तिरंगे देखकर केजरीवाल को आई अन्ना आंदोलन की याद, बोले- दोस्तों आज मजा आ गया

केजरीवाल ने कहा कि पठानकोट की तिरंगा रैली को देखकर उन्हें दिल्ली के अन्ना आंदोलन की याद आ गई। इससे पहले इतनी संख्या में तिरंगे लहराते व देशभक्ति का संगीत गूंजते उन्होंने वहीं देखा था।

JagranPublish: Thu, 02 Dec 2021 11:36 PM (IST)Updated: Thu, 02 Dec 2021 11:36 PM (IST)
तिरंगे देखकर केजरीवाल को आई अन्ना आंदोलन की याद, बोले- दोस्तों आज मजा आ गया

जागरण संवाददाता, पठानकोट: आप की तिरंगा यात्रा में शामिल होने पहुंचे पार्टी के संयोजक एवं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविद केजरीवाल तय समय दोपहर 12 बजे के बजाय सवा दो बजे पहुंचे। केजरीवाल के लिए तैयार किए गए मंच पर वो चंद सेकेंड ही रुके और वहां कोई भाषण न करते हुए सीधे तिरंगा यात्रा के लिए तैयार रथ पर अन्य पार्टी नेताओं के सवार होकर यात्रा पर निकल पड़े। अरूदां वाली झुग्गी मोड़ से शुरू हुई आम आदमी पार्टी की तिरंगा यात्रा को एक किलोमीटर का सफर तय कर सलारिया चौक पहुंचने तक सवा दो घंटे से अधिक का समय लगा। इस दौरान हाथों में तिरंगे लिए पार्टी के सैकड़ों कार्यकर्ता केजरीवाल के वाहन रूपी रथ के आगे-पीछे चल रहे थे। पंजाब पुलिस की ओर से केजरीवाल की तिरंगा यात्रा के लिए पुख्ता प्रबंध किए गए थे। दो एसपी रैंक के अधिकारी, भारी पुलिस बल और एसओजी की टीम तिरंगा यात्रा को सुरक्षा मुहैया करवाते रहे।

करीब ढाई घंटे तक पठानकोट की सड़कों पर सैकड़ों कार्यकर्ताओं की ओर से तिरंगा लहराने के बीच यात्रा तय करते हुए केजरीवाल ने अन्य पार्टी नेताओं सहित लोगों का अभिवादन स्वीकार किया। केजरीवाल ने कहा कि पठानकोट की तिरंगा रैली को देखकर उन्हें दिल्ली के अन्ना आंदोलन की याद आ गई। इससे पहले इतनी संख्या में तिरंगे लहराते व देशभक्ति का संगीत गूंजते उन्होंने वहीं देखा था। उन्होंने कहा- 'दोस्तों इतने सारे तिरंगे देखकर आज मजा आ गया..। यहा पर दिल में कुछ-कुछ होता है।' उन्होंने कहा कि इतने तिरंगे हम लोगों ने अन्ना आदोलन में देखे थे।

केजरीवाल ने कहा कि पंजाब के लोग भलीभांति समझ गए हैं कि उन्हें क्या करना है। केजरीवाल यात्रा स्थल से पहले पठानकोट के चंबा रेस्ट हाउस पहुंचे थे। वहां से वे यात्रा स्थल पहुंचे और रैली को सलारिया चौक में संबोधित करने के बाद तत्काल वहां से रवाना हो गए।

तिरंगा यात्रा के दौरान दिल्ली के मुख्यमंत्री एवं आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविद केजरीवाल के साथ दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मुनीष सिसौदिया, पार्टी के राष्टीय प्रवक्ता एवं वरिष्ठ नेता राघव चड्ढा, सांसद भगवंत मान, पठानकोट हलका इंचार्ज विभूति शर्मा, भोआ हलका इंचार्ज लाल चंद कटारुचक्क, गुरदासपुर हलका इंचार्ज रमन बहल, शहीद त्रिवेणी सिंह की मासी सुरेंद्र कौर सहित पठानकोट व प्रदेश के विभिन्न शहरों से लीडरशिप मौजूद रही।

Edited By Jagran

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept