बधाई संदेशों में सिगला की फोटो गायब

जिले की राजनीति सियासत पर पिछले साढ़े चार वर्षों से एकाधिकार जमाए बैठे विजयइंद्र सिगला को ऐन वक्त पर झटके लगने शुरू हो गए हैं।

JagranPublish: Wed, 22 Dec 2021 09:48 PM (IST)Updated: Wed, 22 Dec 2021 09:48 PM (IST)
बधाई संदेशों में सिगला की फोटो गायब

सचिन धनजस, संगरूर : जिले की राजनीति सियासत पर पिछले साढ़े चार वर्षों से एकाधिकार जमाए बैठे विजयइंद्र सिगला को ऐन वक्त पर झटके लगने शुरू हो गए हैं। जहां जिला प्रधान की नियुक्ति कैबिनेट मंत्री विजयइंद्र सिगला के खिलाफ जाकर की गई, वहीं जिला प्रधान के बधाई संदेशों में पूरे जिले के नेताओं की फोटो के बीच सिगला की फोटो गायब कर जिला प्रधान ने भी बगावती स्वर दिखाने शुरू कर दिए हैं। उधर, राजनीतिक हलकों में चर्चा होने लगी है कि कैप्टन की सत्ता परिवर्तन के बाद जिले में विजयइंद्र सिगला को आने वाले दिनों में और चुनौतियों का सामना करना पड़ेगा।

गौर हो कि कैप्टन सरकार के दौरान जिले में वही होता रहा, जो विजयइंद्र सिगला चाहते थे। ब्लाक स्तर की नियुक्ति से लेकर जिला स्तर व पंजाब स्तर पर कांग्रेसी को पद दिलाने में सिगला की अहम भूमिका रहती थी। यही नहीं, किसी कांग्रेसी को सरकार में पद दिलाने में भी सिगला हमेशा अन्य कांग्रेसी नेताओं व विधायकों से बाजी मार जाते थे, लेकिन कैप्टन के सत्ता से बाहर होते ही सिगला को लगातार चुनौतियां मिलनी शुरू हो गई हैं, जिसको लेकर राजनीतिक हलकों में भी तरह-तरह की चर्चाएं पैदा होने लगी हैं।

सूत्रों की मानें, तो जिला प्रधान महेंद्रपाल भोला को मालेरकोटला जिले से संबंधित अमरगढ़ हलके के विधायक सुरजीत सिंह धीमान ने जिला प्रधानगी पद पर बिठाया है। सुरजीत धीमान मौजूदा कांग्रेस अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू के खासे करीबी माने जाते हैं। कैप्टन के खिलाफ बगावत के दिनों में ही धीमान ने खुलकर सिद्धू का समर्थन किया था।

अब महेंद्रपाल भोला के प्रधान बनने के बाद संगरूर शहर में जगह-जगह पर पोस्टर लगे हुए हैं, जिसमें पंजाब अध्यक्ष सिद्धू व मुख्यमंत्री चन्नी के अलावा सुरजीत धीमान व उनके पुत्र जसविदर धीमान, लहरागागा इंचार्ज व पूर्व मुख्यमंत्री राजिदर कौर भट्ठल, धूरी विधायक दलवीर सिंह गोल्डी व दिड़बा इंचार्ज अजैब सिंह रटौल की फोटो तो लगाई गई है, लेकिन संगरूर से विधायक व कैबिनेट मंत्री विजयइंद्र सिगला की फोटो पोस्टरों से गायब है।

उधर, जब पोस्टरों पर विजयइंद्र सिगला की फोटो न होने के बारे में जिला प्रधान महेंद्रपाल भोला से बातचीत हुई, तो उन्होंने कहा कि यह पोस्टर उनके समर्थकों ने लगाए हैं। उन्हें नहीं पता कि किसकी फोटो लगाई गई है और किसकी नहीं लगाई गई है। उन्होंने कहा कि समर्थकों अपने इच्छा मुताबिक फोटो लगाए हैं।

बहरहाल, महेंद्रपाल भोला के ऐसे ब्यान साफ करते हैं कि जिला प्रधान के चुनाव दौरान शायद कैबिनेट मंत्री ने उनका साथ नहीं दिया, जिस वजह से हलका संगरूर में ही विजयइंद्र सिगला की फोटो पोस्टरों से गायब कर दी गई है।

Edited By Jagran

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept