Protest In Ludhiana: परीक्षाएं आफलाइन लेने के विराेध में प्रदर्शन, जीएनई कालेज के छात्राें ने की नारेबाजी

Protest In Ludhiana कालेज परीक्षाएं आफलाइन लिए जाने के विरोध में सोमवार विद्यार्थियों ने कालेज गेट के बाहर नारेबाजी कर धरना दिया। गिल रोड स्थित गुरू नानक देव इंजीनियरिंग(जीएनई) कालेज के विद्यार्थियों ने इस दिन एकत्रित हो नारेबाजी की।

Vipin KumarPublish: Mon, 29 Nov 2021 02:00 PM (IST)Updated: Mon, 29 Nov 2021 02:00 PM (IST)
Protest In Ludhiana: परीक्षाएं आफलाइन लेने के विराेध में प्रदर्शन, जीएनई कालेज के छात्राें ने की नारेबाजी

जागरण संवाददाता, लुधियाना। Protest In Ludhiana: कालेज परीक्षाएं आफलाइन लिए जाने के विरोध में सोमवार काे विद्यार्थियों ने कालेज गेट के बाहर नारेबाजी कर धरना दिया। गिल रोड स्थित गुरु नानक देव इंजीनियरिंग (जीएनई) कालेज के विद्यार्थियों ने जमकर नारेबाजी की। विद्यार्थियों की केवल एक ही मांग रही कि परीक्षाएं आनलाइन ली जाए। कालेज आफलाइन परीक्षाओं का आयोजन क्यों कर रहा है। विद्यार्थियों ने आरोप लगाते कहा कि जब उन्होंने क्लासिस आनलाइन लगाई है तो परीक्षाएं भी आनलाइन ही ली जाए। पिछले महीने अक्तूबर से आफलाइन कक्षाएं शुरू की गई है और अभी तक सत्तर फीसदी सिलेबस अधूरा पढ़ा है।

ऐसे में वह आफलाइन परीक्षाएं कैसे दे सकते हैं। बता दें कि परीक्षाएं 9 दिसंबर से शुरू होने जा रही है। ऐसे में कालेज के फर्स्ट, सेकेंड, थर्ड ईयर के विद्यार्थियों ने आफलाइन परीक्षाएं लिए जाने के विरोध में धरना दे नारेबाजी की है जबकि विद्यार्थियों को यह भी कहना रहा कि उन्होंने हड़ताल की है और विरोध जताने के लिए कालेज के मुख्य गेट को कुछ समय के लिए भी बंद किया। फिलहाल विद्यार्थियों ने कुछ समय बाद गेट इस आश्वासन पर खोल दिया कि उनकी मांग को यूनिवर्सिटी तक पहुंचाया जाएगा।

दूसरी तरफ कालेज प्रिंसिपल डा. सहजपाल सिंह से जब बात की गई तो उनका कहना रहा कि कालेज विद्यार्थियों ने कोई हड़ताल नहीं की है। आफलाइन परीक्षाओं का विरोध करने वाले बहुत ही कम विद्यार्थी है। जबकि कालेज में इस दिन अन्य विद्यार्थियों ने पूरी क्लासिस लगाई है। धरना लगाने वाले जिन विद्यार्थियों ने आनलाइन परीक्षाएं लिए जाने की मांग रखी है। उनसे लिखित में मांग देने की बात कही गई है ताकि उन विद्यार्थियों की मांग को यूनिवर्सिटी तक पहुंचाया जा सके। परीक्षाएं आफलाइन लिए जाने का निर्णय यूनिवर्सिटी का है। कालेज इसमें अपने स्तर पर कुछ नहीं कर सकता है।

यह भी पढ़ें-Unemployment in Punjab: पंजाब में बेरोजगारी की दर सबसे ज्यादा, 3 हजार करोड़ की सबसिडी देने पर भी नहीं बदले हालात

Edited By Vipin Kumar

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept