मोरिडा अनाज मंडी में पानी में डूबीं धान की बोरियां

मोरिडा में हुई बेमोसमी बारिश के कारण किसानों आढतियों और शैलर मालिकों का बहुत नुकसान हुआ है।

JagranPublish: Sun, 24 Oct 2021 11:32 PM (IST)Updated: Sun, 24 Oct 2021 11:32 PM (IST)
मोरिडा अनाज मंडी में पानी में डूबीं धान की बोरियां

संवाद सूत्र, मोरिडा: मोरिडा में हुई बेमोसमी बारिश के कारण किसानों, आढतियों और शैलर मालिकों का बहुत नुकसान हुआ है। मोरिडा में तीस एकड़ में बनी अनाज मंडी, फोकल प्वाईंट रसूलपुर और चक्कलां में धान की फसल पानी में डूब गई। इसके अलावा तेज हवाओं के कारण धान की फसल खेतों में बिछ गई। संयुक्त किसान मोर्चा के नेता परमिदर सिंह चलाकी, दलजीत सिंह चलाकी, परमजीत सिंह अमराली, गुरचरन सिंह ढोलनमाजरा, करनैल सिंह डूमछेड़ी, रणधीर सिंह, संतोख सिंह कलहेड़ी ने कहा कि अभी किसानों की पचास फीसदी धान की कटाई होनी रहती है। बे मौसमी बरसात ने किसानों का बहुत बड़ा नुकसान किया है। आढ़ती एसोसिएशन मोरिडा के प्रधान जुझार सिंह मावी ने कहा कि अनाज मंडी मोरिडा में 60 फीसद धान की आमद हो चुकी है, जिस में सिर्फ 50 फीसद की लिफ्टिंग हुई है। लगभग एक लाख क्विंटल धान की फसल मंडी में पड़ी है। मंडी में मौजूद आढ़ती गुरविदर सिंह बंगियां ने बताया कि इस बारिश के कारण उनको काफी नुकसान हुआ है। इस मौके शैलर एसोसिएशन के प्रधान प्रेम सिंह रौणी ने कहा कि बेमौसमी बारिश के कारण धान की छटाई और सुखाई करने के लिए उनका काफी खर्च होगा। वहींएसडीएम मोरिडा रविदर सिंह ने कहा कि बारिश से हुए नुकसान का जायजा लिया जाएगा। गिरदावरी करवा कर रिपोर्ट पंजाब सरकार को भेजी जाएगी। नूरपुरबेदी मंडी में खुली अधूरे प्रबंधों की पोल संवाद सहयोगी, नूरपुरबेदी: रविवार को हुई बारिश ने किसानों की खेतों में खड़ी और काटकर रखी धान की फसल को तबाह कर दिया है। वहीं अनाज मंडी में अभी तक 13 हजार बोरियों की खरीद एजेंसी ने कर ली है, जबकि करीब सात बोरियां अभी लिफ्ट नहीं हुई हैं। हजार कट्टा खुले आसमान के तले पड़ा हुआ है जिसे सरकारी एजंसी द्वारा ढक कर रख हुआ है।अचानक मौसम खराब होने से वह कटा हुआ धान संभालने से वंचित रह गए। गांव हरिपुर के एक किसान परम ने बताया कि उसके खेतों में काफी मात्रा में फसल कटी हुई पड़ी है और जो बारिश के पानी में डूबकर खराब हो चुकी है। वहीं नूरपुरबेदी की अनाज मंडी जिसे किराए पर जमीन लेकर अस्थायी तौर पर चलाया जा रहा है, में कोई शेड न होने से बारिश के कारण जगह-जगह पानी जमा हो गया है। इस संबंधी मार्किट कमेटी के सचिव सुर्रद्रपाल ने कहा कि मंडियों में धान की संभाल के लिए समूचे प्रबंध किए गए हैं और फसल को वारिश व खराब मौसम से बचाने के लिए तिरपालों को इंतजाम किया गया है।

Edited By Jagran

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept