज्म शुरू किया जाएगा। इससे अंतरराष्ट्रीय सीमा देखने के इच्छ़ुक लोगों के लिए नए अवसर पैदा होंगे। उधर पुलिस ने पाकिस्तान से सटे जैसलमेर, बाड़मेर, श्रीगंगानगर, बीकानेर और जोधपुर जिलों में सुरक्षा बढ़ाई है। सीमावर्ती इलाकों के पुलिस थाना अधिकारियों को बीएसएफ के साथ तालमेर रखकर काम करने के लिए कहा गया है। 

Edited By Priti Jha

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept