पंजाब चुनाव 2022: साहनेवाल से कांग्रेस की टिकट के सबसे अधिक दावेदार, 31 नेताओं के कारण फंसा पेच

विधानसभा हलका साहनेवाल में कांग्रेस की टिकट को लेकर 31 उम्मीदवार होने के कारण पेच फंसा दिखाई दे रहा है। इस क्षेत्र से 31 संभावी कांग्रेसी उम्मीदवारों पर यदि नजर मारी जाए तो 2012 की विधान सभा चुनाव लड़ चुके विक्रम सिंह बाजवा काफी सक्रिय हैं।

Vinay KumarPublish: Mon, 17 Jan 2022 07:41 AM (IST)Updated: Mon, 17 Jan 2022 07:41 AM (IST)
पंजाब चुनाव 2022: साहनेवाल से कांग्रेस की टिकट के सबसे अधिक दावेदार, 31 नेताओं के कारण फंसा पेच

संवाद सूत्र, श्री माछीवाड़ा साहिब (लुधियाना)। Punjab Election 2022ः  विधानसभा हलका साहनेवाल से शिरोमणि अकाली दल बसपा गठजोड़ व 'आप' की तरफ से उम्मीदवारों को चुनाव मैदान में उतार दिया गया है, परंतु कांग्रेस की टिकट को लेकर 31 उम्मीदवार होने के कारण पेच फंसा दिखाई दे रहा है। इस क्षेत्र से 31 संभावी कांग्रेसी उम्मीदवारों पर यदि नजर मारी जाए तो 2012 की विधान सभा चुनाव लड़ चुके विक्रम सिंह बाजवा काफी सक्रिय हैं और टिकट के मजबूत दावेदार माने जा रहे हैं। बाजवा पिछले 10 वर्षों से क्षेत्र साहनेवाल में लोगों के सुख-दुख में साथ रहे हैं। पिछले एक वर्ष से क्षेत्र में कांग्रेस के जिला प्रधान रुपिंदर सिंह राजा गिल्ल ने भी अपनी सरगर्मियां काफी बढ़ाई हैं जो कांग्रेस के ही पूर्व मंत्री स्व. करम सिंह गिल्ल के सुपुत्र और कैबिनेट मंत्री गुरकीरत सिंह कोटली के नजदीकी रिश्तेदार हैं।

कैबिनेट मंत्री कोटली व क्षेत्र पायल के विधायक लखवीर सिंह लक्खा की तरफ से साहनेवाल में उन की सरगर्मियों को काफी हुलारा दिया जिस कारण यह सभी कांग्रेस हाईकमांड को भी राजा गिल्ल को टिकट देने की सिफारिश कर रहे हैं और चर्चो अनुसार वह अपनी टिकट पक्की मान रहे हैं। राजा गिल्ल ने क्षेत्र में अपनी गतिविधियों बडे योजनाबद्ध ढंग से शुरु की हुई हैं और मजबूत उमीदवार के तौर पर उभर कर सामने आए हैं। 2017 की विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की तरफ से चुनाव लड़ चुकी सतविंदर कौर बिट्टी भी इस बार दोबारा 2022 में टिकट के लिए एड़ी चोटी का जोर लगा रही है परंतु वह क्षेत्र में पार्टी की धड़ेबंदी खत्म करने में नाकाम रही। इसके अलावा लुधियाना नगर निगम में कौंसलर पाल सिंह ग्रेवाल की तरफ से भी क्षेत्र में काफी बड़े-बड़े होर्डिंग्स लगाकर अपनी दावेदारी जिताई जा रही है क्योंकि वह शहरी वोटराें पर अपना अच्छा आधार मान रहे हैं।

नौजवान वर्ग की बात की जाए तो 'नेशनल स्टूडेंट यूनियन आफ इंडिया' के पूर्व प्रधान इकबाल सिंह ग्रेवाल ने भी कांग्रेस हाईकमान के पास इस हलके से चुनाव लड़ने की इच्छा प्रगटाई है। इकबाल सिंह ग्रेवाल जहाँ नौजवान वर्ग में अपना अच्छा प्रभाव रखते हैं वहां वह एक बड़े किसान परिवार से भी संबंध रखते हैं। नौजवानों में यूथ कांग्रेस देहाती के प्रधान लक्की संधू और जिला परिषद मेंबर रमनीत सिंह गिल्ल भी टिकट लेने के लिए काफी जद्दो-जहद कर रहे हैं और अब इन सभी में से टिकट किस को मिलेगी, यह आने वाले 1-2 दिनों में पता लग जायेगा।

31 की बजाय कहीं कोई ओर न बाजी मार जाए

क्षेत्र साहनेवाल से 31 कांग्रेसी नेताओं ने चुनाव लड़ने की इच्छा प्रगटाई है जिस कारण कांग्रेस हाईकमान को इस पर फैसला करना कठिन महसूस हो रहा है, परंतु चर्चे यह हैं कि कहीं इन 31 की बजाय कोई ओर न बाजी मार जाए क्योंकि पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी और कांग्रेस प्रधान नवजोत सिंह सिद्धू आजकल क्षेत्र से संबंधित गांव कूंमकलां के प्रसिद्ध गायक गिप्पी ग्रेवाल के साथ काफी नजदीकियां दिखाई दे रही हैं।

Edited By Vinay Kumar

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept