घनौर में 1100 एकड़ में बनने वाले आईटी पार्क पर लटकी तलवार

साल 2020 राज्य के युवाओं व जिला पटियाला के लोगों के लिए एक नई आस लेकर आया था। सीएम और किसानों की रजामंदी के बाद आईटी पार्क बनने की घोषणा ने लोगों में जोश भर दिया था।

JagranPublish: Fri, 21 Jan 2022 08:13 PM (IST)Updated: Fri, 21 Jan 2022 08:13 PM (IST)
घनौर में 1100 एकड़ में बनने वाले  आईटी पार्क पर लटकी तलवार

प्रिस तनेजा, राजपुरा (पटियाला)

साल 2020 राज्य के युवाओं व जिला पटियाला के लोगों के लिए एक नई आस लेकर आया था। सीएम और किसानों की रजामंदी के बाद आईटी पार्क बनने की घोषणा ने लोगों में जोश भर दिया था। इतना ही नहीं, करीब एक लाख लोगों के लिए रोजगार की बात भी कही जा रही थी, लेकिन चुनाव से पहले ही सीएम के बदल जाने के बाद मामला ठंडा हो गया और इस पर तलवार लटकती नजर आ रही है। अब आईटी पार्क पर नई सरकार फैसला ले सकती है, जिससे इलाके के लोगों में मायूसी देखी जा सकती है कि नई सरकार इस मुद्दे पर क्या रुख अपनाती है।

जिक्रयोग्य है कि राजपुरा में 1100 एकड़ जमीन पर पंजाब सरकार की पंजाब स्माल इंडस्ट्री डेवलपमेंट कार्पोरेशन (पीएसआईडीसी) की मदद से आईटी पार्क का निर्माण कार्य बीते वर्ष शुरू करवाया जाना था। इसके लिए बाकायदा जमीन भी एक्वायर करवा ली गई। राजपुरा व घनौर में ही ऐसी 100 से ज्यादा बहुराष्ट्रीय कंपनियों के आने की उम्मीद है। फिलहाल सोनी, विप्रो, एचपी, रिलायंस, टाटा आदि कई कंपनियों भी दिलचस्पी दिखाने के साथ निवेश कर सकती हैं। इसके लिए बाकायदा उनसे बातचीत भी चल रही थी। आईटी पार्क के निर्माण से युवाओं को रोजगार देने की आस भी जताई गई। इन क्षेत्रों में रोजगार देने का किया था दावा

आईटी हब बनने के बाद मैकेनिकल, इलेक्ट्रानिक, कंप्यूटर, केमिकल आदि इंजीनियरिग कर रहे छात्रों के लिए बेहतर रोजगार के अवसर मिलेंगे। इसके अलावा बीटेक, एमटेक पोलिटेक्निक सहित सभी टेक्निकल विषयों में स्नातक होने वाले युवाओं को इस हब में प्रवेश मिलेगा। इसके साथ ही करीब दस हजार नौकरियां बीसीए, एमसीए, बीबीए, एमबीए, सहित नान टेक्निकल क्षेत्र के लोगों को मिल पाएंगी। इसके अलावा रिसेप्शनिस्ट, गार्ड, सुपरवाइजर, क्लर्क और अकाउंटेंट आदि भी रोजगार प्राप्त कर पाएंगे। पुक्का के अध्यक्ष व आर्यंस ग्रुप के चेयरमैन डा. अंशु कटारिया का कहना है कि आईटी पार्क बनने से जहां युवाओं के लिए रोजगार के साधन बढ़ेंगे वहीं इलाके के कालेजों को भी बेहद फायदा होगा। एक्वायर की गई 1100 एकड़ जमीन पर फिलहाल काम शुरू नहीं हो सका है। हमें यह पता चला है आईटी पार्क बनवाने से बाईपास तैयार करवाना है जिसको लेकर टीमें सर्वे कर गई हैं। नई सरकार के आने पर ही अब आईटी पार्क का कार्य सिरे चढ़ सकता है। इससे यकीनन आसपास के लोगों को व विद्यार्थियों को काफी फायदा होगा।

हरसंगत सिंह, सरपंच, गांव तख्तूमाजरा आईटी पार्क की जो बुनियाद कांग्रेस पार्टी ने रखी है, वह बनकर रहेगा। इसके लिए जहां जमीन एक्ववायर कर ली गई है वहीं आईटी पार्क का निर्माण कार्य भी शुरू करवाने के लिए प्रस्ताव पास कर दिया गया है। कांग्रेस की सरकार बनते ही इस कार्य को पूर्ण करवा दिया जाएगा ताकि जो सपना नौजवानों ने देखा है, उसे पूरा किया जा सके।

मदनलाल जलालपुर, विधायक।

Edited By Jagran

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept