प्रापर्टी टैक्स चोरी करने वालों पर शिकंजा, माल को भेजा नोटिस

पांच मरला से कम सिगल स्टोरी सेना में कार्यरत व विधवा धारकों को प्रति वर्ष पांच हजार रुपये का बनने वाला टैक्स माफ किया हुआ है। जारी वित्तीय वर्ष के तीन करोड़ लक्ष्य में अभी तक प्रापर्टी टैक्स ब्रांच ने एक करोड़ 25 लाख का राजस्व प्राप्त कर लिया है।

JagranPublish: Sat, 25 Jun 2022 04:47 PM (IST)Updated: Sat, 25 Jun 2022 04:47 PM (IST)
प्रापर्टी टैक्स चोरी करने वालों पर शिकंजा, माल को भेजा नोटिस

जागरण संवाददाता, पठानकोट: कम प्रापर्टी दिखाकर टैक्स चोरी करने वाले डिफाल्टरों पर निगम प्रशासन ने नकेल कसनी शुरू कर दी है। इसके तहत निगम की सर्वे टीम ने टैक्स जमा न करवाने वाले करीब 436 कामर्शियल प्रापर्टी मालिकों को नोटिस जारी किए हैं। टैक्स जमा करवाने वालों की री-चेकिग के लिए गठित की गई तीनों टीमों को रोजाना अपनी रिपोर्ट कार्यालय में देने के लिए कहा गया है, ताकि साथ के साथ नोटिस जारी किए जा सकें। इसके अलावा शहर के एक माल प्रबंधन को विशेष तौर पर नोटिस जारी कर अपने किराएदारों द्वारा किस हिसाब से रेंट वसूल रहे हैं, इसकी डिटेल देने को कहा गया है। उसके हिसाब से जारी वित्तीय वर्ष का टैक्स प्राप्त किया जा एगा। प्रबंधन अगर डिटेल नहीं देता तो उसे नोटिस जारी किया जाएगा। उसे भी यदि हलके में लिया तो निगम प्रापर्टी सील करने के लिए उन्हें अंतिम बार नोटिस जारी करेगा। इसके बाद निगम प्रशासन के आदेश पर प्रापर्टी को सील कर दिया जाएगा। 22,543 उपभोक्ता आते हैं माफी के दायरे में

सवा दो लाख की आबादी वाले पठानकोट नगर निगम के अधीन कुल 57,933 उपभोक्ता है। इनमें से 22,543 उपभोक्ताओं को राज्य सरकार द्वारा प्रापर्टी टैक्स में छूट दी गई है। इनमें पांच मरला से कम सिगल स्टोरी, सेना में कार्यरत व विधवा धारकों को प्रति वर्ष पांच हजार रुपये का बनने वाला टैक्स माफ किया हुआ है। जारी वित्तीय वर्ष के तीन करोड़ लक्ष्य में अभी तक प्रापर्टी टैक्स ब्रांच ने एक करोड़ 25 लाख का राजस्व प्राप्त कर लिया है। तीन टीमों के जरिए 436 को जारी किया नोटिस

लोगों की ओर से जमा करवाए गए प्रापर्टी टैक्स को अपने स्तर पर चेक करने के लिए निगम ने तीन टीमों का गठन किया है। पहले चरण में यह टीमें कमर्शियल प्रापर्टी चेक कर रही हैं। टीम ने करीब 436 ऐसे धारक चिन्हित किए हैं जिन्होंने अभी तक अपना प्रापर्टी टैक्स जमा नहीं करवाया है। इसके आधार पर उन्हें नोटिस जारी किए गए हैं। निगम द्वारा गठित की गई टीमें मामून से सिटी एरिया, मेन बाजार से ढांगू रोड़ तथा वाल्मीकि चौक से मलिकपुर, सरना एरिया में चेकिग कर रही हैं। सीलिग से पहले एक नोटिस किया जाएगा जारी : सुपरिंटेंडेंट

नगर निगम के सुपरिंटेंडेंट कम ब्रांच इंचार्ज इंद्रजीत सिंह ने कहा कि अगर एक सप्ताह में अगर नोटिस का जवाब नहीं देते तो उन्हें रिमाइंडर भेजा जाएगा। रिमाइंडर को भी यदि हलके में लिया तो उन्हें सीलिग से पहले नोटिस जारी करने के बाद हायर अथारिटी के आदेश पर प्रापर्टी की सील कर दिया जाएगा।

Edited By Jagran

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept