चंबा वाया दुनेरा रूट पर बस सेवा बंद, लोगों ने किया रोष प्रदर्शन

क्षेत्र के लोगों को अपने छोटे से छोटे काम के लिए जिला मुख्यालय पठानकोट में जाना पड़ता है परंतु पर्याप्त ट्रांसपोर्ट सुविधा के न होने से उन्हें पठानकोट तक पचास किलोमीटर दूर का सफर हिमाचल प्रदेश के चंबा-डलहौजी से आने वाली बसों में खड़े होकर करना पड़ता है।

JagranPublish: Sun, 26 Jun 2022 05:24 PM (IST)Updated: Sun, 26 Jun 2022 05:24 PM (IST)
चंबा वाया दुनेरा रूट पर बस सेवा बंद, लोगों ने किया रोष प्रदर्शन

संवाद सहयोगी, दुनेरा: धार कलां तहसील के विभिन्न गांवों के लोग बीते लंबे समय से क्षेत्र में ट्रांसपोर्ट सर्विसेज के लिए परेशान हैं। क्षेत्रवासियों का कहना है कि चुनाव के दिनों में राजनीतिक पार्टियों के प्रतिनिधि लोगों को उनकी समस्याओं का पहल के आधार पर हल करने की बातें तो करते हैं, लेकिन चुनाव संपन्न होते ही किए गए सभी वादे ठंडे बस्ते में डाल दिए जाते हैं। पंजाब रोडवेज पठानकोट डिपो द्वारा चंबा वाया दुनेरा रूट बंद किए जाने के कारण लोगों के लिए भारी परेशानियां पैदा हो गई हैं।

क्षेत्र के लोगों को अपने छोटे से छोटे काम के लिए जिला मुख्यालय पठानकोट में जाना पड़ता है, परंतु पर्याप्त ट्रांसपोर्ट सुविधा के न होने से उन्हें पठानकोट तक पचास किलोमीटर दूर का सफर हिमाचल प्रदेश के चंबा-डलहौजी से आने वाली बसों में खड़े होकर करना पड़ता है। बस सेवा बंद होने के रोष स्वरूप रविवार को क्षेत्रवासियों ने दुनेरा बाजार में विभाग के खिलाफ रोष प्रदर्शन कर अपनी नाराजगी जताई।

इस दौरान विशाल मेहरा, पूर्व सरपंच काका शर्मा, काला मेहरा,भवनीत महाजन, मंगा शर्मा, सुशील अनु कुमार आदि ने बताया कि पंजाब रोडवेज पठानकोट डिपो की ओर से पठानकोट से डलहौजी सुबह आठ बजे, पठानकोट से चंबा दोपहर 1:45 पर व शाम चार बजे पठानकोट से बकलोह के रूट बंद कर दिए गए हैं। इस कारण क्षेत्र के लोगों, कालेज विद्यार्थियों व पठानकोट में कार्यरत कर्मचारियों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने हैरानी जताते हुए कहा कि आजकल डलहौजी चंबा में वैसे ही पर्यटक गर्मियों में आ जा रहें हैं, जिससे यह रुट विभाग के लिए भी फायदेमंद साबित होंगे, लेकिन परंतु राज्य ट्रांसपोर्ट विभाग का पंजाब रोडवेज पठानकोट डिपो जानबूझ कर इन रूटों को बंद करके रोडवेज के साथ-साथ पंजाब सरकार को आर्थिक नुकसान पहुंचा रहा है। उन्होंने कहा कि इन रूटों पर तो राज्य सरकार की फ्री महिला यात्रियों से भी सरकार को कोई नुकसान नहीं पहुंचेगा, क्योंकि चालीस किलोमीटर का क्षेत्र छोड़कर बसें ज्यादा सफर हिमाचल में ही करेगीं। उन्होंने पंजाब सरकार के परिवहन मंत्री एवं मुख्यमंत्री भगवंत मान से मांग है कि उक्त रूटों पर तुरंत बसें चलाई जाएं, ताकि आने जाने वाले धार कलां के ग्रामीण इलाकों के साथ साथ पंजाब सरकार एवं पंजाब रोडवेज पठानकोट डिपो को भी आर्थिक रूप से लाभ हो सके।

Edited By Jagran

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept