कैप्टन के नजदीकी सतवीर सिंह पल्ली-झिक्की बनें भाजपा गठजोड़ के प्रत्याशी

पूर्व चीफ मिनिस्टर कैप्टन अमरिदर सिंह करीबी जिला योजना बोर्ड के चेयरमैन को मैदान में उतारा।

JagranPublish: Sun, 23 Jan 2022 05:58 PM (IST)Updated: Sun, 23 Jan 2022 05:58 PM (IST)
कैप्टन के नजदीकी सतवीर सिंह पल्ली-झिक्की बनें भाजपा गठजोड़ के प्रत्याशी

जागरण संवाददाता, नवांशहर

पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिदर सिंह करीबी जिला योजना बोर्ड के चेयरमैन सतवीर सिंह पल्लीझिक्की को नवांशहर विधानसभा क्षेत्र से भाजपा गठजोड़ का प्रत्याशी बनाया गया है। सतवीर कैप्टन के बेहद करीबी माने जाते हैं। कैप्टन की ओर से कांग्रेस पार्टी छोड़ने के पहले दिन से ही वे कैप्टन अमरिदर सिंह के साथ व सोशल मीडिया पर वो व उनके समर्थक कैप्टन के हक में प्रचार कर रहे थे। उसी समय सबको अंदाजा मिल गया था कि सतवीर सिंह पल्लीझिक्की कैप्टन के साथ ही कांग्रेस से इस्तीफा दे सकते हैं। कैप्टन की ओर से जब पंजाब लोक कांग्रेस पार्टी बनाई गई तब प्रदेश में पंजाब लोक कांग्रेस पार्टी के जिला प्रधानों की ओर से लिस्ट जारी की गई थी, इस लिस्ट में सतवीर सिंह का नाम भी था। इसके बाद कैप्टन की ओर से एक बैठक की गई व उस बैठक की एक वीडियो को सोशल मीडिया पर सांझा किया गया। जिसमें सतवीर सिंह पल्लीझिक्की बता रहे थे कि कैसे वर्ष 1999 में जब कई सौ बदमाशों ने उनके घर पर हमला कर दिया तो कैप्टन खुद उन्हें बचाने के लिए अपने समर्थकों के साथ उनके गांव पहुंचे थे।

विधायक अंगद सिंह के परिवार से है 36 का आंकड़ा

सतवीर सिंह पल्लीझिक्की का विधायक अंगद सिंह के परिवार से 36 का आंकड़ा है। भले ही वो कांग्रेस के जिला प्रधान या जिला योजना बोर्ड के चेयरमैन रह चुके हैं। पर विधायक अंगद सिंह व उनके परिवार से उनकी कभी नही बनीं। कहा तो यह भी जाता है कि अगर कैप्टन अमरिदर सिंह कांग्रेस पार्टी नही छोड़ते व कांग्रेस उनको मुख्यमंत्री चेहरा बना कर प्रदेश से चुनाव लड़ती तो नवांशहर से सतवीर पल्लीझिक्की को ही कैप्टन कांग्रेस की टिकट देकर पार्टी का उम्मीदवार बनाते। जिसकी भनक अंगद सिंह को पहले ही हो चुकी थी, यही कारण रहा कि अंगद सिंह कैप्टन के खेमे से अलग होते गए।

सैनी बिरादरी से आते हैं सतवीर सिंह पल्लीझिक्की

सतवीर सिंह पल्लीझिक्की कांग्रेस में कई पदों पर काम कर चुके हैं। वे कांग्रेस के यूथ के जिला प्रधान तो बाद में जिला प्रधान भी बनें। सतवीर सिंह को नवांशहर में टिकट देने का मुख्य मकसद एक सैनी बिरादरी की वोटों को प्राप्त करना है। वहीं कैप्टन का मुख्य मकसद विधायक अंगद सिंह या उनके परिवार के किसी सदस्य को टिकट मिलती है तो उनको जीतने नही देना है।क्यों कि सतवीर अधिकतर सैनी वोटरों को प्रभावित करेंगे। यह वही वोटर हैं जिनकी वजह से अंगद सिंह के पारिवारिक सदस्य नवांशहर से जीतते आ रहे हैं।

Edited By Jagran

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept